loading...
Get Indian Girls For Sex
   

mausi

desi kahani हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विनय है, में 26 साल का हूँ। मेरी मौसी का नाम नीरु है, वो 39 साल की है, उन्होंने अभी तक शादी नहीं की है और उनके फिगर के हिसाब से वो अभी 30 साल की लगती है। वो काफ़ी सुंदर, एकदम गोरी, लंबे-लंबे काले बाल, हाईट करीब 5 फुट 5 इंच और फिगर साईज 38-24-38 है और मेरे चाचा चाची के साथ ही रहती है। फिर एक दिन में किसी काम से उनके घर दोपहर को 2 बजे गया था। फिर जब में वहाँ पहुँचा, तो उन्होंने ही दरवाजा खोला, वो उस वक़्त कुछ हांफती सी लग रही थी। फिर उन्होंने मुझे अंदर बैठाया और बोली कि चाचा और चाची तो घर पर नहीं है, वो जोधपुर गये है और कल तक वापस आएँगे। फिर मैंने कहा कि ठीक है में बाद में आ जाऊंगा। फिर उन्होंने कहा कि जल्दी क्या है? बाहर काफ़ी गर्मी है, कुछ ठंडा पी जाओ।
फिर वो हम दोनों के लिए ठंडा बनाकर ले आई। उस वक़्त वो काफ़ी सेक्सी लग रही थी और उन्होंने ड्रेस भी कुछ ऐसी पहन रखी थी कि उनके आधे बूब्स बाहर निकालने को बेताब हो रहे थे। फिर मैंने कुछ हिम्मत करके उनसे पूछा कि वो दरवाजा खोलते वक़्त हाँफ क्यों रही थी? तो वो घबरा सी गयी, तो मुझे लगा कि कुछ तो गड़बड़ है। फिर उन्होंने कहा कि कोई ख़ास बात नहीं कुछ काम कर रही थी इसलिए। तभी मैंने उनसे कहा कि मुझे टॉयलेट जाना है और इससे पहले वो कुछ कहती में टॉयलेट की तरफ रवाना हो गया। फिर में जैसे ही टॉयलेट में घुसा तो मेरा दिमाग खराब हो गया और मेरा लंड खड़ा हो गया था। वहां लंबे-लंबे कई बैगन पड़े थे और पास ही में उनकी पेंटी और ब्रा पड़ी थी। अब में समझ गया था कि उन्होंने गाउन के नीचे कुछ नहीं पहन रखा है।
फिर में बाहर आया, तो वो मुझे अजीब सी नजर से देख रही थी। फिर मैंने कहा कि मौसी घबराओ मत मुझे आपके हांफने का कारण समझ में आ गया है और जाकर उनको अपने दोनों हाथों में उठा लिया और लिप्स किस करने लगा था। अब वो पहले से ही गर्म थी और उस वक़्त और ज्यादा हो गयी थी। फिर उसके बाद हम बेडरूम में चले गये, तो वहाँ जाकर वो बोली कि कुछ देर रूको, में तैयार हो जाती हूँ। फिर मैंने कहा कि कैसे तैयार हो जाओगी? तो तब वो बोली कि मेरी शादी तो हुई नहीं और ना ही सुहागरात तो कम से कम सुहागदिन तो अच्छी तरह से मना लूँ, तो मैंने कहा कि ठीक है। फिर वो ड्रेसिंग रूम में चली गयी और फिर जब 15 मिनट के बाद वो बाहर आई तो किसी अप्सरा के जैसी लग रही थी। फिर मैंने बाहर निकलते ही उनको अपनी बाँहों में भर लिया और चूमने लगा था। तब उन्होंने कहा कि कोई जल्दी नहीं है, हम आराम से अपना सुहागदिन मनाएँगे।
फिर करीब आधे घंटे तक हम एक दूसरे के कपड़े खोलते हुए किसिंग करते रहे और फिर उसके बाद मैंने उनकी चूत को देखा जो अब तक फूलकर संतरे की फाँक के जैसे हो गयी थी और मेरा लंड अपनी लम्बाई से 1 इंच ज्यादा बड़ा लग रहा था। तभी में उनकी चूत को चाटने लगा और वो मस्त होती गयी इसलिए में अपने लंड और वो अपनी चूत की प्यास नहीं रोक सके। फिर वो बोली कि में ही तुम्हारी वाईफ बन जाती हूँ और तुम मुझे अपनी वाईफ समझो और मेरे साथ सब कुछ करो और फिर उन्होंने मुझे किस करना शुरू कर दिया। अब वो मेरे लिप्स को वो बुरी तरह से किस करने लगी थी। फिर मैंने उनको खींचकर बेड पर लेटा दिया और उनकी चूत पर किस करने लगा था। फिर 10 मिनट तक में उसको चूमता रहा और फिर उनके बूब्स को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा था। अब वो सिर्फ़ आआआहह, आआहहहह की आवाजे कर रही थी और में उसे चूसता ही रहा।
फिर थोड़ी देर के बाद जब मैंने उनकी चूत की तरफ देखा, तो वो गीली हो चुकी थी और अब मौसी सिसकारी मारकर कह रही थी कि तुम मुझे पहले क्यों नहीं मिले? पहले क्यों नहीं आए? में इस दिन के लिए कब से तरस रही थी? आज मुझे पूरी औरत बना दो, प्लीज। अब वो सिसकारी मार रही थी आह, आह, आआहसशहस्स्स, आहह, आहहहह, आअहह, आहहहह, आहहह। फिर मैंने उनसे कहा कि अब मेरा लंड अपने मुँह में लो। तो वो बोली कि नहीं में ऐसा नहीं कर सकती। तब मैंने कहा कि अगर नहीं कर सकती तो में सारा खेल यही ख़त्म करता हूँ। तब वो बोली कि नहीं और फिर उन्होंने मेरा लंड अपने हाथ में लिया और सहलाने लगी और अपने मुँह में डाल लिया और चूसने लगी थी। अब उसमें भी उनको मज़ा आने लगा था और फिर वो करीब 15 मिनट तक मेरे लंड को चूसती रही और मेरी हालत खराब होती गयी।

