loading...
Get Indian Girls For Sex
   

Panty

Wo Chut Chudwane ke Liye Bechain Thi-

Namaste dosto, Mera naam Bablu hai, Main ek famous company mein kaaryarat hoon. Mera kaam ke silsile mein ghar se baahar jyaada samay rahta hai aur ghar par kam.. Main aksar safar mein hi rahta hoon.. Aur jyaadatar safar bus se hi hota hai.

Yeh baat tab ki hai.. Jab main ek shaam volvo bus se Delhi se Kolkata jaa raha tha. Bus mein bheed kam hone ki wajah se bus mein yaatri kam hi thay. Peeche waali seat par mujhe sone ki aadat hai.. Subah ka samay tha, main peeche lambi seat mein jaakar so gaya.

Mujhe soye huye aadha ghanta hi hua tha ki mujhe meri jaanghon par kuch rengta sa mehsoos hua.. Thodi aankh kholkar dekha to ek sundar gora haath meri pant ke uppar phir raha tha.
Thodi der baad uska chehra bhi dekh liya.. Yeh to ek haseen punjaban ladki thi. Ek sundar figure 34-30-34 waali mast kudi.. Gora rang.. Behad khoobsurat.”Chut Chudwane ”

Usne agle hi pal mere gaalon par ek pyaari si pappi bhi le lee. Meri to jaise kismat hi chamak gayi, kabhi sapne mein bhi nahin socha tha ki bus mein safar karte huye hi koi anjaan ladki par sex is kadar haavi hoga ki mujh par meharbaan ho jaayegi.

Khair.. Main bhi jyaada der na lagaate huye utha aur us ladki ko dekhne laga. Us ladki ne mujhe sharmaate huye dekha aur boli- Sorry.. Jo bhi hua..
Maine kaha- Theek hai.. Lekin main tumko jaanta nahin hoon. To usne apna naam Preeti bataaya.. Wo Mohali, Punjab se thi.

Saath hi usne bataaya ki wo Delhi byepaas se baithi hai aur bus khaali hone ki wajah se peeche hi baith gayi thi.
Maine kaha- Koi baat nahin.. Magar aap apne haath se kuch kar rahi thin..
Preeti ne kaha- Wo to main.. Wo itna kahkar ruk gayi.”Chut Chudwane ”

Maine kaha- Kya hua? To usne kuch nahin kaha. Achanak hi meri nazar uske haath mein pade mobile par chal rahe maadak video par padi. Maine kaha- To yeh baat hai..
Preeti ne sharmaate hoon kaha- Jee.. yeh video dekhte huye mujhse ruka nahin jaa raha tha aur tum gahri neend mein peeche so rahe thay.. Kisi ke peeche na hone ke kaaran mera haath udhar chala gaya.

Main bhi muskuraane laga.. To wo sharma gayi. Maine bhi mauke ka faayda uthaate huye uska haath pakad liya aur kaha- Preeti ab aage kya iraada hai?
To wo boli- Yahaan.. Lekin bus mein kaise? Maine usse kaha- Main abhi conductor se setting karke aata hoon.

Maine conductor ko bulaaya aur kaan mein samjhakar use 500 rupaye diye.. conductor hansta hua aage chala gaya aur peeche ki light band kar di.

Ab main peeche ki seat par Preeti ko baanhon mein lekar uske honth choomne laga. Preeti ne kaha- Main tumhen kaafi pasand bhi kar rahi hoon.. Ab aur der na karo aur mujhe pyaar do.”Chut Chudwane ”

Main Preeti ke mast sudaul choochon ko masalne laga, wo bhi mujhe kiss karte huye mere lund ko dabaane lagi.
Kareeb 15 minute tak aise hi chalta raha. Mera lund pant mein kaafi sakht ho gaya aur jaise hi maine uski salwaar mein haath daalkar chut ko chhua.. To uski chut bhi paani chhod rahi thi. Uski chut baal rahit thi.

Mujhe aur Preeti ko kaafi maza aa raha tha.. Kareeb aadha ghanta aise hi masti karte rahe.
Itne mein bus ek hotel par ruk gayi. Wahaan sabhi log utar gaye.. Main turant driver ke paas gaya aur 100 rupaye dekar bus ko thoda aage khada karne ko aur 20-25 minute mein aane ko bola.

Driver ne rupaye lekar bus hotel ke baahar side mein khadi kar di aur jaldi karne ko bolkar hotel mein chala gaya.

Main aur Preeti ab bus mein akele thay, Maine Preeti ka kameej utaar diya, Preeti sharma kar mujhse lipat gayi aur zor ka kiss kar diya.
Main uske mast mammon ko dekhkar josh mein aa gaya aur uske choochon ko bra ke uppar se hi dabaane laga. Preeti ne bhi meri belt kholkar pant ka button kholkar chain bhi khol lee, Ab meri pant ghutne par aa gayi.

Maine bhi Preeti ki salwaar ka naada kheench kar khol diya. Preeti ki salwaar sarak kar neeche aa gayi.
Ab maine Preeti ko bra aur chaddi mein dekh kar uski tareef ki aur ek pyaari si kiss ki.

Preeti ne kaha- Ab jaldi karo.. Log aa jaayenge. Maine kaha- Tumhaari chut mein aag bahut tez lagi hai..
Maine muskuraate huye nicker ko neeche sarka diya.”Chut Chudwane ”

Preeti ne bhi mere lund meri chaddi mein se baahar nikaal liya aur usko haathon se sahlaa kar kaha- Yaar yeh to bahut tight ho gaya hai.. Kaafi sundar bhi hai.
Maine kaha- Jaan choos kar ise aur mast kar do na.. To usne lund ko munh mein bhar liya.

Ab mujhse raha nahin jaa raha tha, Main khade-khade hi usse apna lund chuswaata raha aur uski choochiyon ko masalne laga.
Koi 5 minute choosne ke baad maine use peeche waali seat par litaaya aur uski chut ko munh mein bhar kar choosne laga.”Chut Chudwane ”

Preeti ne jaldi hi paani chhod diya aur mujhe apne uppar lita liya. Maine uski chut par lund rakha aur ek karara jhatka diya.
Mujhe badi hairaani hui ki chut se halki si awaaz ke saath khoon bhi nikla.. Saath hi wah zor se chillayi. Main bola- Pahli baar hai kya? Aur maine uske munh par haath rakh diya.

Wo dard se chhatpata rahi thi aur gardan hilakar usne ‘haan’ mein bhi ishaara kiya. Maine uski chhaatiyan sahlaani shuru kar din taaki uska dard kuch kam ho jaaye.

Kuch hi palon mein uska dard kuch kam ho gaya. Maine bhi lagataar teen-chaar dhakke lagaaye aur usko chooste huye poora lund daalkar ruk gaya.
Ab Preeti buri tarah tadapne lagi thi, Main bhi uske dard ko kam karne ke liye wahin ruk gaya aur uske poore sharir ko ragadne laga.”Chut Chudwane ”

Ab Preeti ke sharir mein hulchul hone lagi aur wo apni gaand uthaane lagi.
Main bhi ab dhakke lagana shuru karne laga.. Hamaare dhakke tezi ke saath lag rahe thay.
Preeti ki maadak awaazein bus mein goonjne lagin- Unnan.. Aah yaar.. Chod do.. faad do aaj.. Poora ghusa kar pelo.. Aahh.. Maza aa raha hai jaan..

Maine bhi dhakkon ki raftaar badha di. Ab Preeti ka sharir akadne laga aur wo sisiya kar boli- Uff.. Main aa rahi hoon.. Aahh.. Itna kahkar wo jhadne lagi.

Main bhi jaldi-jaldi dhakke lagata hua bola- Mera bhi hone waala hai.
Wo boli- Meri chut mein hi jhadna main pahli baar ka mehsoos karna chahti hoon.. Please meri chut ko apne paani se bhar do aur mujhe choomo. Main uski choochiyon ko dabakar aur tez-tez dhakke lagakar uski chut ko apne veerya se bharne laga.  “Chut Chudwane ”

Kuch der baad main apne rumaal se apne lund ko aur uski chut ko ponchhne laga.
Preeti ne aur maine ek lambi kiss ki aur apne-apne kapade pahan kar bus se baahar aa gaye.

Maine driver ko ishaara kiya.. Driver ne aakar 100 rupaye aur maange.. Maine use de diye aur bus mein Preeti ko bithakar kuch khaane-peene ko lene chala gaya.

Lagbhag 5 minute mein bus chal padi aur raat ke 11 baje hum Mohali pahunch gaye.. Jahaan uske Papa uska intezaar kar rahe thay.
Preeti ne mujhe ek kiss kiya.. Apna number dekar boli- Mujhe waapsi par phone jaroor karna.. Aur mann kar raha hai.

Maine bhi usko ek pyaari si pappi dekar bus ke darwaaze tak chhoda. Ab bus chal padi.
Baad mein maine Preeti ke number par use phone kiya. Preeti ne phone uthaya.. Maine Preeti ko apna naam bataaya aur bus ka naam liya. Bas phir kya tha hamaari lambi sexy baat shuru ho gayi.

Yeh ghatna mere jeevan ki vaastavik ghatna hai aur aapko bataane ke liye aisi hi kai aur ghatnaeyn bhi hain. Mujhe mail karen.
[email protected]

Priya Madam Ne Lund Pakad Liya-

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम जय है और में सूरत से हूँ, मेरी उम्र 21 साल है। हाईट 6 फुट 3 इंच है और दिखने में स्मार्ट हूँ और रोजाना जिम जाने वाला लड़का हूँ और साथ में मॉडलिंग की तैयारी भी चल रही है। अब में अपनी स्टोरी पर आता हूँ। ये बात तब कि है जब में 12वीं क्लास में पढ़ता था। वैसे उस टाईम में बिल्कुल ही शांत सा था और ना ही ज्यादा लड़कीयों से बात करता था और ना ही कोई फालतू चक्कर में पड़ता था, लेकिन मैंने अपना सेक्स का पहला अनुभव 12वीं क्लास में ही किया था और वो भी अपनी अकाउंट्स टीचर के साथ। अब थोड़ा उनके बारे में भी बता दूँ, उनका नाम प्रिया है और सब उनको प्रिया मेम ही बुलाते थे।

वो हमेशा से ही सब टीचर्स से बिल्कुल अलग दिखती थी, क्योंकि उनका ड्रेसिंग सेन्स अच्छा है। टाईट साड़ी के साथ बिना बाँह का ब्लाउज, उनकी हाईट 5 फुट 5 इंच है, वो 30 साल की है। लेकिन उनका फिगर ग़ज़ब का है और वो एकदम गोरी थी और ना ज्यादा स्लिम और ना ज्यादा मोटी थी। वो हर एक ज़गह से एकदम शानदार थी। उनका फिगर साईज़ तो पता नहीं, लेकिन उनके बूब्स काफ़ी बड़े और सुडोल है। वो कभी-कभी तो डीप कट ब्लाउज पहनकर आती थी तो किसी भी स्टूडेंट का ध्यान पढ़ाई में लगता ही नहीं था, लेकिन में उनसे लिमिट में ही बात करता था, क्योंकि उस टाईम में थोड़ा शर्मिला था।

ये बात हमारे स्कूल के कुछ अंतिम दिनों की है जब हमारे स्कूल में प्रोग्राम होने वाला था तो सब बच्चे अपनी-अपनी तैयारी में लग गये, लेकिन मैंने किसी भी चीज़ में भाग नहीं लिया था। प्रोग्राम में डांस, ड्रामा, फैशन शो, ये सब था और जिस दिन फैशन शो का ऑडिशन था तो मेरे सारे फ्रेंड्स ने मुझे भाग लेने को कहा, लेकिन में नहीं गया, क्योंकि मुझे कोई रूचि नहीं थी। फिर ऑडिशन निकल गये और उसी दिन हमारे अकाउंट्स की क्लास चल रही थी तो प्रिया टीचर ने पढ़ाते-पढ़ाते अचानक कहा से कि जय तुम्हें फैशन शो में भाग लेना चाहिए, तुम दिखने में भी अच्छे हो और तुम्हारी हाईट भी अच्छी है। में तुम्हारा नाम लिख रही हूँ। में कुछ नहीं बोला और आख़िर में मैंने सोचा चलो कर ही लेते है। मुझे मिलाकर फैशन शो के लिए 15 बच्चे सलेक्ट हुए थे।

