Get Indian Girls For Sex

vlcsnap2015013115h03m01s202

दोस्तों मेरा नाम आशा है ,मेरी एक सबसे प्यारी सहेली है ,जिसका नाम निशा है .हम दोनो की उम्र में सिर्फ चार महीने का अंतर है .हम आठवीं से लेकर कोलेज तक साथ साथ पढ़े हैं .हमारी शक्लें भी मिलाती जुलती हैं ,लेकिन विचारों में काफी अंतर है .लोग हमें आशा निराशा की जोड़ी भी कहते हैं निशा मुझे अपनी सभी बातें खुल कर बता देती है.मैनेक पुराने विचार की लड़की हूँ ,लेकिन निशा काफी एडवांस है.उसे लड़कों से दोस्ती करना ,उनके साथ पिकनिक में जाना ,मूवी देखना और गंदे मजाक करना पसंद है .वह लड़कों के साथ चुदाई करवाने को बुरा नहीं मानती है.वह मुझे भी कहती है ,आशा आज जमाना काफी आगे बढ़ गया है ,लोग शादी से पाहिले चुदवाने को बुरा नहीं मानते ,हमें भी ज़माने के साथ चलाना चाहिए .अगर मैं अपनी चूत की गर्मी शांत करा लेती हूँ ,तो क्या पहाड़ टूट जाता है ,चूत को तो हर हाल में चुदाना है .चाहे आज चुदाओ ,या बाद में .लेकिन मैं उसकी बातों पर ध्यान नहीं देती थी
अक्सर निशा से मेरी सेक्स के बारे में बहस होती रहती है .एक दिन मैंने उस से सवाल किया कि क्या ऐसे लड़कों के साथ सोना उचित है ,जिसे तुम प्यार नहीं कराती ,जो सिर्फ दोस्त है .तो निशा नेकहा चुदाई के लिए प्यार की नहीं ,दमदार लंड की जरूरत होती है .लंड जैसे ही चूत के अन्दर जाता है ,प्यार होने लगता है .और चुदाई में मजा आने लगता है .चाहे लंड किसी का हो .जब चूत गर्म हो जाती है ,तो हरेक लंड प्यारा लगाने लगता है .चाहे किसी भी साइज का हो .
मैंने कहा मुझे इस बात पर विश्वास नहीं है .निशा ने कहा जब तेरी चूत गर्म होगी तो पता चलेगा .तू किसी से भी चुदवाने को तैयार हो जाएगी ..मैंने निशा से कहा ऐसा कभी नहीं हो सकता ,मुझे आपने दिल पर काबू करना आता है .निसा ने चुनौती दे कर कहा मैं तुझे एक महीने का समय देती हूँ ,देखना तू किसी से भी चुदवाने को तय्यार हो जाएगी .मैंने भी चुनौती कबूल कर ली .
उस दिन से निशा अपनी योजना बनाने लगी .मुझे पा था कि निशा के कई लडके दोस्त हैं ,जो मुझे भी जानते हैं ,जिसमे नीरज और प्रमोद मेरे घर के पास ही रहते हैं .निसा ने कहा था वह उनसे कई बार चुदवा चुकी है .उनके लंड भी लम्बे मोटे हैं .निशा ने अपनी बात साबित करने के लिए उनसे मदद ली .
एक दिन निशा मेरे घर आई ,और बोली कि शाम को प्रमोद अपना जन्म दिन मनाने वाला है .मैं उसकी तरफ से तुझे न्योता देनेआयी हूँ .प्रमोद ने मुझे पहिले ही फोन कर दिया था .निशा बोली प्रमोद से सारा इंतजाम करने कि मुझे जिमेदारी दी थी ,इसलिए मैं अभी आ सकी हूँ प्रमोद ने अपने फ़ार्म हाउस वाले बंगले में व्यवस्था कर राखी है .वहां सिर्फ अपने खास खास दोस्त ही रहेंगे .तू उसकी पडौसी ,और क्लास फेलो है ,इसलिए उसने खास तौर से बुलाने को मुझे भेजा है .पार्टी शाम के नौ बजे शुरू होगी .तू तैयार हो जाना .मैंने तेरी मम्मी पापा से इजाजत ले ली है .ठीक आठ बजे मैं तुझे लेने आउंगी .निचे प्रमोद अपनी गाड़ी में खड़ा रहेगा .तू चुपचाप से गाड़ी में बैठ जाना .किसी को पता भी नहीं चलेगा .पार्टी रात के एक दो बजे समाप्त होगी .प्रमोद तुझे घर छोड़ देगा .