फिर जब उन्होंने मेरा लंड छोड़ा तो उसमें से पानी बस निकलने ही वाला था। तब वो बोली कि मज़ा आ गया, में तो यूँ ही डर रही थी। अब इन सबमें हमको 2 घंटे बीत चुके थे और अब हम दोनों ही इतने ज्यादा गर्म हो चुके थे कि हम दोनों को ए.सी में भी पसीने आ रहे थे। अब वो मेरे लंड को अपने एक हाथ में लेकर खींच रही थी और कसकर दबा रही थी। फिर थोड़ी देर के बाद उन्होंने अपनी कमर को ऊपर उठा लिया और मेरे तने हुए लंड को अपनी जाँघो के बीच में लेकर रगड़ने लगी थी। फिर वो मेरी तरफ करवट लेकर लेट गयी, ताकि मेरे लंड को ठीक तरह से पकड़ सके। अब उसकी चूंचीयाँ मेरे मुँह के बिल्कुल पास थी और में उन्हें कस-कसकर दबा रहा था। फिर अचानक से उन्होंने अपनी एक चूची मेरे मुँह में तेलते हुए कहा कि इनको अपने मुँह में लेकर चूसो। फिर मैंने उनकी लेफ्ट चूची को अपने मुँह में भर लिया और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा था। फिर थोड़ी देर के लिए में उनकी चूची को अपने मुँह से बाहर निकालकर मौसी को चूमने लगा।
तब उन्होंने कहा कि अगर तुम मुझे पहले इशारा कर देते तो हम पता नहीं कितनी बार सुहागदिन और रात मना चुके होते? ख़ैर अब तो में तुम्हारी ही हूँ जब मन करे एक दिन पहले बता देना और फिर मैंने देर ना करते हुए अपना लंड मौसी की चूत में डाल दिया, जो कि अभी भी बड़ी टाईट थी। अब में मेरा लंड धीरे-धीरे मौसी की चूत में अंदर-बाहर करने लगा था। फिर उन्होंने स्पीड बढ़ाकर करने को कहा तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और तेज़ी से अपने लंड को अंदर-बाहर करने लगा था। अब उनको पूरी मस्ती आ रही थी और अब वो नीचे से अपनी कमर उठा-उठाकर मेरे हर शॉट का जवाब देने लगी थी। अब उनकी चूत में मेरा लंड समाए हुए तेज़ी से ऊपर नीचे हो रहा था। अब मुझे ऐसा लग रहा था कि में जन्नत में पहुँच गया हूँ। अब जैसे-जैसे वो झड़ने के करीब आ रही थी, उसकी रफ़्तार बढ़ती जा रही थी। फिर उन्होंने अपनी दोनों टांगो को मेरी कमर पर रखकर मुझे जोर से जकड़ लिया और ज़ोर-ज़ोर से हांफने लगी थी। अब पूरा कमरा हमारी चुदाई की आवाज से भरा पड़ा था आह, आअहह, मेरे राज्ज्जज्जा, मर गाययययय रे, फटी गयी रे, हाईई।