फिर रोज़ हमारी स्कूल में ही प्रेक्टिस होती थी, अब प्रोग्राम के कुछ ही दिन बचे थे तो टीचर अपने घर बुलाने लग गये, रोज़ 2 घंटे तक प्रेक्टिस चलती थी जिसमें ड्रेस के बारे में, वॉक कैसे करना है, फेस एक्सप्रेशन कैसे रखने है? ये सब होता था। मैंने नोटीस किया कि मुझ पर टीचर कुछ ज्यादा ही ध्यान दे रही है। मुझसे हंसी मज़ाक करना, मेरी टाँग खींचना, वॉक की प्रेक्टिस के टाईम मुझे बार बार टच करना, लेकिन ठीक है, मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया। Lund Pakad Liya

फिर हम जब भी उनके घर जाते थे तो वो अकेली ही रहती थी और उनके पति जॉब करते है और रात को लेट ही घर आते है। उनके एक 4 साल की लड़की है जो उनकी नहीं है बल्कि गोद ली गई थी, क्योंकि प्रिया मेम में कुछ प्रोब्लम थी, उनका बच्चा नहीं ठहरता था, लेकिन मैंने उनको कभी भी इस बात के लिए दुखी नहीं देखा। फिर में भी फैशन शो की प्रेक्टिस के टाईम उनसे थोड़ा-थोड़ा नजदीक होने लगा था और उनसे फ्लर्ट करना चालू कर दिया। फिर तो में रोज़ प्रेक्टिस के बाद उनके घर रुकने लग गया, जब सभी बच्चे चले जाते थे तो में और प्रिया मेम बातें करते थे। फिर धीरे-धीरे प्रोग्राम की तारीख पास आने लग गई। प्रोग्राम के 2 दिन पहले प्रिया मेम ने मुझे रोज़ के टाईम से 2 घंटे जल्दी बुलाया, दोपहर के 2 बजे प्रोग्राम की तैयारी के लिए और मेम ने उस दिन सब बच्चो को छुट्टी दी हुई थी, तो में मस्त पर्फ्यूम लगाकर अच्छे से कपड़े पहनकर तैयार हो गया।

फिर में टाईम पर उनके घर पहुंचा और फिर उन्होंने दरवाज़ा खोला और में अन्दर आकर रूम में बैठ गया। फिर उन्होंने कहा कि तुम बैठो में बाथ लेकर आती हूँ, आज बाथ लेने का टाईम ही नहीं मिला। फिर वो अपने बेडरूम में चली गई। फिर आधे घंटे के बाद उन्होंने मुझे आवाज़ लगाई तो में उनके रूम में गया और देखा तो मेम ने एक मस्त काले कलर का टॉप पहना हुआ था और नीचे सफ़ेद कलर की एकदम टाईट केफ्री थी। में तो उनको देखता ही रह गया। वो क्या लग रही थी?  Lund Pakad Liya

उनका टॉप काफ़ी डीप कट का था जिससे बूब्स के ऊपर के पार्ट मतलब उनका क्लीवेज साफ़ दिखाई दे रहा था और केफ्री इतनी टाईट कि जांघो और गांड का पूरा शेप दिख रहा था। फिर मेरे 1-2 मिनट तक घूरने के बाद मेम ने चुप्पी तोड़ी और कहा कि क्या देख रहे हो? कभी कोई लड़की नहीं देखी क्या? तो मैंने कहा देखी तो बहुत है, लेकिन आज तक इतनी सेक्सी नहीं देखी और मुझे पता नहीं था कि आप इतनी सेक्सी दिखती हो। फिर मेम ने कहा कि बस करो, ये तो मैंने ऐसे ही पहन लिया, काफ़ी दिन हो गये थे तो मैंने कहा अच्छी बात है।

फिर मैंने पूछा कि आज क्या प्रेक्टिस करनी है, तो उन्होंने कहा कि आज तुम मुझे एक मॉडल की तरह 2-3 ड्रेस पहनकर दिखाओगे और रेम्प वॉक करके बताओगे, क्योंकि तुम शो टॉपर रहोंगे। फिर उन्होंने अपने पति के कुछ पार्टीवेयर कपड़े दिए और में वो चेंज करने जा रहा था तो उन्होंने मुझे रोक लिया और कहा कि यही पर चेंज कर लो। फिर मैंने कहा कि आपके सामने कैसे? तो वो बोली कि इसमें क्या है? मॉडल्स को चेंजिंग रूम में सबके सामने चेंज करना पड़ता है। में तो ये सुनकर ही उत्तेजित हो गया और मेरा लंड खड़ा हो गया। फिर मैंने अपनी टी-शर्ट तो खोल दी, लेकिन अब जीन्स कैसे खोलता, लेकिन फिर हिम्मत करके दूसरी तरफ मुँह करके मैंने जीन्स खोली तो मेरा लंड खड़ा हो ही गया था। वो तो मेरे कंट्रोल में था ही नहीं, अब में सिर्फ़ अंडरवेयर में था। फिर अचानक मेम मेरे सामने आ गई। उन्होंने मेरा खड़ा लंड तो देख ही लिया था, लेकिन कुछ नहीं बोली।

फिर उन्होंने मुझे पहनने को एक ट्राउज़र दिया तो में पहनने लगा, लेकिन वो इतनी टाईट थी कि बटन ही नहीं लग रहा था, ऊपर से मेरा लंड भी खड़ा था। फिर मैंने मेम से कहा कि ये मुझे नहीं आयेगी, तो वो मेरे सामने घुटनों पर बैठकर बटन लगाने की कोशिश करने लगी, इसी बहाने से वो मेरे लंड को भी हाथ लगा रही थी और में और ज्यादा उत्तेजित हो रहा था। फिर आख़िर उनसे भी बटन नहीं लगा तो उन्होंने कहा ये ट्राउज़र उतार दो, तो मैंने ट्राउजर उतार दिया। Lund Pakad Liya

फिर वो दूसरा ट्राउज़र लेकर आई और पहनने को कहा, लेकिन वो भी टाईट था, फिर मेम ने अचानक मेरे लंड को अंडरवेयर के ऊपर से पकड़ा और सहलाते हुए कहा कि तुम्हारा यही इतना बड़ा है तो टाईट तो होगा ही। फिर मेम ने अचानक मेरी अंडरवेयर उतार दी और मेरा लंड उछलते हुए बाहर आया और फिर एक हाथ से मेरा लंड हिलाने लगी और मुझे लिप पर किस करने लगी। फिर 10 मिनट किस के बाद वो मेरा लंड पकड़कर बेडरूम की तरफ चल पड़ी, जैसे हम किसी का हाथ पकड़कर लेकर जाते है। फिर बेडरूम में आते ही मैंने उनको उठाकर बेड पर धीरे से लेटाया, वो बस स्माइल ही कर रही थी। वो ना जाने कब से इस चीज़ का इंतज़ार कर रही थी।

फिर मैंने उनका टॉप उतारा तो उन्होंने भी मेरा साथ दिया और काले कलर की ब्रा में मेरी मेम क्या लग रही थी? फिर मैंने बिना टाईम ख़राब किए उनकी ब्रा भी उतार दी, बाप रे उनके क्या बूब्स है? मिल्की वाइट और पिंक निपल्स जो कि बिल्कुल कड़क हो चुके थे। मैंने मेरी ज़िंदगी में पहले कभी ऐसा नज़ारा नहीं देखा था। फिर में धीरे-धीरे अपने हाथों से उनके बूब्स दबा रहा था और उन्हें लिप पर स्मूच कर रहा था और जीभ से जीभ मिलाकर उनके लिप मेरे दोनों लिप्स के बीच में दबाकर चूस रहा था और उस स्मूच में एक अलग सा मिंट फ्लेवर आ रहा था। फिर स्मूच करते-करते में उनकी गर्दन पर आ गया और उन्होंने एक लाजवाब पर्फ्यूम लगा रखा था।

मैंने तो गर्दन पर भी किसिंग और जीभ फेरना चालू कर दी। फिर मैंने नोटीस किया कि मेरे ये करने के दौरान उनके हाथों के बाल खड़े हो गये थे, मतलब वो फुल इन्जॉय कर रही थी। फिर में गर्दन पर किस करते-करते और नीचे आया, अब बारी थी उनके बूब्स की तो मेम ने तो मेरा सिर कसकर अपने बूब्स पर दबा दिया और में ज़ोर-ज़ोर से उनके निपल्स चूसने लगा और उनके मुँह से आअहह उम्म्म्मम की आवाज आने लगी।

फिर मैंने करीब आधे घंटे तक बारी-बारी उनके दोनों बूब्स चूसे। फिर में और नीचे बढ़ा और उनके पेट पर किसिंग करते हुए उनकी नाभि को चाटने लगा तो वो उछल पड़ी, उन्हें बहुत मज़ा आ रहा था। फिर मैंने उनकी केफ्री उतार दी और अब वो सिर्फ़ एक पारदर्शी काले कलर की पेंटी में थी। फिर मैंने उनकी पेंटी भी उतार दी। उनकी क्या ग़ज़ब की चूत थी? एकदम गोरी और चूत पर एक भी बाल नहीं था, शायद नहाते टाईम ही क्लीन की होगी और उनकी चूत से मस्त खुशबू आ रही थी, शायद उन्होंने मुझे अच्छा फील करवाने के लिए वहाँ कुछ लगाया होगा। अब वो मेरे सामने पूरी नंगी थी और में भी उनके सामने पूरा नंगा था। Lund Pakad Liya

फिर उन्होंने कहा कि प्लीज़ जय ए.सी चालू कर दो, ए.सी में मज़ा आयेगा। में झट से ए.सी चालू करके फिर से बेड पर आ गया। फिर मैंने उनको तड़पाने के लिए उनके पैरो की उँगलियों से किस करना चालू किया और किस करते-करते में उनकी जांघो तक पहुंचा और फिर चूत के आस पास किसिंग की और जीभ फेरने लगा। फिर उन्होंने मेरे बाल पकड़कर मेरा सिर अपनी चूत की तरफ दबाया और कहा कि बस बहुत तड़पा लिया, अब इसे शांत कर दो, यहाँ बहुत आग लगी हुई है। फिर मैंने जीभ निकालकर ऊपर से उनकी चूत को अच्छे से चाटना शुरू किया। वाह्ह्ह क्या टेस्ट आ रहा था? में उनके चूत के दाने को मुँह में लेकर चूसने लगा और वो पागल हुए जा रही थी और मेरा सिर अपनी चूत की तरफ और ज़ोर से दबा रही थी और में अपनी जीभ से मशीन की तरह मूवमेंट कर रहा था और वो उत्तेजना में चिल्ला रही थी, मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था।

फिर मेम ने कहा कि मुझे दूसरी पोज़िशन ट्राई करनी है तो मैंने कहा ठीक है। फिर उन्होंने मुझे सीधे लेटने को कहा और वो अपनी चूत को मेरे मुँह के पास लाकर मेरे मुँह पर बैठ गई। फिर मैंने जीभ बाहर निकाली और उनकी चूत के अंदर डाल दी, अब वो ऊपर नीचे हो रही थी और में उनको अपनी जीभ से चोद रहा था। फिर अचानक वो मुँह घुमाकर बैठ गई और हम 69 पोज़िशन में आ गये, फिर वो भूखी शेरनी की तरह मेरा लंड चूसने लगी और वो अपनी चूत मेरे मुँह पर रगड़ रही थी। Lund Pakad Liya

उन्होंने इतना तेज़ मेरा लंड चूसा कि मेरा पानी 2-3 मिनट में ही निकलने वाला था। फिर मैंने उनसे कहा कि मेरा पानी निकलने वाला है तो उन्होंने कहा मेरे मुँह में ही निकाल दो। फिर कुछ देर बाद मेरा पानी निकल गया और उन्होंने मेरे लंड का सारा पानी पी लिया। फिर भी उन्होंने मेरा लंड चूसना नहीं छोड़ा और इस दौरान वो मेरे मुँह पर ज़ोर-ज़ोर से अपनी चूत रगड़ रही थी और फिर उनका भी पानी निकल गया और सारा मेरे मुँह पर गिरा दिया। फिर वो थोड़ी शांत तो हुई, लेकिन उनका मन अभी तक नहीं भरा था, तो मेम ने मेरा लंड चूस-चूसकर फिर से खड़ा कर दिया।

