loading...
Get Indian Girls For Sex
   

10985348_660362224107547_7876499497406025700_n

मित्रो यह एक फिक्शनल कहानी हैं जिसमे एक डॉक्टर पेशंट की चूत का दर्द बेहोशी में चोद के मिटाता हैं. लेकिन कहानी को जीवंत बनाने के लिए लेखक ने उसे जीवंत रूप दिया हैं. तो आप का ज्यादा समय ना लेते हुए पेश हैं यह कहानी

हाई फ्रेंड्स, मैं हूँ डॉक्टर के यादव (नाम बदला हुआ हैं). मैं दिल्ली से हूँ जहाँ की चूतें बड़ी फेमस हैं. पेशे से मैं एक साइकेट्रिस्ट हूँ और अपनी छोटी सी क्लिनिक मैंने साउथ दिल्ली में ही खोल राखी हैं. डॉक्टरों के बिच में घिरे होने की वजह से मुझे एवरेज पेशंट मिल जाते हैं. यह कहानी हैं एक भाभी की जिसे मैंने क्लिनिक के अंदर चोदा था. दुखी भाभी का चूत का दर्द दूर करने का सौभाग्य मुझे कैसे मिला वो मैं आप को बताता हूँ.

यह बात हैं सन 2012 की जब पहली बार सुमित्रा भाभी मेरे क्लिनिक पर आई थी. तब वो अपनी बड़ी बहन के साथ आई थी. उन्हें अनिंद्रा और एन्जाईटी थी जिसके लिए मैंने उन्हें कुछ सेडेटिव वगेरह दिया था. सुमित्रा की उम्र कुछ 26 की थी तब और दिखने में वो किसी टिपिकल भाभी के जैसे ही दिखती हैं. साफ़ रंग, ब्लाउज और चोली का पहेरवेश, साडी के पल्लू को पकड के चलना और बात बड़े आराम से करना यह कुछ उसकी अदाएं थी. एक दो विजिट के बाद उसकी बहन ने साथ आना बंध कर दिया. मेरी दवाई से सुमित्रा को आराम नहीं मिल रहा था. मुझे पहली बार लगा की उसकी समस्या कुछ और हैं जिसे वो छिपा रही हैं. लेकिन मैं यह भी देख रहा था की वो मुझे बड़े गौर से देखती थी; भाभियाँ होती ही ऐसी क्या! अब मेरी नजर भी चोली के पीछे क्या हैं वो देखने की ट्राय करने लगी थी. उसके बड़े मादक चुंचे अब मुझे भी लुभाने लगे थे. लेकिन फिर मैं अपनी ओथ के बारें में सोचता था और भाभी की चूत का दर्द देने की ख्वाहिश दूर हो जाती थी. सुमित्रा मेरे केबिन में कभी कभी 10-15 मिनिट बैठी रहती थी जैसे की उसे भी मेरी कंपनी अच्छी लगती थी. कभी कभी मैं उसकी आँखों में उसकी चूत का दर्द देख लेता था लेकिन मेरे आगे बढ़ने की कोई हिम्मत नहीं हो रही थी.

कहते हैं ना की किस्मत में हो तो कही नहीं जाता हैं और उसे पाने का कोई न कोई रास्ता जरुर निकल आता हैं. उस दिन मैं अख़बार पढ़ रहा था और मैंने एक खबर पड़ी जिसमे हिप्नोटिज्म के बारे में एक न्यूज़ आई थी. और तभी मेरे दिमाग में एक गन्दा विचार आया. ऐसा विचार जिस के जरिये मैं सुमित्रा को चोद भी सकता था और उसे पता भी नहीं चलना था. मुझे भी हिप्नोटिज्म की जानकारी हैं और मैंने सिखा हैं की कैसे किसी को हिप्नोटाइज किया जा सकता हैं. सुमित्रा की चूत का दर्द दूर करने की एक आशा की किरण तो नजर आ ही रही थी मुझे अब. लेकिन अभी तक मैं स्योर नहीं था की सुमित्रा को चूत का दर्द हैं या उसे कुछ और समस्या हैं.

अब मुझे केवल उसके क्लिनिक पे आने की राह देखनी थी. और यह मौका आया