अब इन सबमें 45 मिनट निकल चुके थे और अब मेरा निकलने को तैयार था। तभी वो बोली कि आह में तो हो गयी और फिर में ज्यादा ज़ोर से धक्के देने लगा। फिर करीब 10 मिनट के बाद मेरा पानी निकला और मैंने उनकी पूरी चूत को भर दिया। अब हम दोनों हांफने लगे थे और एक दूसरे से चिपक गये थे। फिर जब हम अलग हुए और टाईम देखा तो 7 बज रहे थे। फिर हम दोनों बाथरूम में गये और एक साथ बाथ लिया और कॉफ़ी पी। फिर वो बोली कि आज तुमने मुझे पूरी औरत बना दिया, बोलो में तुम्हारे लिए क्या करूँ। अब तब तक मुझे थोड़ा-थोड़ा मज़ा वापस से आने लगा था तो मैंने कहा कि मौसी पहले थोड़ा मार्केट घूम आते है, फिर बात करेंगे। फिर उन्होंने कहा कि ठीक है, में तैयार हो जाती हूँ और तुम भी अपने कपड़े पहन लो। (तब तक हम दोनो नंगे ही लेटे थे)
फिर हम दोनों मार्केट निकल गये और वहाँ उन्होंने मेरे लिए 25000 की शॉपिंग की और वापस आते हुए उन्होंने मुझसे कहा कि तुम आज मेरे साथ ही रुक जाओ, क्योंकि जीजी जीजाजी तो कल आएँगे और घर पर फोन कर दो, तो मैंने कहा कि ठीक है मगर अब में बियर पीऊँगा और आपको भी मेरे साथ पीनी पड़ेगी। तो वो बोली कि में नहीं पीती हूँ। फिर मैंने कहा कि आप तो लंड भी नहीं चूसती थी। तो वो बोली कि ठीक है तुम्हारे लिए थोड़ी सी ले लूँगी। फिर मैंने बियर शॉप से 4 बियर ले ली और घर पर फोन कर दिया कि में आज ऑफिस के काम की वजह से नहीं आ पाऊंगा। फिर रास्ते में मैंने एक बियर खत्म कर ली और फिर जब हम घर पहुँचे तो बियर की वजह से मुझे टॉयलेट की जरूरत लगी तो मैंने कहा कि में टॉयलेट जा रहा हूँ। तो तब वो बोली कि साथ में ही चलते है और फिर हम दोनों साथ में टॉयलेट में चले गये।
फिर वो बोली कि मैंने एक साईट पर कपल को एक दूसरे का पेशाब पीते हुए देखा था, क्या हम दोनों भी एक दूसरे का पेशाब पियें? तो मैंने कहा कि पहले तुमको मेरा पीना पड़ेगा। तो वो बोली कि ठीक है और मेरी जीन्स खोल दी। फिर मैंने अपना लंड उनके मुँह की तरफ करके मूतना चालू कर दिया। अब उनका पूरा चेहरा और बाल मेरे पेशाब से भीग गये थे और थोड़ा उन्होंने पी भी लिया था। फिर मैंने उनकी चूत को अपने मुँह से सटा लिया और उनका पेशाब पी गया, बड़ा मजेदार टेस्ट था? फिर उसके बाद हम दोनों ने साथ में बाथ लिया और बिना कपड़ों के बाहर आ गये। अब तक हम दोनों वापस चार्ज हो चुके थे और एक दूसरे को किस कर रहे थे। फिर मैंने एक बियर की बोतल खोल ली और अपने मुँह में भर ली और उनके मुँह से अपना मुँह मिलाकर अंदर डाल दी और फिर बोतल उनके मुँह पर लगा दी। तो थोड़ी देर में ही बियर का असर चालू हो गया और वो मुझे चूमने लगी थी। अब मुझे भी तब तक नशा हो चुका था तो तभी मैंने वही उनको लेटाकर अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया और उनकी दोनों चूचीयों को ज़ोर-ज़ोर से मसलने लगा था और साथ में उनकी चूत में अपने लंड को अंदर और अंदर ले जाने के लिए ज़ोर-ज़ोर से झटके लगा रहा था।
अब इधर मौसी आआअहह, आआहह करके कहरा रही थी। फिर आधे घंटे तक चुदाई करने के बाद जब मेरा पानी निकलने वाला था तो मैंने उनकी चूचीयों को धीरे-धीरे दबाना शुरू कर दिया। अब मौसी भी थोड़ी देर में मस्ती में आ गयी थी और उसके हर एक झटके के साथ अपने मुँह से आअहह, आआआआहह, उउउहह, म्‍म्म्ममाआआअ की आवाज़ निकाल रही थी। फिर थोड़ी देर में ही हम दोनों एक साथ फ्री हो गये और मैंने अपना पूरा स्पर्म उनकी चूत में ही डाल दिया। फिर 2 घंटे के बाद हम दोनों फिर से तैयार थे और आप तो जानते ही है कि फिर क्या हुआ होगा? फिर इसके बाद हमको जब भी मौका मिला तो हम अपना काम करते रहे और हम दोनों ने खूब इन्जॉय किया ।।
धन्यवाद