फिर मैंने मेम को सीधा लेटाया और उनकी टांगे फेला दी और में बीच में बैठ गया, अब मेरा लंड और उनकी चूत काफ़ी गीली थी। फिर मैंने मेरा लंड पकड़कर उनकी चूत पर थोड़ी देर सहलाया, वो भी क्या एहसास था? फिर मैंने धीरे-धीरे अपना लंड उनकी चूत में डालना स्टार्ट किया, उनकी चूत काफ़ी कम सिकुड़ी हुई थी और फिर उन्होंने सामने से ही बोल दिया कि जय मेरे पति का लंड तुम्हारे लंड की तरह बड़ा नहीं है तो में हंस दिया और एक झटके में अपना पूरा लंड उनकी चूत में डाल दिया और बिना रुके चोदने लगा तो एक मिनिट तक तो उन्हें दर्द हुआ, फिर वो भी मजे में आकर गांड हिलाने लग गई। अब में उन्हें शॉट्स भी मार रहा था और उनके सेक्सी लिप्स पर किस भी कर रहा था और एक चीज़ में आप सबको बता देता हूँ कि ए.सी में सेक्स करने का मज़ा ही अलग है।  Lund Pakad Liya

फिर में जोश में आकर और ज़ोर से शॉट्स मार रहा था और पूरे रूम में पच पच पच की आवाज़ आ रही थी, उस दौरान वो दो बार झड़ गई। अब मेरी बारी थी। मैंने मेम से पूछा कि वीर्य कहाँ निकालूँ तो उन्होंने कहा अंदर ही निकाल दो और फिर में 1-2 मिनट में ही झड़ गया और अपना गर्म-गर्म पानी उनके अंदर छोड़ दिया। अब में शांत होकर उनको हग करके बाजू में सो गया। हम आधे घंटे तक ऐसे ही सोए हुए थे। फिर हम दोनों उठे और हमने साथ में शॉवर लिया औए शॉवर लेते टाईम में उनकी बॉडी पर साबुन लगा रहा था और वो मेरे लंड पर साबुन लगा रही थी। मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और में उनके बूब्स चूस रहा था और हमने फिर से बाथरूम में सेक्स किया। ये मेरी लाईफ का एक मस्त अनुभव था जो मैंने आपके साथ शेयर किया है ।।

Sasural Me Devro Se Chudai-

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम सुनीता है और यह बात तब की है जब में मेरी शादी के बाद दूसरी बार ससुराल गई। मेरा फिगर 34-30-32 है। मेरे पति बाहर जॉब करते है तो तब मेरे पति घर पर नहीं थे। मेरे दो देवर है और मुझे रूम में देखकर मेरे दोनों देवर खुश हो गये और दोनों मेरे बगल में आकर बैठ गये, वो दोनों जिम जाते है और घर का घी माखन खाकर उनकी बॉडी काफ़ी मस्त हो गई थी। फिर कुछ देर बाद उन लोंगो ने मुझसे थोड़ी हंसी मज़ाक भी करनी शुरू कर दी थी, तभी मुझे लगा कि वो दोनों अपनी कोहनी मेरे बूब्स पर टच कर रहे थे, लेकिन में कुछ नहीं बोली। फिर शाम को मुझे पता चला कि मेरे घरवाले किसी रिश्तेदार के घर जा रहे थे और घर पर बस में अकेली थी और मेरे दोनों देवर भी आने वाले थे। Devro Se Chudai

फिर रात में डिनर तक तो सब ठीक रहा। फिर दोनों बोले चलो भाभी टी.वी देखते है और फिर दोनों मेरे बगल में आकर बैठ गये और फिर से मेरे बूब्स पर अपनी कोहनी टच करने लगे, अब में भी मज़े लेने लगी थी तभी टी.वी पर एक हॉट सीन आया तो मैंने अपनी गर्दन नीचे कर ली। तो मैंने देखा कि उन दोनों की पैंट में उनका लंड खड़ा हुआ था। मैंने फिर उनकी तरफ देखा और बोली कि में सोने जा रही हूँ और मैंने उठने के लिए उनकी जांघ पर हाथ रख दिया। मेरा हाथ उनके लंड को टच कर रहा था। फिर वो दोनों भी मेरे साथ बेडरूम में आ गये, लेकिन फिर में कुछ बोलती जिससे पहले वो दोनों मुझ पर टूट पड़े। में कुछ समझ भी नहीं पाई कि क्या हुआ और जब पता चला तब तक में बेड पर थी। फिर वो दोनों मेरी बॉडी के एक दूसरी साईड में आ गये और एक ने मेरे मुँह को अपने मुँह से लगा कर बंद कर दिया था और एक किस कर रहा था और उनके हाथ मेरे बूब्स पर थे। मैंने उनसे बचने के लिए बहुत हिलने की कोशिश की, लेकिन हिल नहीं पाई, क्योंकि उन दोनों ने मेरे एक-एक हाथ को अपनी बॉडी के नीचे दबा रखा था और पैरो को भी अपने पैरो में फंसा रखा था।

फिर कुछ देर के बाद उन दोनों ने मेरे बूब्स को सहलना शुरू कर दिया। फिर जिसने मेरे मुँह को बंद करके रखा था, वो जैसे ही हटा तो दूसरे ने अपना मुँह लगा दिया और चूमने लगा। मेरे मुँह से बस नहीं नहीं ही निकला, अब तो पहले वाला मेरे गालों पर फिर गर्दन पर किस करने लगा और अपने दोनों हाथों से मेरे बूब्स मसलने लगा। अब मुझे भी मज़ा आने लगा था और एक मेरे पैरो के बीच में हाथ डालकर सहलाने लगा। फिर एक ने मेरा ब्लाउज खोल दिया और ब्रा खोल कर, अहहाहम्म मेरी चूचियों को मुँह में भर लिया, अब में भी मस्ती में डूबती जा रही थी और एक मेरे मुँह को बंद करते हुए फिर मेरे होठों को चूसने में लगा था। तभी एक हाथ मेरी कमर पर घुमाने लगा और फिर उसने मेरे पेटीकोट को भी खोल दिया।

अब में सिर्फ पेंटी में थी और अब वो एक हाथ मेरी पेंटी अन्दर डालकर मेरी चूत को सहलाने लगा और दूसरे ने भी हाथ मेरी पेंटी में डाला और पेंटी के अन्दर हाथ डालकर चूत के छेद में उंगली करने लगा। में झट से उछल पड़ी, लेकिन में कुछ नहीं कर सकी, क्योंकि में उन दोनों के शरीर से दबी हुई थी। फिर एक ने जोर जोर से चूत में उंगली अन्दर बाहर डालना शुरू कर दिया। जिससे में भी बहुत गर्म हो गई थी। फिर मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया और चूत से पानी बाहर निकलने लगा और अपना हाथ बाहर निकालकर बोला भाभी भी मज़े ले रही है और फिर मुझसे बोला भाभी मज़ा आया की नहीं, तो में कुछ नहीं बोल पाई।  Devro Se Chudai

फिर वो बोला भाभी आप भी मज़े लो और हमें भी मज़े लेने दो और फिर मेरे मुँह को आजाद कर दिया और होठों को भी आजाद कर दिया। में चुपचाप बेड पर पड़ी थी और फिर एक ने हल्के से मेरी बूब्स को सहलाया तो में झट से उसे पकड़ कर चूमने लगी, वो दोनों खुश हो गये। फिर एक ने अपना हाथ मेरी चूत पर रखा तो मैंने झटके से उसका हाथ हटा दिया तो वो बोला क्या हुआ? तो में स्माइल के साथ बोली तुम लोग अभी तक कपड़ो में हो और में नंगी हूँ तो दोनों हट गये और अपने-अपने कपड़े खोल दिए और फिर मैंने भी अपना पेटीकोट और साड़ी एक साथ उतार दी और फिर एक आगे आकर मेरी पेंटी उतार कर मेरी चूत चाटने लगा। तब मेरा ध्यान उसके लंड पर गया।

उसका लंड लगभग 8 इंच का था, ओह्ह्ह्ह मेरी चूत तो मचलने लगी और एक जो खड़ा हुआ था उसने मुझे आगे आकर अपना लंड पकड़ा दिया तो में भी उसे मुँह में लेकर चूसने लगी। फिर उसने भी मेरे बूब्स चूसना और सहलना शुरू कर दिया था और में अपने हाथ पहले वाले के सिर पर रख कर सहलाने लगी, अहहहः आराम से चाटो बड़बड़ाने लगी और वो भी अपनी जीभ मेरी चूत में अन्दर डाल कर रखता और दूसरा ऊपर मेरे मुँह में धक्के लगाने लगा और बूब्स मसलने लगा, उस समय में तो जन्नत में थी।

फिर पहले वाला उठा और बोला ज़रा मुझे भी लंड चुसवाने दो तो दूसरा हटकर मेरी चूत पर आ गया और चाटने लगा तो में उसे रोककर बोली अब और मत तड़पाओ और चोद भी दो। मेरी चूत तड़प रही थी और उसने चूत को चाटना छोड़कर और उठकर अपना लंड मेरी चूत में डाला और धीरे-धीरे अन्दर बाहर करने लगा। तो में बोली तुम्हारा लंड तो तुम्हारे भैया से बहुत बड़ा है और फिर उसने इतना तेज धक्का लगाया कि उसका आधा लंड अन्दर चला गया और तभी दूसरे ने मेरे मुँह में अपना लंड पूरा डाल दिया और उधर उसने मेरी चूत में एक और ज़ोर का धक्का मार कर पूरा लंड मेरी चूत में डाल दिया। मेरी तो सांस ही अटक गई थी। तब पहले वाले ने अपना लंड मेरे मुँह से बाहर निकाला तो में चिल्ला उठी, ओह्ह्ह्हह फाड़ दी मेरी चूत, अहह्ह्ह्हह्ह। तो वो बोला बस अब दर्द नहीं होगा, बस मज़े लो तो में बोली तो किसका इंतज़ार कर रहे हो इतना सुनते ही वो ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाने लगा। Devro Se Chudai

फिर में भी उसका पूरा साथ देने लगी और बड़बडाने लगी, आह्ह्हह्ह ज़ोर से और जोर से हाँ मज़ा आ रहा है, जम कर चोदो, अहह्ह्ह्हह अब मेरे मुँह में लंड डालो। अब मुझे बहुत मजा आने लगा था कि पहले वाला चूत से हट गया, तो में बोली क्या हुआ? तो दूसरा बोला कि अब मेरी बारी है। फिर उसने मुझे डॉगी स्टाइल में कर दिया और जो मेरी चूत से हटा था। उसने आगे आकर मेरे मुँह में लंड डाल दिया और दूसरे ने पीछे से लंड डालकर एक ज़ोर के धक्के के साथ पूरा अन्दर डाल दिया तो में बहुत जोर से चिल्ला उठी और फिर वो मेरी जमकर चुदाई करने लगा। फिर में भी उसका पूरा साथ दे रही थी और फिर 10 मिनट के बाद वो दोनों झड़ गये, एक मेरे मुँह में तो, एक मेरी चूत में झड़ गया और में कितनी बार झड़ी थी मुझे याद नहीं है और उस रात हमने 3 बार और चुदाई की और सुबह तक मेरी चूत फूल गई और बूब्स पर उंगलीयों के निशान पड़ गये थे ।।

Padoshi Ki Bhabhi ki Gand Mein Lund-

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अजय है और में गुजरात के अहमदाबाद शहर से हूँ। में इस साईट का बहुत पुराना पाठक हूँ और में इस साईट की सभी स्टोरी पढ़ चुका हूँ। अब पहले में आपको अपने बारे में बता दूँ कि में दिखने में स्मार्ट हूँ और मेरी उम्र 23 साल है। ये 6 महीने पहले की बात है और ये स्टोरी मेरी और मेरे पास में रहने वाली मेरी पड़ोसन की है, उसका नाम रेखा है और वो पति पत्नी दोनों ही रहते है। उनकी उम्र 25 साल है इसलिए में उन्हें भाभी कहकर बुलाता हूँ और उनके पति एक एम.एन.सी कंपनी में जॉब करते है। रेखा भाभी मेरे घर के बाजू में रहती है इसलिए उनका मेरे घर में आना जाना बहुत था।

हम दोनों में बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी। में ज्यादातर उनके घर पर ही रहता हूँ क्योंकि वो अकेली होती है। वो दिखने में बहुत खूबसूरत है। उसकी साईज़ 34-32-30 है, क्या बूब्स है उसके? और क्या गांड है? जो भी उसे देख ले तो चोदने का मन हो जाए। अब में भी उनको चोदने का मौका ढूँढ रहा था। एक दिन जब में उनके घर गया तो वो अपने कमरे में साड़ी पहन रही थी और में सीधा अंदर चला गया। फिर में वही बैठा उसे देख रहा था तो वो बोली क्या देख रहा है? तो में बोला आपको देख रहा हूँ।