समय के अनुसार जब मैं निशा के साथ प्रमोद के बंगले पर गयी तो देखा कि,बंगला अच्छी तरह से सजा हुआ था .अन्दर एक बड़ा सा हाल था ,जिस पर एक टेबल पर केक रखा था .पास ही बैठने के लिए सोफे रखे थे.हाल पास वाले कमरों में बेड सजे हुए थे ,जिस पर साफ चादर बिछा हुआ था .हल में प्रमोद के दुसरे दोस्त हमारा इंतजार कर रहे थे ,रात को नौ बजे प्रमोद ने केक काटा.और मेरे मुंह में एक टुकड़ा दिया ,मैंने उसे सबके साथ मिलके बधाई दी .पास वाली टेबलों पर शराब कि बोतलें ,और गिलास रखे थे .प्रमोद से सबका इंतजाम किया था .निशा शराब कि चुस्की ले रही थी .म्यूजिक चलने लगा था .मैंने भी थोड़ी सी शराब पी ली थी .धीमे धीमे सह्राब अपना असर करने लगी .
जब सब खाना खा चुके तो निशा ने एक सुझाव दिया कि ,क्यों न हम ताश का एक खेल खेलें .जिसमे हरेक को तस कि गड्द्दी से एक ताश का पत्ता आँख बंद करके निकलना होगा और .अगर किसी ने पाहिले से बोले हुए पते कि जगह दूसरा पत्ता निकला तो ,उसे अपना एक कपड़ा उतर देना होगा .सब को यह बात बहुत पसंद आई .मैं भी इस खेल में शामिल हो गयी .
करीब एक घंटे के बाद करीब सब नंगे हो चुकेथे .लडके केवल अंडर विअर ,और लड़कियाँ केवल पैंटी में रह गयी .लड़को के लंड अंडर से साफ दिख रहे थे .सभीलंड खड़े हो रहे थे .और उछल रहे थे .यह देख कर मेरी चूत भी गीली हो रही थी .मैंने एक साथ इतने सारे लम्बे मोटे लंड नहीं देखे थे .मई शर्म के मरे तिरछी नज़रों से लंड देख रही थी .और सोफे पर बैठी थी .
तभी निशा ने सबको साथ में मिलकर डांस करने को कहा .सब उसी हालत में डांस करने के लिए जमा हो गए.
मैं एक तरफ बैठी थी ,तभी निशा ने मुझे अपने पास बुलाकर सब से कहा कि आशा भी एक अच्छी डांसर है .सबने ताली बजाकर मेरा स्वागत किया .फिर सब मिलकर डांस करने लगे ,उस समय कुल तीन लड़कियाँ ,मैं ,निशा और रश्मि ही बचे थे .और लड़कों में प्रमोद ,नीरज ,अजित और विनोद थे .नाचते समय एक दुसरे से सट जाते थे .लडके जानबूझकर अपने लंड लड़कियों की गांड से लगा देते थे .तभी एक लडके ने अपना अंडरवियर भी निकाल दिया .रोशनी में उसका लाल लाल लंड चमक रहा था .उसने अपना लंड मेरी गांड पर रखा तो मैं सिहर गयी .गर्म गरम लंड का स्पर्श मुझे बड़ा अच्चा लगा .कुछ लडके मेरी चूचियां भी दबा देते थे .प्रमोद ने तो मेरी चूत पर हाथ भी रख दिया .और मुझे चूम लिया .एक घंटे के बाद मैं थक गयी मुझे प्यास लगाने लगी निशा मेरे लिए पानी लेकर आयी .लडके बिअर पीने लगे .धीमे धीमे सभी लडके नंगे हो गए .सबके लंड खड़े हो गए थे .लंड के मुंह लाल लाल हो रहे थे ,जैसे किसी पर हमला करने की तय्यारी कर रहे हों ..
तभी मुझे अचानक नींद आने लगी .और मैं नींद में झोंके खाने लगी .निशा बोली यह थक गयी है .इसे थोड़ी देर आराम करने दो .बाद में प्रोग्राम शुरू कर देंगे .सारी रात पड़ी है .उसी समय निशा और रश्मि अपने कपडे निकालने लगे .और बोले की हमें गर्मी लग रही है .यहाँ कौन देखने वाला है सबने एक दूसरे की चुत और लंड देखे हुए हैं शर्म की क्या बात है .रश्मि बोली मैंने को कई लंड देखे हैं ,बल्कि अ