loading...

मेरे लिए तो जैसे जन्नत के द्वार खुल गए थे l घर बैठे ही जवान लंड का इन्तेजाम हो गया l सब कुछ किया पर अभी चुदाई नहीं की थी.. hot hindi sexy kahani के इस अंतिम हिस्से में वो भी होगी..

Hindi Sex Story के अन्य भाग-

पार्ट 1

पार्ट 2


थोड़ी देर बाद वह मेरे ऊपर से हट गया और मैं तुरंत उठी और बाथरूम मे घुस गई और खुद को साफ़ किया

पहली बार ,उस रात हम पूरी तरह संभोग नही कर पाए l

खुद को साफ़ करने के बाद ,कुछ और देर ,बाथरूम मे ही रही और यह एहसास हुआ कि मैंने अपने भांजे को चूसा है l,एक धक्का लगा l निश्चित रूप से किसी भी तरह से मैं अपने भान्जे से किसी प्रकार का यौन स्पर्श नहीं रखना चाहती थी l किन्तु मेरे बगल में बिस्तर पर लेट्कर उसने मुझे फ़िर से छूना आरम्भ किया तो मैं अपने आप पर नियंत्रण नहीं रख सकी l

मैंने तय किया कि अगले दिन ,अब मैं उससे साफ़ साफ़ कह दूंगी कि जो हुआ वह गलत और दुर्घटना के समान था और अब वह इस तरह की कोई अपेक्षा भविष्य मेम न करे मैं बेडरूम में गईऔर पाया कि वह पड़ा सो रहा है मैं उसी के बगल में जितना दूर बना सकती थी ,दूर हो कार लेट गई और सो गई l

अगले दिन रोज से थोडा देर लगभग सात बजे उठी पाया कि उसकी एक भुजा मेरे बदन के आर पार रखी हुई थी ,हौले से उसकी बाजू अपने बदन से हटाई और दैनिक कार्यों से निबटने के लिए उठ गई l

लगभग आठ बजे ,रसोई में नाश्ता बना रही थी कि एकाएक मुझे लगा कि दो हाथों ने मेरे स्तनों को पीछे से पकड़ लिया है और जिसने पकड़ा है वह अपना शरीर को मेरी पीठ पर दबा रहा हैl

 

खुद को साफ़ करने के बाद ,कुछ और देर ,बाथरूम मे ही रही और यह एहसास हुआ कि मैंने अपने भांजे को चूसा है l,एक धक्का लगा l निश्चित रूप से किसी भी तरह से मैं अपने भान्जे से किसी प्रकार का यौन स्पर्श नहीं रखना चाहती थी l किन्तु मेरे बगल में बिस्तर पर लेट्कर उसने मुझे फ़िर से छूना आरम्भ किया तो मैं अपने आप पर

नियंत्रण नहीं रख सकी l

 

 

मैंने तय किया कि अगले दिन ,अब मैं उससे साफ़ साफ़ कह दूंगी कि जो हुआ वह गलत और दुर्घटना के समान था और अब वह इस तरह की कोई अपेक्षा भविष्य मेम न करे मैं बेडरूम में गईऔर पाया कि वह पड़ा सो रहा है मैं उसी के बगल में जितना दूर बना सकती थी ,दूर हो कार लेट गई और सो गई l