फिर उसने मुझसे कहा कि कभी नंगी लड़की नहीं देखी है क्या? तो मैंने कहा कि नहीं कभी मौका ही नहीं मिला। तो वो बोली चल ठीक है अब उठ और पीछे से मेरे ब्लाउज के हुक बाँध दो तो मैंने कहा कि ठीक है। फिर में खड़ा होकर उसके पास गया और पीछे से उसके हुक बाँध रहा था। दोस्तों क्या बदन था उसका? उसने अन्दर काले कलर की ब्रा पहनी थी। फिर मैंने पूछा कि आप बहुत सेक्सी हो और में उनकी पीठ पर हाथ फैरने लगा। तब वो बोली कि क्या कर रहे हो? फिर मैंने कहा कि बस अच्छा लगता है। उस टाईम मेरा लंड खड़ा हो गया था और उसकी गांड पर टच हो रहा था। फिर उसने मेरे लंड पर हाथ रखकर कहा कि ये तो बड़ा टाईट हो गया है। फिर मैंने कहा जब इतनी सेक्सी भाभी पास हो तो खड़ा तो हो ही जायेगा ना। तब मैंने तुरंत उसके आगे हाथ डालकर उसके बूब्स पर रख दिया और धीरे-धीरे दबाने लगा। तो उसके मुँह से आह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह ऐसी आवाज़े आने लगी। अब वो सीधी होकर मेरे होंठ पर अपने होंठ रखकर मुझे किस करने लगी और अब में भी उसका साथ देने लगा था। Bhabhi ki Gand Mein Lund

फिर में एक हाथ उसके बूब्स पर रखकर जोर जोर से दबाने लगा। अब वो मेरे कपड़े निकालने लगी तो में भी उसका ब्लाउज उतारने लगा। बाद में उसने मेरे पूरे कपड़े निकाल दिए। फिर मैंने भी उसके पेटीकोट को निकाल दिया। अब वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थी। फिर मैंने उसे बिस्तर पर लेटा दिया और उसे जोरो से किस करने लगा। अब वो भी मेरा साथ देने लगी थी। फिर में उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स दबाने लगा तो अब वो बोले जा रही थी कि अजय और जोर से दबाओ, मुझे बहुत मज़ा आता है। फिर में और जोर से उनके बूब्स को दबाने लगा, और फिर मैंने उनकी ब्रा निकाल दी, दोस्तों क्या बूब्स थे? में तो उस पर टूट ही पड़ा। फिर में उसके बूब्स पर जोर से काटने लगा तो वो बोले जा रही थी कि धीरे से में कही भाग नहीं जाऊँगी, प्लीज आराम से दबाओं, चूसो, पी लो सारा रस, अब में तुम्हारी हूँ।

फिर धीरे-धीरे में उसके नीचे गया और उसकी पेंटी निकाल दी, क्या चूत थी उसकी? अब में उसकी चूत पर किस कर रहा था। वो बोली कि उसे चाटो, प्लीज चाटो मेरी चूत को, मेरे पति कभी मेरी चूत को नहीं चाटते, प्लीज जोर से चाटो। अब में भी उसकी चूत को चाटने लगा, तभी वो बोली कि मुझे तुम्हारा लंड चूसना है। फिर हम 69 पोज़िशन में आ गये। अब वो मेरा लंड जोर से चाट रही थी और में उसकी चूत को चाट रहा था। फिर वो बोली कि मेरे राजा अब नहीं रहा जाता, प्लीज मुझे चोद डालो। फिर मैंने बोला ठीक है। फिर हम सीधे हो गये तो वो बोली कि लाओ थोड़ा लंड चूस लूँ। फिर डालना तो वो जोर से मेरा लंड चूसने लगी। फिर 5 मिनट तक लंड चूसने के बाद बोली कि चलो अब डालो। फिर वो सीधी लेट गई और मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रखा तो वो बोली क्यों तड़पा रहे हो अपनी रानी को? प्लीज जल्दी से डालो और चोदो मुझे। Bhabhi ki Gand Mein Lund

फिर मैंने चूत के अंदर अपना लंड डाला, तो वो चिल्लाने लगी कि धीरे से डालो, बहुत दर्द हो रहा है। फिर मैंने कहा ठीक है। फिर मैंने एक ही झटके में अपना लंड चूत में डाल दिया तो वो जोर से चिल्लाने लगी। फिर थोड़ी देर रुकने के बाद वो बोली कि अब चोदना चालू करो। फिर मैंने धीरे-धीरे उसको चोदना चालू किया। अब वो आह्ह्ह आआ अया आह्ह्ह्ह आहाआह बोल रही थी और कह रही थी कि ज़ोर से चोदो और जोर से चोदो। फिर में भी अपने धक्के तेज करके उसको चोदने लगा।

अब में उसके बूब्स दबा रहा था और किस कर रहा था। अब वो जोर से बोले जा रही थी आहाहा आहा आ आ आ चोदो। फिर मैंने बोला कि मेरा निकलने वाला है तो वो बोली कि डाल दो अपना रस मेरी चूत में और बना लो मुझे अपने बच्चे की माँ। अब उसका दो बार निकल गया तो वो बोली मेरा तीसरी बार निकलने वाला है चलो साथ में झड़ते है। उसके बाद हम दोनों साथ में झड़ गये। फिर मैंने पूरा रस उसकी चूत में डाल दिया और उसके ऊपर लेट गया। फिर वो बोली कि मुझे पहली बार संतोष मिला है। उसके बाद हमें जब भी मौका मिलता हम चुदाई करते है ।

Biwi Ko Habsi Lund Se Chudne Ki-

Hello dosto, Aaj aapke liye pesh hai, Delhi ke Raj Garg ki ek aur kahani, jismein unhone apni Patni ki ichha poorti ke liye usko janamdin par tohfe ke roop mein habshi yaani ke negro ka lund tohfe mein diya.

To kahani padhiye aur sochiye agar kal aapki Patni aapse kahe ki use bhi kisi negro ka lund chahiye to aap kya karenge.

Dosto, Mujhe to aap jaan hi gaye ho, mera naam Raj Garg hai aur Wife Swapping Ki Chahat Mein Do Deewane kahani ka doosra aur teesra bhaag mere aur meri Patni Sima ke tajurbe par hi likha gaya hai.

Ab suniye nayi baat!

Hua yoon ki wife swappers club ki do teen meetings join karne ke baad meri Patni kaafi bindaas ho gayi.
Bindaas to pahle bhi thi, Magar ab use apne mann ki koi bhi baat khul kar mujhse kahne mein koi sankoch nahin hota tha.

Aise hi ek raat ko hum apna program bana rahe thay to mood banane ke liye maine ek blue film LED par laga lee ki badi screen par dekhenge aur unki tarah khud bhi enjoy karenge.
Main bhi sirf chaddi pahne tha aur meri Biwi ne sirf ek nighty pahan rakhi thi, Nighty ke neeche se koi bra ya panty kuch bhi nahin pahna tha. Lund Se Chudne Ki

Ek doosre se sat kar baithay dono hum ek doosre ke komal angon se khel rahe thay. Main apni Patni ki chut ke daane ko apni unglee se sahlaa raha tha jabki wo meri chaddi mein haath daal kar mere lund ko sahlaa rahi thi.

Film mein kai tarah ke scene thay, aise mein hi ek scene aaya ki ek bahut hi lamba chauda afriki jiska lund kareeb 1 foot ke kareeb hoga, ek naajuk si 18-19 saal ki ladki ko chodta, ladki ko kya uski to Maa chod deta hai.
Ladki uske lambe aur tagde lund se bachne ke liye bhaagi firtee hai aur wo habshi baar baar us ladki ko pakad pakad ke chodta hai.

Scene dekhte dekhte meri Biwi ne poocha- Suno, Kya in sabhi habshiyon ke lund itne bade bade hote hain?
Maine kaha- Nahin, Sabke to nahin, in film waalon ne dawaayen khaa khaa kar itne bade bade kar rakhe hote hain. ‘To aap bhi khaa lo aisi koi dawaa!’ Biwi boli.

To mere to kaan khade ho gaye- Kyon, Kya tumhen mera lund chhota lagta hai?
Maine poocha.
Wo boli- Nahin chhota to nahin theek hai, magar main sochti thi, jo auratein itne bade bade leti hain, unko kaisa mehsoos hota hoga. Maine poocha- Tumne lena hai kya?

To usne jhat se meri chaddi se apna haath baahar nikaala aur boli- Aap dila sakte ho kya?
Maine kaha- Kyon, Club mein bhi to tum kai tarah ke le chuki ho, kya unse dil nahin bhara? Wo boli- Club mein sab indians hi hain, aur sabke 6-7 inch ke hi hain, kuch ke to isse bhi kam.

To kya tum bada lund lena chahti ho kisi habshi ka, kal ko koi beemari lag gayi, ya koi aur problem aa gayi to?
Maine use daraana chaha, jabki uski is ichha se mere apne gote uppar chadhe padhe thay.

Wo boli- Aisa karte hain ki aap ek baar mere liye, koi aisa hi lamba chauda habshi, jiska lund bhi uski tarah hi vishal ho, dhoondh ke laao, agar mujhe pasand aaya to main uske saath karungi, agar pasand nahin aaya to phir chhod doongi, phir kabhi aapse aise nahin kahoongi.

Maine kaha- Dekho yaar, Ab main kahaan se tumhen habshi dhoondh ke laakar doon, aur kya main Delhi mein rahne waale sabhi negro se kahta firoon ki bhai, apna lund dikhana meri Biwi ne lena hai?
‘Kya yaar tum bhi?’ ‘Ab aise dekhne se kya pata chalega ki kis habshi ka lund kitna bada hai?’

Magar wo phir bhi boli- Dekho, Yeh samajh lo ki mera janamdin aa raha hai to uska tohfa mujhe yehi cheez chahiye, Jaruri nahin usi din, bas aage peeche kabhi bhi, par la jarur dena!

Usne to kah diya par meri fat gayi ki ab yeh kya anuchit maang hai iski aur ise kaise poora karun.
Wo to ji… side maar ke so gayi aur main TV band karke na jaane kab tak chhat ko ghoorta raha.

Uske baad maine kuch logon se baat ki, aur apni kisi mahila dost ka hawala dekar unse bhi koi lambe chaude habshi ke baare mein pata kiya.

Aur ek din ek dost ne mujhe ek habshi dost se milaaya. Wo teen chaar habshi thay jo ek student thay aur ek hi bade saare kamre mein rahte thay.
Maine unse mulaqaat ki. Thode din baad phir main unke ghar gaya aur unke liye beer chicken wagairah le gaya, dheere dheere unse dosti badhaai. Lund Se Chudne Ki

Ek din beer peete peete maine unse ek baat poochi ki unmein se sabse bada auzaar kiska hai.
Ab wo to thay hi bade bindaas so unmein se ek Garshiya naam ka bola ki uska sabse bada hai.

Ab un 4 habshiyon ke alawa main hi wahaan tha, to maine unhe apne vishwaas mein lekar poocha ki agar meri Biwi ke saamne wo apne apne lund nikaal ke dikha sakte hain to jiska lund wo pasand karegi, Use meri Biwi ke saath sex karne ka mauka mil sakta hai.

Maine apni Biwi ki photo bhi unko apne mobile par dikhaai. Ab gori chitti sundar aurat dekh kar unka bhi mann machal gaya, aur bas program fix ho gaya.

Us shaam maine ghar jaa kar apni Biwi ko bataaya ki uske birthday gift ka intezaam ho gaya hai to wo bahut khush huyi.

Uske janamdin se theek ek din pahle shaam ko main aur meri Patni dono taiyaar ho kar un habshiyon ke ghar jaa pahunche.
Shaam ka kareeb 7 baje ka waqt tha, Wo bhi poori taiyaari mein thay, kamre ko bilkul saaf suthra karke, perfume se mahkaaya tha. Lund Se Chudne Ki

Balki us din unki ek aur mahila mitra bhi aayi huyi thi. Main to usko dekh kar hairaan hi rah gaya, itne bade bobbe aur itne bade chootad, koolhe, gaand to maine aaj tak nahin dekhe thay.
Main soch raha tha ki agar baat bani to main apni ke badle isko swap karne ki baat kahunga.

Khair sabne haath mila kar ek doosre ka abhiwadan kiya aur sab baith gaye.
Pahle to start hi beer se hua.
Halka halka english sangeet aur halki maddham roshni maahaul bana rahi thi. Hum dono bhi apna apna glass pakad kar baith gaye, swappers club mein jaane ki wajah se meri Biwi bhi thodi bahut beer le leti thi.

Kuch der idhar udhar ki baatein hoti rahi. Jab sab do do glass beer pee chuke to phir hansi mazaak mein kaamukta ka ras bhi ghulne laga.
Wo jo negro ladki thi, sangeet par thirakte thirakte kabhi iski god mein gir jaati kabhi uski god mein… Ek baar meri god mein bhi baithi.