अगले दिन रोज से थोडा देर लगभग सात बजे उठी पाया कि उसकी एक भुजा मेरे बदन के आर पार रखी हुई थी ,हौले से उसकी बाजू अपने बदन से हटाई और दैनिक कार्यों से निबटने के लिए उठ गई l

लगभग आठ बजे ,रसोई में नाश्ता बना रही थी कि एकाएक मुझे लगा कि दो हाथों ने मेरे स्तनों को पीछे से पकड़ लिया है और जिसने पकड़ा है वह अपना शरीर को मेरी पीठ पर दबा रहा हैl

यद्यपि पिछ्ली रात मैंने तय किया था कि अब उससे अब किसी भी प्रकार के यौन सम्बंध नहीं रखूँगी ,किन्तु लगातार साड़ी के ऊपर से अपने नितम्बों के मध्य लगातार उसके लिंग का अनुभव तथा लगातार स्तनों के मर्दन के कारण धीरे -धीरे अपना प्रतिरोध कमजोर पड़ता महसूस कर रही थी उसके चुम्बनों ने मेरी भवनाओं को सुलगा दिया और मुझमें और अधिक पाने की अपेक्षा उमड़ने लगी l

उसके स्पर्श का प्रतिरोध धीरे धीरे कमजोर पड़ता गया और यह इच्छा बलवती होने लगी कि वह मेरे बदन का हर सम्भव तरीके से उपभोग कर मेरी दमित इच्छाओं की और भड़काए और उन्हे किसी प्रकार से शांत करे l

 

अब मैंने अपनी बाहों से अपने ब्लाउज से उभरे वक्ष को छुपाने का कमजोर सा प्रयास किया ,उसके हाथ मेरी बाजुओं के नीचे से मेरे स्तनो दबाए हुए थे l तब उसने पीछे से मेरी गर्दन को पुनःचूमना शूरु कर दिया और ब्लाउज के ऊपर से मेरी खुली पीठ को अपने होंठों से छू कर मेरी दबी आग को भड़्काने लगा उसका सिर ऊपर से नीचे की ओर जा रहा था और उसके होठ और जीभ मेरी पीठ पर घूम रहे थे और उसके हाथ बदस्तूर मेरे वक्ष का मर्दन कर रहे थेl

अब वह मेरे पीछे अपने घुटनो के बल हो कर मेरे स्तनों को मसले जा रहा था और उसकी जीभ मेरे कटि प्रदेश पर भ्रमण कर रही थी जहाँ मेरी साड़ी पेटीकोट पर लिपटी थी अब उसने मेरे पीछे से कमर पर जीभ और होठ फ़ेरते हुए मेरे नितम्बों को

मेरी साड़ी के ऊपर से दबाना और कचोटना शुरू कर दिया l एक हाथ से वह मेरी कमर को अप्ने नजदीक रखने मे इस्तेमाल कर रहा था और दूसरे से क्रम बदल कर मेरे चूतड़ों को दबा और निचोड़ रहा था l

 

मुझे लगता है कि शायद मैं भी उसके स्पर्श का प्रतिरोध न कर के उसका साथ अपने नितम्बों को उसकी ओर झुका कर देने लगी थी l उसने मेरी साड़ी को मेरी कमर से अलग करने का प्रयास किया …..

वह मेरी कमर से साड़ी को उतारने की कोशिश कर रहा था, लेकिन वह कसकर पेटीकोट के अंदर tucked थी. मैं अनजाने में उसकी मदद के लिए अपना हाथ आगे करने का फैसला किया और अपनी कमर के एक ओर अपने पेटीकोट से बाहरअपनी साड़ी खींच ली . अब अमर ने मेरी कमर से मेरी साड़ी को हटाने में कोई समय बर्बाद नहीं किया.