Sach mein patthar ki tarah sakht chootad uske aur usko uthaane ke chakkar mein maine uski kamar ko pakda aur haath uppar uske bobbon tak le gaya, to bobbe bhi ekdum solid. Lund Se Chudne Ki

Meri Biwi ne bhi dekh liya ki maine bahaane se uske bobbe choo liye hain, Magar wo sirf muskuraai.

Phir us ladki ne apni shirt utaar di. Hey Bhagwan… Kaale rang ke bra mein fanse uske bobbe, itne vishaal ki main byaan hi nahin kar sakta.
Neeche kaali slax jo uski moti jaanghon aur bahut hi bhaari gaand ko badi mushkil se sambhaal paa rahi thi.

Wo ladki bhi naach rahi thi, habshi ladke bhi naach rahe thay aur naachte naachte wo sab uske bhari bharkam badan ko bhi sahlaa rahe thay.

Phir ek ladka aaya aur meri Biwi ko bhi utha kar le gaya aur uske saath dance karne laga.
Dance to meri Biwi ko aata nahin tha magar phir wo bhi unke saath matakne lagi.
Mujhe bhi unhone dance ke liye kheencha magar maine mana kar diya aur baith kar unka dance dekhne laga.

Naachte naachte us ladke ne mere saamne hi meri Biwi ke chootadon par haath firaaya.
Yeh koi dance nahin tha, yeh shuddh kaamukta thi. Meri Biwi ne koi pratikriya nahin ki, Wo waise hi matakti rahi.

Uske baad ek ek karke sab ladkon ne apne apne kapde utaarne shuru kar diye aur us ladki ne bhi apni slax utaar di, Wo sirf bra panty mein thi aur chaaron ladke sirf chaddi mein.

Ek baar mujhe laga ki agar ye saale chaaron ke chaaron meri Biwi par toot pade to ye to saale itne tagde hain ki main to apni Biwi ko bacha bhi na sakoonga.
Par ab to jo hoga dekha jaayega waale halaat thay to main baitha dekhta raha.

Jaise jaise beer ko bottle pe botal wo log khaali karte jaa rahe thay, Meri Biwi ke saath chipakte jaa rahe thay aur thodi der baar haalat ye thi ki do ladke us moti ladki ke saath aur do ladke meri Biwi ke bilkul saath chipak kar dance kar rahe thay, Ek saamne se meri Biwi ke badan se apna badan ragad raha thay aur doosra peeche se uski gaand par apna lund ghisa raha tha. Lund Se Chudne Ki

Ghisaate ghisaate unhone meri Biwi ka pahle kurta aur phir salwaar bhi utaar di aur usko bed pe baitha diya.
Phir sabse pahle ek habshi ladka aaya aur usne meri Biwi ke bilkul saamne aakar apni chaddi neeche khiska aur apna lund nikaal kar dikhaaya, kareeb 9 inch ka uska kaala lund usne khud meri Biwi ke haath mein pakda diya.

Meri Biwi ne usko apne haath se pakad ke dekha to us ladke meri Biwi ka munh apne lund se jod diya aur uske munh mein apna lund thoons diya.
Abhi usne sirf do teen baar hi uska lund choosa hoga ki doosra ladka aa gaya aur usne bhi apna lund nikaal kar meri Biwi ke haath mein pakda diya. Iska lund bhi utna hi bada tha magar jyaada mota tha.

Phir teesra ladka aaya, uska lund kuch chhota tha, kareeb 7 inch ka. Sabke baad Garshiya aaya, jab usne apni chaddi neeche ki to ek baar to main bhi uska lund dekh kar hairaan rah gaya! 11 inch ka mota kaala lund jaise koi saanp ho.

Jab meri Biwi ne uska lund dekha to baaki sab ko chhod kar uska lund pakad liya. Saare lund par usne haath fer kar dekha, jaise use yakeen hi na ho ki itna bada lund bhi ho sakta hai.

Phir Garshiya ne poocha- Ab tum hum chaaron ke lund dekh chuki ho bolo kiska lund logi?
Ab meri Biwi ne sabse bade lund ki chaah ki thi aur use mil bhi gaya, to usne Garshiya ke lund ko hi pasand kiya.

Garshiya ne mujhse kaha- Agar aap chaho to Isaabela (wo habshi ladki) se sex kar sakte ho.

Maine bhi haami bhar di, kyonki yahaan bhi mujhe wife ke saath girl friend swap karne ka mauka mil gaya tha.

Maine abhi apne kapde utaar diye, Ab itne bade bade lundon ke beech mera 6-7 inch ka lund to bas lulli hi lag raha tha.
Magar mujhe apne sex se jyaada is baat mein interest tha ki meri Biwi kaise is cheez ko enjoy karti hai. To maine kaha- Pahle main apni Patni ko sex karte dekhna chahta hoon, baad mein main us ladki se sex karunga.

Garshiya ne meri Biwi ke bra aur panty bhi utaar diya aur use bed pe lita diya.
hum sab uske aas paas aa kar baith gaye.

Ek ladka video camera utha laaya aur video banane laga. Meri Biwi ne apni taangen kholi, pahle to Garshiya ne apna munh meri Biwi ki chut se laga kar uski chut ko chaatna shuru kiya. Sima to jaise tadap uthi.

Maine poocha- Sima, kaisa lag raha hai?
Wo boli- Aaj pahli baar kisi mard ki jeebh mere andar gayi hai, sach mein bahut hi naya aur ajeeb anubhav hai, Main bata nahin sakti, aise lag raha hai jaise ye jeebh se mere saath sex kar raha ho. Lund Se Chudne Ki

Na sirf chut… Maine dekha ki Garshiya neeche gaand ke chhed se apni jeebh phirata hua laata aur chut ke uppar tak chaat jaata.
Uske lund ki tarah uski jeebh bahut lambi thi, aur apni Patni ko bhi main jaanta tha, use apni chut chatwaana bahut hi pasand tha, halki jeebh lagaane par hi wo khoob paani chhodti thi aur yahaan to itni badi jeebh thi jo uski daraar ko ek seere se doosre seere tak chaat rahi thi, yeh pata nahin lag raha tha ki meri Biwi ki jaanghen aur aas paas us habshi ke thook se geela hua hai ya meri Biwi ki chut ke paani se.

Baaki ke do lambe lambe lund waale ladkon ne bhi apne apne lund meri Biwi ke haathon mein pakda rakhe thay, Jinhen wo haule haule hila hila kar unse khel rahi thi.
Phir Garshiya ne meri Biwi se pooch kar apna lund uski chut pe rakha. Meri Biwi bade araam se taangen chaudi kar ke padi thi, magar meri gaand fati padi thi ki wo itna mota aur lamba lund legi kaise, aur uske aage ek chhote seb jitna bada supaada.

Magar aurat ki gahraai aaj tak koi nahin jaan saka. Us bhainse jaise habshi ne to zor lagaaya aur apna supaada meri Biwi ki chut mein ghused diya. Lund Se Chudne Ki

Maine saaf dekha ki Sima ki chut kitni fail gayi thi, Sima dard ke maare karaah uthi.
Maine Sima se poocha- Dard ho raha hai kya? Magar wo muskura kar boli- Nahin, Magar aisa laga jaise pahli baar sex kar rahi hoon, Jaise aaj mera kaumarya bhang hua ho.

Garshiya ne bhi Sima se poocha ki agar dard ho raha hai to wo nikaal lega, Magar Sima ne mana kar diya, to Garshiya ne phir se aur apna lund Sima ki chut mein ghuseda aur is baar Sima phir sisak uthi.
Dard ke bhaav saaf uske chehre par aate thay, magar phir bhi wo dard ko bardaasht kar rahi thi aur muskura rahi thi.

Garshiya ne apna aadhe ke kareeb lund Sima ke chut mein daal diya.
Maine Sima se poocha- Sima, Kaisa lag raha hai?
Halaanki uski haalat dekh kar mera saara josh hawa ho chuka tha. Sach kahoon to wo moti habshan bhi mere lund se khel rahi thi, choos rahi thi, magar mera lund apni akad bhool gaya, mera saara dhyaan ab Sima ki taraf hi tha.

Jab mera lund dheela pad gaya to wo Isabella bhi apne doosre dost ke saath lag gayi. Sima bed pe chitt leti padi thi, Garshiya ka aadhe ke kareeb lund uski chut ko poora khol ke andar ghusa aur aur baaki ke do ladko ne bhi apne apne lund Sima ko haathon mein pakda rakhe thay, jinhen wo hila hila kar khel rahi thi.

Sima ne Garshiya ko ishaara kiya to Garshiya ne apna lund uski chut ke andar baahar chalana shuru kiya. Har baar Sima ke munh se dard ki siskee nikal jaati magar phir bhi wo Garshiya ko mana nahin kar rahi thi.
Garshiya ne Sima se poocha ki kya wo aur andar daale? To Sima ne kaha- Nahin aur aage nahin jaa sakta, Bas ab yeh aakhiri kinaare ko choo raha hai. Lund Se Chudne Ki

Uske baad Garshiya ne apni speed thodi si badha di. Ab jitna bada uska sharir tha, utni hi taakat bhi thi, saale ne meri Biwi ko pel kar rakh diya.
Sima ko bhi shayad is jabardast chudai mein maza aa raha tha, wo bhi kabhi is ladke ka to kabhi doosre ladke ke lund ko munh mein le le kar choos rahi thi.

Kareeb 5-6 minute Garshiya ne jam kar Sima ko choda, phir poocha ki kya wo do lund lena pasand karegi.
Abhi maine na kaha magar Sima ne haan kah di. Garshiya bina apna lund Sima ki chut se nikaale, khud neeche ho gaya aur Sima ko apne uppar kar liya.

Sima ke uppar aate hi doosra habshi ladka, Sima ke peeche aa baitha aur usne bhi apna 9 inch ka tana hua lund Sima ki gaand rakh diya.

Ab Sima ki gaand to pahle bhi maine aur group ke 2-3 logon mein maari thi, khuli gaand thi uski magar itna bada lund to kisi ka tha nahin, so us maadarchod ne apne lund pe dher saara thook lagaaya aur rakh kar lauda Sima ki gaand mein ghusa diya. Lund Se Chudne Ki

Is baar phir Sima ki cheekh nikal gayi, Magar usne roka nahin. Yeh waala ladka thoda jyaada hi nirdayi tha, isne to badi zor zor se dhakke maar maar kar apna aadhe se bhi jyaada lund Sima ki gaand mein ghused diya.

Maine phir Sima se poocha- Darling agar dard jyaada hai to rahne den?
Ab meri to Patni thi, mujhe usse behad pyaar hai aur uska dard dekh kar mujhe bhi dard hota hai.
Magar Sima boli- Nahin yaar, Aaj mat roko inhen, jo karte hain karne do.

Ab jab uppar waala habshi Sima ki gaand maar raha tha to uske hilne se Sima hil rahi thi aur Sima ke hilne se neeche waale ko apne aap chudai ka maza aa raha tha.
Thodi der baad teesre ladke apna lund Sima ke munh mein de diya. Sach kahoon mujhe bechaari ki haalat par bahut taras aa raha tha, Magar use pata nahin is sab mein kya maza aa raha tha, wo dard se tadapti rahi, karahati chikhtee rahi, Magar usne kisi ko bhi rukne ko nahin kaha. Aur kareeb kareeb 15 minute tak aise hi uski zabardast chudai huyi.

Phir jis ladke ne Sima ki gaand mein lund daala hua tha, usne sab se pahle paani chhoda, aur Sima ki gaand ko apne veerya se bhar diya.
Jab wo utara to munh waala ladka uski jagah aa gaya aur wo Sima ki gaand maarne laga.

Ek to pahle hi Sima ki gaand se us habshi ka veerya choo kar baahar tapak raha tha, jab isne chudai shuru ki to Sima ki gaand se fach fach ki awaaz aane lagaayi aur veerya ki jhaag ban gayi.

2 minute doosre ladke ne apne veerya ki pichkaariyan chhod di. Jab wo utar gaya to Garshiya ne Sima se poocha ki kya wo bhi uski gaand maar sakta hai to Sima ne mana kar diya ki uska lund bahut bada hai, Sima uska lund apni gaand mein nahin le sakti, Wo sirf chut hi maare.