अब मैं सिर्फ एक ब्लाउज और पेटीकोट में अपने भान्जे के सामने खड़ी थी और उसके हाथ मेरे बदन पर ऊपर से नीचे आ जा रहे थे और बदन की गर्मी महसूस कर रहे थे   अमर अपने पैरों पर वापस गया और मुझे पीछे से अपने आगोश मे भर लिया . एक बार फिर उसका लिंग मेरे नितबों पर अपनी धड़्कन का अनुभव करा रहा था इस बार मैं ने अपने हाथ पीछे ले गई और और धीरे से उन्हे उसकी कमर पर इस तरह से रखा कि उसे यह अह्सास हो जाये कि मैं उसे अपने ऊपर चाहती हूँ

~- यह देखकर, अमर ने मेरे स्तनों पर अपने हाथ डाल दिए लेकिन इस बार, वह मेरे ब्लाउज के बटन को खोलने की कोशिश कर रहा था. मेरे ब्लाउज पर बटन सामने की ओर थे वह ऊपर वाले बटन को तोड़ने में कामयाब रहा और दूसरा बटन खोलने के लिये परेशान हो रहा था मैंने उसे अपने बटन को खोलने में मदद करने का फैसला किया. इस सब के बावजूद , मैं उसेअपने ब्लाउज के सभी बटन को तोड़ने नहीं देना चाहती थी

लेकिन वह बहुत अधीर था और इससे पहले कि मेरे स्तनों को पूरी तरह से मेरी ब्रा में से आजाद कराता , मेरे ब्लाउज के दो बटन तोड़ दिया . हाँ, मैं एक ब्रा पहने हुए थी. उसने मेरे कंधे तक मेरे ब्लाउज को खिसकाया और मेरे ब्लाउज को पूरी तरह से उतार दिया अब मैं अपनी ब्रा में थी मेरे स्तनों के निरंतर मर्दन (निचोड़) और मालिश के कारण एक गहरी दरार दिख जाती थी l

 

 

बस गया था.उसके हाथ मेरे स्तनों के नंगेपन की खोजकर रहे थेऔर फिर उसने अपना एक हाथ मेरी ब्रा के अंदर डाल दिया और मेरे निपल्सका स्पर्श करना शुरू किया.l मेरा निपल्स कड़े होकर तन गए और वह अपनी उंगली मेरे कड़े होकर तन हुए निपल्स पर चल रहा था अब, मैं उसे पूरी तरह से अपने कब्जे मे लेना चाह रही थी और मैं उसकी कमर से अपना हाथ अपनी पीठ और उसके शरीर के बीच से ले जा कर उसके लण्ड को अपने हाथ ले लिया और और उसके शॉर्ट्स के ऊपर से दबा दिया .मैं अपने हाथ ऊपर ले गई और धीरे – धीरे उसके शॉर्ट्स के अंदर और उसके अंडरवियर के अंदर अपना हाथ ले गई और उसके नग्न गर्म लिंग का स्पर्श किया और साथ ही उसे पकड़ लिया और दूसरे हाथ से , मैंने उसके शार्ट्स को नीचे खींच लिया l अब उसका

मेरे पति विदेश रहते है, साल में एक बार आते है l पुरे साल मैं तड़पती रहती थी l मेरा भांजा मेरे साथ रहता था मैंने महसूस किया की वो अब जवान हो चूका था l मेरी hot hindi sex kahani आपके लिए..


मेरा नाम सरिता है मै तीस वर्ष की- शादी शुदा औरत हूँ मेरी गोलाइयों से भरी काया की माप ३४-२८-३५ अभी भी बरकरार है , शा्दी के तीन साल बाद भी कोई बच्चा न होने से सुडौलता मे कमी नहीं आई है ,मेरे पति सिंगापुर में काम करते हैं और साल मे एक बार १५ दिन के लिये आ पाते हैं l

यहाँ मुम्बई में मैं अपने भान्जे अमर के साथ रह्ती हूँ,जो यहाँ एक कालेज मे पढता है l अमर इस उम्र के अन्य लड़्कों की ही तरह है ,और उसी तरह से कामोतेजित भी रहता है,मुझे पता है कि वह मेरे बारे मे कामुक कल्पनायें भी करता है जो कि इस उम्र मे स्वाभाविक है l

उसकी नजरें खुफ़िया तरीके से मेरे शरीर को घूरती हैं और जब कभी मैं उसकी ओर देखने की कोशिश करती हूँ तो ऐसा दिखावा करता है कि वह कहीं और देख रहा था l

१८ साल की उम्र में जवानी का जोश कुछ ज्यादा ही जोर मारता है ,अतः इस उम्र के लड़्कों का चुदासू होना जायज है अमर के सोने का कमरा था और वह उसी में सोता था और मैं हमेशा अपने कमरे मे अलग सोती थी l

एक बार बरसात के मौसम में उसके कमरे में मरम्मत चल रही थी और सब फ़रनीचर बैठक में रख दिया गया l

 

बिना बेड के बरसात की रात मे सोना ठीक नही होता ,बैठक में भी जगह नहीं थी क्योंकि कमरे मे काम होने के कारण धूल व सीमेंट उसमे भी भरी थी और ढेर सारा फ़र्नीचर भी था l

 

ऐसी हालत देख कर मैंने उसे अपने कमरे मे ही सो जाने के लिये कहा

कमरे मे एक ही बेड देख कर उसने पूछा कि वह कहाँ सोये ,मैं ने उससे कहा कि बेड काफ़ी बड़ा है और दो लोग आराम से सो जाएगें l

मैने ऐसा मात्र इस लिये कहा था क्योंकि वह रिश्ते मे भान्जा था और मैं उसकी मौसी

 

पहले हिचकिचाहट के कारण मना किया पर फ़िर उसी बेड पर लेट्ने के लिए राजी हो गया

उसने कहा थोडी देर टी वी देखने के बाद लेटॆगा l

तब तक मैने घर

का काम निपटाया और थोड़ी देर टी वी देखने के बाद

मुझे नींद आने लगी और करीब साढ़े ग्यारह बजे सोने चली गई और उससे कहा टी वी देखने के बाद वह भी सो जाए कमरे के किवाड़ खुले हैं l

 

मैं कमरे मे गई और एक और चादर और तकिया बेड के दूसरे सिरे पर रख दिया जिससे उसे कोई दिक्कत न हो l

main hun kamaal ki mausi hot hindi sex kahani

मेरा प्यारा भांजा

घर मे मैं प्रायः पंजाबी सूट या साडी रात के समय पहनती हूँ पर बेड रूम मे प्रायःबदल कर सुन्दर सिल्क की नाइटी पहन लेती हूँ जो करीब -करीब घुट्नों तक आ जाती है और आदतन उस भी साडी बदल कर नाइटी पहन ली l

 

नाइटी मेरे बदन पर दो पट्टों के सहारे कन्धे पर अट्की थी ,जिसकी पीठ भी काफ़ी खुली थी उसे बदलने के बाद मैं लेट गई और दे खा कि दोनो तकियों के बीच करीब दो फ़ीट की दूरी थी अओर लाइट बन्द करके वस्तुतः सो गई जिससे सुबह ६:३० बजे तक उठ कर घर के काम निपटा सकूँ l

 

 

रात मे किसी वक्त एकाएक मेरी नींद खुल गई ,कुछ पल सम्झ ही नहीं आया कि मैं क्यों जग गई,तब मैने समझा कि मेरा भांजा मेरी बगल मे ंसोया है और उसके हाथ पूरी तरह मेरे ऊपर रखे हैऔर उसके पैर मेरी कमर पर आ रहें हैं l

 

उसका लण्ड मेरे चूतड़ों मेंघुसा जा रहा था और उसका चेहरा मेरी पीठ पर कन्धो के बीच मे था l

पहले , मैं हतप्रभ रह गई,समझ में नहीं आया कि क्या हुआ ,मै चुपचाप लेटी रही ,यह सोचते हुए कि मैं उसके आगोश से कैसे निकलूँ l कुछ समय बाद ,धीरे उसकी ओर हुई और उसके चेहरे को देखने की कोशिश की और पाया कि यद्यपि उसकी आँखे बन्द थी फ़िर भी उसका लंड उसकी निक्कर में उछल रहा है और मेरे नितम्ब कीदरार में घुसा जा रहा था l मैं समझ रही थी कि आँखे बन्द कर वह सोने का नाटक कर रहा है जबकि वह जाग रहा है l

जब मैने अपना सिर उसकी ओर घुमाया तो मुझे आघात लगा , उसने अपना हाथ गले से नीचे ला कर मेरा स्तन हाथ में घेर लिया ,और यह सब उसने सोते में होने का बहाना कर किया l मैं ने धीरे से उसका हाथ पकड़ा और उसका हाथ अपनी छाती से हटाने का प्रयास किया , किन्तु उसने मेरे स्तन को और कस के पकड़ लिया और मुझे अपनी ओर खीचने का प्रयास किया l अब मैं उससे सटी हुई थी और हमारे बीच बिलकुल भी जगह नहीं थी l