Garshiya ne Sima ko ghodi banaya aur peeche se apna lund Sima ki chut mein daal kar chudai shuru ki. Kareeb 25-30 minute us giene ne lagataar meri Biwi ko choda.
Sima ko to usne bikher kar rakh diya, jitna makeup wo karke aayi thi, saara uske aansuon mein dhool gaya, baal bikhar gaye. Lund Se Chudne Ki

Pata nahin is dauraan Sima 2 baar jhadi ya 3 baar, magar uski cheekhen ek minute bhi nahin ruki.

Aur phir Garshiya ne apna vishaal lund Sima ki chut se nikaala to Sima ko jaise saans aaya ho aur usne apna lund Sima ke munh mein de diya.
Sima ka to jaise munh bhi fatne ko aa gaya. Garshiya haath se mutth maarne laga, uska poora supaada Sima ke munh mein tha aur phir usne apne vishaal lund se beinteha veerya chhoda.

Itna chhoda ke Sima ka poora munh bhar gaya, kitna saara uske munh ke andar chala gaya aur kitna saara uske munh se choo kar baahar nikal gaya.

Garshiya Sima ki chhaati par hi baith gaya. Uska lund Sima ke munh par pada tha aur uske maathay aur sar ke baalon tak ko Garshiya ne apne veerya se bhar diya. Uske baad Garshiya bed pe let gaya.

Main Sima ke paas gaya aur poocha- Kaisi ho? Mere chehre par chinta ki rekhayen saaf dikh rahi thi, magar Sima muskura kar boli- Mat poocho kaisi hoon, Aisa lag raha hai jaise kisi bachhe ko janam dekar hati hoon.
Aage peeche sab jagah dard hi dard ho raha hai, magar na jaane kyon ek bahut hi sundar ehsaas bhi ho raha hai.

Thodi leti rahne ke baad Sima uthi, Main usko sahaara dekar bathroom mein le gaya aur usko saaf karne mein uski madad ki. Lund Se Chudne Ki

Sima ne kaha- Aap to jaao, Aap bhi to enjoy kar lo! Magar maine mana kar diya.
Uske baad hum apne apne kapde pahan kar waapis apne ghar aa gaye aur wo habshi Isabella ko chipat gaye. Ghar aa kar hum so gaye.

Subah jab uthe to maine Sima se uska haal poocha, usne apni nighty utha kar dikhaya, Uski chut ke honth sooje pade thay, Saari chut hi sooj gayi thi.
Phir jab maine usko ulta kar ke dekha to hairaan rah gaya, Gaand bhi poori sooj gayi thi, Maine kaha- Sima tumhaari chut ka unhone bhonsda to kya us se bhi bada tokra hi bana diya.

Magar dekho phir bhi wo muskura di, Jabki usko behad dard ho raha tha. Agle teen chaar din tak Sima bed par hi rahi, bed par hi uska birth day cake kaata gaya.

Phir maine Sima se kaha- Suno, Agar hum in habshiyon ko apne group mein shaamil kar len to hamaare group ki aur auratein bhi itne bade bade laudon ka swaad le sakengi.

To Sima boli- Aisa karo aap unse baat karo aur kaho ke agar wo bhi apni us moti bhains ke saath hamaara club join karna chaahte hain, To club ke member ban jaayen.
Mujhe bhi uski baat achhi lagi aur maine bhi jhat se unhe sms kar apna email id [email protected] bhej di.

Padoshi Ki Chudai Bell Baja ke-पडोशी की चुदाई बेल बजा के

हेलो दोस्तो नमस्कार मेरा नाम राहुल (बदला हुआ) है | मैं राँची से हूँ आज मैं अपनी एक रियल स्टोरी बताने जा रहा हूँ|  यह कहानी ग्यारह महीने पहले की है जब मैं राँची मे पढ़ाई करने के लिए नया नया आया था ओर मैं अपने लिए एक रूम देखा | दोस्तो मैं पहले किराए के मकान मे कभी नही रहा था मैं पहली बार किराए के मकान मे रहने आया था | मैं कुच्छ दिन तक केवल रूम से कॉलेज ओर कॉलेज से रूम यही करता रहता था इसके अलावा मैं लड़कियो पर भी ज़्यादा ध्यान नही देता था क्योकि ये शहर मेरे लिए नया था| बात उस समय की है जब एक दिन हम कॉलेज जाने के निकल रहा था ठीक उसी समय बारिश शुरू हो गयी तो मैं बालकोनी मे खड़ा हो कर के बारिश रुकने का इंतेज़ार करने लगा तभी मैने सामने वाले बालकोनी मे देखा की एक औरत खड़ी होकर के मेरे तरफ देख रही है| मैने इग्नोर कर दिया और फिर दूसरी तरफ देखने लगा|

करीब दो घंटे हो गये फिर भी बारिश नही रुकी तो मैने कॉलेज जाने की प्लॅनिंग कैंसिल कर दिया और फिर रूम मे आकर के ड्रेस चेंज किया और बारिश का मज़ा लेने के लिए फिर से बालकोनी मे चला गया | अभी तक वह औरत वही खड़ी थी और मेरे बालकोनी की तरफ देख रही थी | फिर मेरा भी मन डोल गया और मैं भी उसके तरफ देखने लगा| सबसे पहले उसके बारे मे मैं बता देता हूँ| उसकी हाइट 5 फीट के आसपास होगी वह उस समय लाल साड़ी पहनी हुई थी| दोस्तो मैं फिगर के बारे मे तो नही बता सकता क्योकि मुझे फिगर के बारे मे पूरी जानकारी नही है की किसको 36 और 28 कहते है|

वो थोड़ी साँवली कलर की है| अब मैं सीधे कहानी पर आता हूँ | मैं भी उसे देखने लगा तो वो थोड़ी शर्मा गयी और वो दूसरी तरफ देखने लगी, अब मैं ये देखने की कोशिश कर रहा था की वो मुझे देख रही थी या ऐसे ही इधर देख रही है| तो ये जानने के लिए मैने अपने बालकोनी से उपर छत पर चला गया| जब मैं छत पर जाकर के एक तरफ खड़ा था और वहाँ से मैने देख रहा था की वो मुझे देख रही थी या किसी और को तब मैने नोटीस किया की जब वो मेरे बालकोनी के तरफ देखने लगी और जब मैं वहाँ नही दिखा तो वो इधर उधर देखने लगी| तब मैने उसकी ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए एक दोस्त से फोन पर बात करने लगा | तब वो मुझे देखी की मैं छत पर हूँ तो कुच्छ देर बाद वो भी अपनी छत पर आ गयी| दोस्तो तब तक शाम के 6 बज चुके थे इस कारण अंधेरा होने लगा था तो मैं अपने रूम मे आ गया| और रोज कॉलेज से आने के बाद लगभग 4 घंटा हम छत पर बिताते थे और वो भी उस समय तक छत पर रहती थी| यह सिलसिला लगभग 3 महीना तक चला| दोस्तो पहले मैं किसी भी लड़की को कुच्छ भी बोल देता था पर ये शहर मेरे लिए नया था इसलिए मैं रिस्क नही लेना चाहता था| फिर एक दिन की बात है मैं छत पर टहल रहा था तो उसने मुझे आवाज़ लगाई ” बोली की सुनिए मेरा मोबाइल मे नेट ऑन करने के बाद भी नही चल रहा है जरा ठीक कर सकते है” मैने कहा – कोशिश करते है देखते हैं चलेगा तो | वो बोली – ठीक है लीजिए मेरा मोबाइल देख दीजिए मैं बोला – नीचे आइए तब न मोबाइल दीजिएगा वो बोली – ठीक है दोस्तो उसके बाद वो नीचे आई और मैं भी नीचे गया और उसके दरवाजा के पास जाकर के बेल बजाया |

मैने जैसे ही बेल बजाई वैसे ही उसके मकान मलिक (जो की लगभग 65 साल के बूढ़े है) ने दरवाजा खोला और उन्होने मुझसे पुचछा की क्या चाहिए बेटा मैने बोला – दादाजी, वो आपके मकान मे एक रेनटर रहती हैं न उनका मोबाइल खराब हो गया है वही देखने आया हूँ दादाजी बोले – ठीक है बुला देता हूँ उनको मैने बोला – वो आ रहीं हैं दादाजी बोले – बैठ जाओ बरामदा मे मैने बोला – नही ठीक है थोड़ा सा का काम है तुरंत हो जाएगा दादाजी बोले – ठीक है उसके बाद वो उपर से नीचे आ गयी और उन्होने मुझे मोबाइल दिया और मैने मोबाइल को एक बार रिसटार्ट किया और फिर से ऑन किया उसके बाद डेटा कनेक्शन ऑन किया उसके बाद डेटा ऑन हो गया| उन्होने मुझसे मेरा नाम पूछा तो मैने अपना नाम बताया, उसके बाद मैने उनसे उनका नाम पूछा तब उन्होने अपना नाम संगीता (बदला हुआ) बताया| फिर उन्होने मुझे थॅंक्स बोली और अपने रूम मे चले गये और मैं भी अपना रूम मे आ गया| अब मैं सोच रहा था की उनसे कैसे बात स्टार्ट किया जाय तब मुझे एक तरकीब सूझी एक दिन मैं छत पर टहल रहा था तभी वो भी अपने छत पर आ गयी |

मैने उनसे बोला की मैं नया सिम लिया हूँ और मुझे नंबर याद नही है मुझे नंबर जानना है अपना नंबर दीजिए तो मैं कॉल कर रहा हूँ आपके नंबर पर और उसके बाद आप मेरा नंबर बता दीजिएगा| तब उन्होने अपना नंबर दिया और उसके बाद मैने अपना नंबर उनके मोबाइल से लिया| दोस्तो एक बात हम बता देते हैं की मेरा छत 3 मंज़िल उपर है और उनका भी इसलिए हमलोग जो भी बोलते थे तो नीचे वाले लोगो को उतना अच्छे से सुनाई नही देता है| नंबर एक्सचेंज करने के दो दिन बाद किसी अंजान नंबर से कॉल आया मैने रिसीव किया मैने बोला – हेलो उधर से – हेलो मैं बोला – कौन उधर से – आपकी गर्लफ्रेंड मैं बोला – तुम क्यो फोन की हो उधर से – कॉल कट कर दिया गया दोस्तो मैं एक बात और भी बता देता हूँ की मेरी एक गर्ल फ्रेंड है जो की मेरे मामा जी के गाँव की है, तो हुमको लगा की वही फोन की है| हम दोनो के बीच करीब एक महीना पहले कुछ बात को लेकर के झगड़ा हो गया था तो मैने उससे बोल दिया था की आज के बाद फोन मत करना मेरे पास| उसके बाद से उसका फोन कभी नही आया था| दूसरे दिन फिर से वही नंबर से कॉल आया,

मैने कॉल रिसीव किया मैं – हेलो वो – हेलो मैं – क्यो फोन की हो अब वो – मैं हूँ संगीता जो की आपके सामने वाली मकान मे रहती हूँ मैं – ओ सॉरी वो – क्यो मैं – मुझे लगा की मेरी गर्ल फ्रेंड फोन की है वो – आपकी गर्ल फ्रेंड भी है मैं – थी परंतु अब नही है वो – मतलब मैने उसे अपनी गर्ल फ़्रेंड के बारे मे सारी बात बता दी, उसके बाद उन्होने मेरे बारे मे पूछा और मैने उनके बारे मे एक दिन उन्होने मुझसे पूछी की मैं आपको कैसी लगती हूँ, मैं सौक हो गया मैं कुछ देर के लिए शांत हो गया और उसके बाद मैने बोला की हमारी नज़र मे सब कोई अच्छे है, तब वो बोली की आपका सोच बहुत अच्छा है| दोस्तो मैं तो इस शहर मे नया था इसलिए किसी को नही जानता था और मैं अपने रूम मे अकेला रहता हूँ| उनके बारे मे थोड़ा डीटेल बता देता हूँ| उनके रूम मे उनके पति और एक 5 साल का बच्चा है| उनके पति एक मोबाइल टावर कंपनी मे काम करते हैं तो उन्हे कभी कभी बाहर भी जाना पड़ जाता है|”Padoshi Ki Chudai”