वह अपना चेहरा और पास ले आया जो करीब करीब मेरे कन्धे पर आ कर मेरी गर्दन तक आ पहुँचा था lअब, उसके पैर मेरी कमर के आर पार जा रहे थे जबकि मैं अपनी पीठ के बल लेटी थी और उसका लण्ड मेरी कमर में ठीक पेट के नीचे चुभ रहा था एक बार मैंने सोचा कि कहीं वास्तव मे ही तो नहीं सो रहा हो और जो भी हरकतें कर रहा है वह सब नींद में ही कर रहा हो और मैं बेमतलब में ही ऊल जलूल सोच रही हूँ l

तब मैंनें तय किया कि अब उसे ऐसे ही रहने दूँ और बाद में किसी वक्त उसे धीरे दूसरी ओर कर दूँगी (और यदि वह सो रहा हो ) ऐसी हालत में उसे जगा कर बेमतलब में शर्मिन्दा नहीं करना चाहती थी l

मैं वैसे ही पीठ के बल लेटी रही और उसके हाथ मेरे स्तन पर वैसे ही रखे थे और उसकी टाँगे मेरे आर पार थीं इस आशा में कि मैं बाद मे किसी वक्त उसे दूसरी ओर कर दूंगी l

 

करीब पिछले सात महीनों से ,मै सेक्स से दूर थी ,और शादी के बाद पहली बार था कि मुझे पति के अलावा कोई और इस तरह से छू रहा था l

और मैं धीरे धीरे यौन उतेजना का आभास कर रही थी और उसके शरीर की ऊष्मा से मेरी कमोत्तेजना भड़क उठी थी मेरी सासें भारी होने लगी थीं और सासों की तेजी के साथ मेरे छातियाँ तेजी से ऊपर नीचे हो रहीं थीं l

और हर बार जब मेरे स्तनों ऊपर उठते , मुझे एहसास हुआ कि उसके हाथ भी धीरे धेर, उन्हें squeezing कर रहें हैं . मैंने अपने चेहरे को घुमा दिया और उसे देखो. उसका चेहरा मेरे कंधे पर सिर्फ इंच की एक दूरी पर था. और बिना सोचे , मैंने उसके माथे पर एक नरम चुंबन दे दिया. उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं की तो मैंने सोचा कि लगता है कि वह सो रहा था .मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रख दिया जो मेरे स्तन कोcupping कर रहा था और मैंने भी अपने स्तनों और अपने ऊपरी शरीर भर में उसके हाथ को पकड़ कर घुमाना शुरू किया. मैंने अपने मुंह में उसकी एक उंगली ले ली और धीरे से उसकी उंगली पर अपनी जीभ चलाने लगी मेरा दूसरा हाथ उसकी गर्दन से नीचे ले गई कि वह अब पूरी तरह से मेरी गर्दन और मेरे कंधे पर आ जाए और मेरा हाथ उसकी गर्दन के नीचे से लेजाकर उसे अपने शरीर पर धीरे से खींच लिया, मैंने अपना दूसरा हाथ उसके उस हाथ से हटा लिया जो मेरे स्तन पर था और धीरे धीरे उसके पेट पर अपनी उंगलियों को फ़िराने लगी और उसके शॉर्ट्स और अपने शरीर के बीच अपना हाथ ले जा पाने में कामयाब रही और मैंने अपने भान्जे की शॉर्ट्स के ऊपर से उसके लन्ड का अहसास किया और कामोत्तेजनावश उसके लण्ड के ऊपर अपनी उँगलियाँ फ़ेरने लगी मेरे भान्जे ने अपनी कमर को थोड़ा खिसकाया जिससे थोड़ी जगह मिल गई जिससे मै उअसके लण्ड का अहसास कर पा रही थी

loading...



Related Post & Pages

बाबा Do Not Disturb || Dehati Comedy Video || Funny Videos 2016 || Wha... Latest Funny And Comedy Video Full Masti Watch Now and Enjoy. Please Like Comment and Share this Vid...
Full HD Porn - Spinner Winner Pussy Dinner - XXX Porn The world’s #1 VR Porn site New free VR porn videos, games and more every day. We love VR. VRPorn.co...
Full HD Porn - Pinball Wizard - XXX Porn Flag This Post Post has been sucessfully flagged Thank you for your input, your flag is being review...
Indian Xxx - Assam girl’s college sports player outdoor sex with bf - ... Indian Xxx - Assam girl’s college sports player outdoor sex with bf - XXX Porn Indian Porn Video...

loading...

Bollywood Actress XXX Nude