अब हुमलोग लगभग रोज मोबाइल पर बाते कर लेते है, हमलोग कभी कभी फोन सेक्स भी कर लेते थे| हमलोग सेक्स करना चाहते थे पर टाइम और रूम नही होने की वजह से नही कर पाते थे| एक बार की बात है, मेरे मकान मालिक की मम्मी का निधन हो गया तो उनके पूरे फैमिली को गाँव जाना पड़ा तो उन्होने मुझे कहा की बेटा घर का ध्यान रखना, वो मुझे अपने बेटे जैसे मानते थे इसलिए उन्होने मुझे चाभी सौप दी| मेरे मकान मालिक के घर मे 3 और रेनटर रहते है जो की काम करने वाले हैं, और वो सब सुबह १० बजे जाते है और रात के करीब 8 बजे रूम मे आते हैं| अब मैं इतने बड़े घर मे अकेला रह गया था| तो मैने उसे कॉल किया तो वो बोली की अभी मेरे पति घर मे हैं दो दिन के लिए बाहर जा रहे हैं| उनको भेजकर बात करती हूँ| अब मुझे एक एक मिनिट एक घंटा के बराबर लग रहा था| आख़िर वो समय आ ही गया, लगभग दो घंटे के बाद उसके पति बाहर चले गये| तब उसने मुझे फोन की| हम दोनो लगभग फोन पर आधे घंटे बात करते रहे तब मैने उससे कहा की आज मेरे मकान मे कोई नही है मैं अकेला हूँ| मन नही लग रहा है

मेरा अगर तुम आ जाओगी मेरे रूम पर तो शायद मन लग जाए| तब उसने मुझसे कही की 2 बज चुके हैं अब मेरे बेटे को लेने जाना होगा उसके स्कूल , तो मैने कहा कोई बात नही और मैं फिर गुसा हो गया| तो वो बोली की आप बहुत जल्दी गुसा हो जाते हो, मैं प्रोमिस करती हूँ की कल ज़रूर अवँगी | अब मैं जल्दी से कल होने का इंतेजर कर रहा था| दूसरे दिन उसने करीब 10 : 30 के लगभग कॉल की और मुझे बोली की मैं अभी फ्री हूँ| दोस्तो मैं इस दिन कॉलेज भी नही गया था कॉलेज बंक कर दिया था| तब मैने कहा की ठीक है आ जाओ| दोस्तो मेरा रूम जो गली मे हैं वो गली 10 बजे के बाद बिल्कुल शांत हो जाता है| इस कारण से हमलोग को कोई डर नही था| वो लगभग 10 मिनट बाद मेरे रूम पर आ गयी मैने अपना रूम का दरवाजा खोला और वो रूम के भी. आ गयी| दोस्तो क्या बताउँ मैं वो पिंक कलर की साड़ी पहनी हुई थी उस साड़ी मे बहुत खूबसूरत लग रही थी|”Padoshi Ki Chudai”

मैने अपना दरवाजा बंद किया और उसके बाद मैने उसे पीछे से पकड़ लिया तो वो बोली की इतनी भी जल्दी क्या है| मैने उसे अपने बिस्तर पर बैठाया| दोस्तो मैं ज़मीन पर बिस्तर लगाकर सोता हूँ इसलिए मैने उसे नीचे बैठाया| वो मेरे सामने शरमाने का नाटक कर रही थी तो मैं बोला की अब क्यो शरमाना मेरी जान| उसके बाद मैने उसे किस करना स्टार्ट कर दिया और वो भी मुझे बेतहासा चूमने लगी जैसे सालो की भूखी शेरनी हो| मैने उससे पूछा की तुम्हे तुम्हारे पति से ज़रूरत पूरी नही होती है क्या| तो वो बोली की मेरे पति बहुत जल्दी झाड़ जाते हैं और फिर मैं उंगली से काम चलाती हूँ| उसके बाद मैने उसे किस करते करते उसके बूब्स को भी दबाने लगा| लगभग 2 मिनट तक हम दोनो एक दूसरे को किस करते रहे| और वो भी मेरे लंड को मेरे पैंट के उपर से ही मेरे लंड को दबाने लगी| दोस्तो मैं तो पहले भी 3 बार सेक्स कर चुका था इसलिए मुझे सेक्स के बारे मे थोड़ा बहुत ज्ञान था| अब मैं उसके बूब्स को दबाते दबाते कभी कभी उसके पेट पर भी हाथ फिरा देता था| अब मैं उसके ब्लाउज के बटन को खोल दिए| लाल कलर की ब्रा पहनी हुई थी| ब्रा से बाहर आने के लिए उसके चुचे खलबला रहे थे| अब उसने मेरे शर्ट को खोल दिया मैने बनियान नही पहना हुआ था| तो मैं अब उसके सामने केवल पैंट में ही था| अब धीरे धीरे उसके साड़ी को भी मैने खोल दिया और उसके बाद शाया को भी खोल दिया|”Padoshi Ki Chudai”

अब वो मेरे सामने केवल लाल कलर की ब्रा और लाल कलर की पैंटी मे ही थी| उसके बाद उसने मेरा पैंट को भी खोल दिया और मैं अब केवल अंडर वियर मे था | मेरे लंड अंदर से ही फंफना रहे थे| मेरा लंड करीब 6 इंच लंबा है| वो मेरे लंड को मेरे अंडर वियर के उपर से ही सहलाने लगी| और मैं अभी भी उसे किस कर रहा था और कभी कभी उसके चूत को पैंटी के उपर से भी रगड़ देता| तो वो मचल जाती| अब मैं उसके ब्रा को उसके जिस्म से अलग कर दिया और उसके बाद उसके पैंटी को भी अलग कर दिया| उसके चूत पर थोड़े थोड़े बाल थे क्योकि उसने कुछ दिन पहले ही सेव की थी| उसकी चूत पूरी तरह गीली हो चुकी थी अभी भी मैं उसके एक बूब्स को दबा रहा था और दूसरे बूब्स को अपने मुँह मे ले रखा था| उसके मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थी| जो की मुझे और भी जोश मे ला रही थी| अब मैने उससे कहा की मेरे लंड को मुँह मे ले लो पर उसने माना कर दिया बोली की आज तक मैने कभी अपने पति का लंड मुँह में नही ली हूँ इसलिए मैं नही ले सकती| मेरे बहुत मनाने के उसने मेरा लंड मुँह मे ले ली और ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी|

अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था| करीब 4 मिनट के बाद मैं उसके मुँह मे ही झड़ गया| वो मेरा सारा माल मज़े से पी गयी| अब मैने अपना लंड उसके मुँह से निकाला और उसे किस करने लगा| उसके बाद उसके गर्दन पर और उसके बाद उसके पूरे शरीर पर किस करने लगा| अब उसके टाँगो को फैलाकर के उसके चूत मे अपना जीभ डाल कर के अंदर बाहर करने लगा| अब वो आ उहह आहह उहह करने लगी| और करीब 2 मिनिट के बाद ही वो झड़ गयी मैने उसका सारा माल पी गया| अब मैं उसके उपर सो करके उसे किस करने लगा और और अपना लंड उसके चूत मे भी रगड़ देता| वो बोल रही थी की जल्दी से अपना लंड मेरे चूत में डाल दो| मैं बोला की हाँ हाँ डालता हूँ| उसके बाद मैने अपना लंड उसके चूत पर सेट किया और एक जोरदार झटका मारा और पूरे लंड उसके चूत में मेरा पूरा लंड समा गया| और वो रोने लगी| मैने उसे किस करने लगा| वो बोलने लगी मेरे पति का इतना बड़ा लंड नही है| “Padoshi Ki Chudai”

इसलिए थोड़ा दर्द हो रहा है| मैं उसके चूत मे अपना लंड डालकर कुछ देर रुक गया| जब उसका दर्द शांत हुआ तब फिर से धकका लगाने लगा| लगभग 10 मिनट के बाद वो बोली की अब मैं झड़ने वाली हूँ और वो मुझे कस के पकड़ ली मैं अभी भी धक्का लगा ही रहा था करीब 10 से 15 धक्का लगाने के बाद मैं भी झड़ गया| फिर हम दोनो एक दूसरे के उपर लेटे लेटे आराम करने लगे| करीब आधा घंटा के बाद फिर से मेरा लंड खड़ा हो गया और हमलोगो ने एक बार फिर से चुदाई की और उसके बाद बाथरूम मे गये और साथ साथ नहाए| हम दोनो नहाने के बाद अपने अपने कपड़े पहने और उसके बाद वो अपने रूम चली गयी| उसके बाद कभी कभार जब हमलोग को समय मिलता तब हमलोग सेक्स कर लेते थे अब उसके पति को दूसरे जगह ट्रान्स्फर कर दिया गया था तो वो लोग अब दूसरे जगह चले गये| दोस्तो मेरी कहानी आपको कैसी लगी हमे ज़रूर मैल करके बताईएएगा मेरा ई मैल आईडी है [email protected] यह कहानी पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद|

Ye sex story Padoshi Ki Chudai Bell Baja ke kaisi lagi…..

Chut Ki Pelam Pal -चूत की पेलम पाल

हैल्लो फ्रेंड्स.. में एक बार आप सभी के सामने एक और घटना लेकर आया हूँ दोस्तों.. मेरी उम्र 22 साल है और में एक बहुत स्मार्ट लड़का हूँ और मेरी हाईट 5.11 इंच और मेरा लंड 6 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है। दोस्तों.. में अब अपनी कहानी शुरू करता हूँ.. यह एक सच्ची कहानी है। मेरी पहले वाली कहानी की तरह यह भी एक साल पहले की है। दोस्तों एक दिन मुझे कॉल आया और यह कॉल गुडगाँव से पारूल नाम की लड़की का था। उसका असली नाम नहीं बता सकता इसलिए नाम चेंज किया है। उसने अभी अभी बारहवीं की पढ़ाई पूरी थी और नई नई घर से बाहर कॉलेज लाईफ में प्रवेश किया था। एक दिन उसका मुझे कॉल आया और वो थोड़ी परेशान और डरी हुई थी.. क्योंकि लाईफ में पहली बार किसी लड़के से बात कर रही थी और वो भी सेक्स के लिए.. किसी को पता चल जाएगा तो? यह सब उसने मुझे कॉल में बताया था.. लेकिन जब मैंने उसे समझाया कि में किसी को कुछ नहीं बताऊँगा.. तब जाकर उसको मुझ पर थोड़ा विश्वास हुआ।

फिर उसने बताया कि मैंने इस साईट पर आपकी स्टोरी पढ़ी है और वो मुझे बहुत अच्छी लगी। आपने एक वर्जिन लड़की को कितने प्यार से संतुष्ट किया है.. इसलिए में आपको कॉल कर रही हूँ। तभी मैंने उससे पूछा कि क्या तुम भी वर्जिन हो? तो उसने कहा कि हाँ.. मुझे अभी तक किसी ने भी नहीं छुआ है और ना ही मैंने किसी को कुछ करने दिया है। तो मैंने पूछा कि फिर मुझसे सेक्स के लिए कैसे मन बना लिया? तो उसने कहा कि आपकी कहानी मुझे बहुत पसंद आई और मैंने अपनी फ्रेंड से सुना था कि अनुभवी लड़के के साथ सेक्स करने में बहुत मज़ा आता है। आपने इतनी वर्जिन गर्ल के साथ सेक्स किया हुआ है और में भी वर्जिन हूँ इसलिए में आपके साथ सेक्स करना चाहती हूँ। मैंने उससे पूछा कि फिर कब मिलना चाहती हो? तो उसने कहा कि अगले सप्ताह उसकी फ्रेंड का जन्मदिन है और में रात को उसके घर पर ही रुकने वाली हूँ.. तो उस रात हम मिल सकते है.. अगर आप फ्री हो तो। फिर मैंने कहा कि में आ जाऊंगा.. लेकिन क्या उसके घर पर उसके माता, पिता नहीं होंगे? तो उसने कहा कि उसके माता, पिता बिज़नेस के काम से दो दिन के लिए चंडीगढ़ गये है।

घर पर वो और उसके है और दादा, दादी नीचे के कमरे में सोते है और रात को ऊपर नहीं आते। तो मैंने पूछा कि.. तुम्हारी फ्रेंड का क्या? तो उसने कह दिया कि वो अपने बॉयफ्रेंड के साथ साईड वाले रूम में रहेगी और में उससे यह कहूंगी कि आप मेरे बॉयफ्रेंड है फिर उसने पूछा कि क्या आप ज्यादा उम्र के तो नहीं लगते? तो मैंने कहा कि में जवान और सुंदर लड़का हूँ। तुम्हारी फ्रेंड को शक भी नहीं होगा। फिर हमने एक सप्ताह तक चेटिंग की और उसने अपना मोबाईल नंबर भी मुझे दे दिया था और देर रात को हमारी बातें भी होती थी और कभी कभी फोन सेक्स भी। फिर एक सप्ताह के बाद उसका मुझे शाम को कॉल आया कि वो अपनी फ्रेंड के घर जा रही है और वो रात को मुझे कॉल कर देगी। में उसके फोन का इन्तजार करने लगा। रात 11 बजे तक कोई कॉल नहीं आया। मुझे लगा कि वो पागल बना रही थी। फिर 11:15 पर उसका कॉल आया.. वो बोली कि आप आ जाओ मैंने अपनी फ्रेंड को बोल दिया है उसका फ्रेंड भी आ गया है। में आपको नीचे लेने आ जाउंगी.. आप मुझे कॉल कर देना।

में बताये हुए एड्रेस पर गया और उसे कॉल किया तो वो नीचे आई और दरवाजा खोला तो मैंने देखा कि मेरे सामने बेहद ही सेक्सी और ब्यूटीफुल लड़की पिंक कलर की ड्रेस में थी। में उसे देखता ही रह गया। मैंने उससे पूछा तुम पारूल हो तो उसने कहा हाँ में ही हूँ.. वो थोड़ी परेशान थी और बोली की जल्दी ऊपर चलो कोई देख लेगा। में उसके साथ ऊपर चला गया। तब तक उसकी फ्रेंड के दादा, दादी सो चुके थे और वो अपने बोयफ्रेंड साथ अपने रूम में थी। पारूल मुझे दूसरे रूम में ले गयी.. वो खुश भी थी और परेशान भी। मैंने उससे पूछा कि तुम इतनी परेशान क्यों हो?    Chut Ki Pelam Pal

पारूल : मुझे बहुत डर लग रहा है।

में : लेकिन किस से?

पारूल : मेरी फ्रेंड ने मुझे अभी अभी बताया है कि पहली बार सेक्स करने पर बहुत दर्द होता है।

में : तुम डरो मत ऐसा कुछ भी नहीं होता और में हूँ ना.. में तुम्हे बिल्कुल भी दर्द नहीं होने दूंगा और थोड़ा बहुत होगा ज्यादा नहीं.. जिसे तुम आराम से सह सकती हो।

फिर मैंने उससे बातें की और करीब एक घंटे के बाद वो थोड़ी शांत हुई। मैंने उसे कंधे पर छुआ तो वो स्माईल करने लगी.. फिर मैंने उसे गर्दन पर किस किया तो उसने अपनी दोनों आंखे बंद कर ली। में उसे किस करते हुए आँखों पर गया और फिर होंठ पर। उसके होंठ गुलाब की तरह मुलायम थे और मैंने उसे स्मूच करना शुरू कर दिया। वो कुछ नहीं कर रही थी.. लेकिन में उससे लगातार स्मूच करता रहा। फिर उसका भी जवाब आने लगा.. उसने अपने होंठ खोल दिए। यार क्या टेस्ट था उसके होंठो में? फिर हमने 10 मिनट तक स्मूच किया और स्मूच करते करते मैंने उसके टॉप में हाथ डालकर उसके बूब्स को दबाने, सहलाने लगा वो बहुत ज्यादा मुलायम थे और धीरे धीरे उनकी निप्पल टाईट हो रही थी। जब मैंने उसके बूब्स को प्रेस किया तो वो धीर धीरे आवाज़ निकालने लगी, में समझ गया था कि उसे मज़ा आ रहा है। फिर मैंने उसे बेड पर लेटा दिया और उसके ऊपर आकर उसकी गर्दन पर किस करने लगा और किस करते हुए में नीचे उसके बूब्स पर टॉप के ऊपर से ही किस करने लगा और निप्पल अपने दांत से पकड़ने लगा। उसने मेरे चहरे को पकड़ लिया और बोली कि आराम से करो.. में आपकी ही हूँ। तो में और जोश में आ गया और उसके बूब्स पर किस करता रहा और फिर उसके टॉप को ऊपर उठाकर बूब्स को सक करने लगा। फिर जीभ को नाभि में डाल दिया। वो तो मेरे ऐसा करने से जैसे पागल हो गयी। तो उसने मुझसे कहा कि प्लीज़ और तड़पाओ मत अब मेरे साथ सेक्स करो।

में : इतनी जल्दी नहीं.. आज तुम्हे सेक्स के पूरे मज़े दूंगा जिसे तुम जिंदगी भर याद करोगी।

पारूल : तो ठीक है फिर आप जो करना चाहो करो में मना नहीं करूंगी.. लेकिन अब मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा।

में : तुम कंट्रोल में मत रहो.. आऊट ऑफ कंट्रोल हो जाओ।

पारूल : ह्म्म्म्मम अह्ह्ह।

फिर उसने अपनी आंखे बंद कर ली और पूरे पूरे मज़े लेने लगी.. तो मैंने उसका टॉप निकाल दिया और फिर ब्रा भी.. वो क्या लग रही थी बिना टॉप के एकदम सेक्सी.. मानो कि उसके शरीर के हर हिस्से को तराश कर बनाया हो। मैंने उससे कहा कि तुम बहुत ज्यादा सुंदर हो तो वो शरमा गई।

पारूल : आज पहली बार किसी ने मेरी इतनी ज्यादा तारीफ की है और वो भी इतने प्यार से.. आप सही में बहुत अच्छे हो।

फिर में उसके बूब्स और निप्पल चूसने लगा वो ज़ोर ज़ोर से जोश में आवाजे निकालने लगी और मेरे सर को बूब्स पर ज़ोर से दबा रही थी और कह रही थी कि और ज़ोर से चूसो राज। तो मैंने भी उसके बूब्स के निप्पल चूस चूसकर उसके गुलाबी निप्पल लाल कर दिए और में बहुत ज्यादा प्यार से सक कर रहा था। फिर नीचे नाभि पर किस करते हुए चूत तक गया और लोवर के ऊपर से ही उसकी चूत पर किस किया.. वो कामुक हो रही थी और किस करते ही लोवर गीला हो गया.. फिर मैंने लोवर को नीचे करना शुरू किया उसने मेरे दोनों हाथ पकड़ लिए।
पारूल : प्लीज़ मुझे बहुत शरम आ रही है। प्लीज़ नीचे नहीं.. मैंने यह सब कभी नहीं किया। Chut Ki Pelam Pal

में : मैंने ऊपर जो किया वो भी तुमने पहली बार किया था.. फिर क्यों तुम इतनी शरम महसूस कर रही हो?

तभी उसने हाथ हटा लिए और मैंने लोवर निकाल दिया और उसकी पेंटी पर किस करने लगा.. जो कि पूरी गीली थी और वो बहुत ज्यादा गरम भी हो रही थी। वो आहे भरने लगी और सिसकियाँ लेने लगी।

में : जान अभी से ही यह हाल है तो जब में तुम्हारी चूत चाटूंगा तब क्या होगा?

पारूल : राज अभी ही कंट्रोल नहीं हो रहा है.. तब तो में मार ही जाऊंगी।

में : में तुम्हे अभी नहीं मरने दूंगा.. क्योंकि अभी तो तुम्हे जन्नत के मज़े लेने है।

फिर मैंने उसकी पेंटी को अपने मुँह से निकाल दिया.. वाह क्या चिकनी चूत थी? उसकी गुलाबी, बहुत मुलायम और बहुत हॉट चूत.. में तो देखते ही उस पर टूट पड़ा और उसके दोनों पैरों को खोलकर चूसने लग गया।

पारूल : राज प्लीज़ रुक जाओ.. मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा है।

इतने में वो मेरे मुहं पर ही झड़ गई और उसका सारा जूस में पी गया और वो पहले से थोड़ी ठंडी हो गयी थी.. लेकिन उसे गरम करना ज़रूरी था। तो में फिर से उसकी चूत को सक करने लगा और दोनों बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा और फिर धीरे धीरे वो गरम होने लगी और कामुक आवाज़े निकालने लगी।

पारूल : आहह मैंने इतना अच्छा तो आज तक कभी भी महसूस नहीं किया था.. अह्ह्ह धन्यवाद राज।

में : अभी तुम धन्यवाद मत बोलो.. क्योंकि यह तो अभी शुरुवात है। Chut Ki Pelam Pal

पारूल : क्या तुम सच कह रहे हो राज.. फिर तो मुझे आज वो अहसास दे दो जो मैंने कभी महसूस नहीं किया।

में : जान में आज वो सब दूंगा तुम्हे जो तुम मुझसे चाहती हो।

फिर चूत सक करते करते मैंने अपनी पेंट निकाल दी.. अब में अंडरवियर में था। मैंने उससे कहा कि तुम मेरा अंडरवियर भी निकाल दो।

पारूल : नहीं मुझे बहुत शरम आ रही है।

में : प्लीज़ मेरे लिए प्लीज़ एक बार।

पारूल : ठीक है फिर उसने मेरा लोवर निकाला और मेरे लंड को देखते ही डर गयी।

पारूल : इतना बड़ा, मोटा लंड अंदर कैसे जाएगा? Chut Ki Pelam Pal

में : जान यह दिखता मोटा है.. लेकिन चूत में बड़े आराम से चला जाएगा। तुमसे पहले भी तो यह बहुत सी लड़कियों की चूत में गया है ना।

मैंने प्यार से उसे समझाया तो वो समझ गयी और फिर वो कहने लगी कि प्लीज़ अब कुछ करो ना मुझसे रहा नहीं जा रहा है। तो मैंने कहा कि बस दो मिनट रुको और फिर से उसके निप्पल सक करने लगा.. वो पागल हो गयी निप्पल सक करते हुए उंगली से चूत पर सहला रहा था.. लेकिन अब उससे बिल्कुल भी कंट्रोल नहीं हुआ।

पारूल : राज प्लीज़ करो नहीं तो में मर जाऊंगी।

में : ठीक है जान में करता हूँ.. फिर मैंने लंड उसकी चूत पर लगाया और अंदर डालने की कोशिश की.. लेकिन लंड नहीं गया और फिर से ट्राई किया.. लेकिन फिर भी नहीं गया तो मैंने थोड़ा उसकी चूत का जूस लंड पर लगाया और फिर से ट्राई किया। मैंने उसे बहुत टाईट पकड़कर लंड को धक्का दिया तो लंड दो इंच चूत के अंदर चला गया और वो बहुत ज़ोर से चिल्लाने लगी उईईई माँ मर गई अहह अह्ह्ह्हह। मैंने उसके मुहं पर हाथ रख लिया। उसकी आंखो से आंसू आ गये फिर में रुक गया और प्यार से उसे किस करने लगा.. तो उसे भी थोड़ा अच्छा लगा और वो जब थोड़ी ठीक हुई.. तब मैंने पूछा कि अगर नहीं करना है तो हम नहीं करते। तो वो बोली कि करना है। तो मैंने थोड़ा दबाव डाला और एक झटका दिया और लंड 4 इंच अंदर चला गया। वो फिर से चिल्लाने लगी आअहह निकालो प्लीज़ बहुत दर्द हो रहा है। मैंने एक और धक्का लगाया और पूरा लंड अंदर चला गया और उसने अपनी आंखे बंद कर ली, दांत टाईट कर लिए.. लेकिन फिर से चिल्लाई नहीं।

पारूल : आअहह मुऊउंमाआअ प्लीज़ राज निकालो प्लीज़ में मर जाउंगी आअहह। Chut Ki Pelam Pal

में : जान बस अब ज्यादा दर्द नहीं होगा.. सच में।

फिर में थोड़ी देर पारूल पर लेटा रहा और उसके बाद वो थोड़ी नॉर्मल हुई तो लंड को धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा और अब उसे भी मज़ा आ रहा था और वो भी अब गांड को उठा उठाकर पूरे मज़े लेने लगी.. मैंने अपनी स्पीड तेज कर दी और वो आआअहह माँ मरी की आवाज़ निकालने लगी। में उसे 20 मिनट तक लगातार चोदता रहा और फिर वो मुझसे बोली कि मुझे कुछ हो रहा है राज तो में समझ गया कि वो झड़ने वाली है और उसने मुझे बहुत टाईट पकड़ लिया और मेरी पीठ पर नाख़ून भी गड़ा दिए और वो आअहह उईईइ राज करते करते डिसचार्ज हो गयी.. लेकिन में अभी भी अपनी स्पीड में चुदाई कर रहा था। 12 मिनट तक चोदने के बाद जब में झड़ने लगा तो मैंने उससे कहा कि में झड़ने वाला हूँ। उसने कहा कि अंदर कुछ मत करना.. हमने कंडोम का उपयोग नहीं किया है।

तो मैंने कहा कि इसकी एक गोली आती है उसको खाने से तुम्हें कुछ नहीं होगा.. तुम डरो मत। तो मैंने अपनी स्पीड और ज्यादा कर दी और ज़ोर ज़ोर के धक्को के साथ में उसकी चूत में ही झड़ गया। वो बहुत ज्यादा खुश लग रही थी। वो मुझे किस करते हुए बोली कि धन्यवाद मुझे इतना प्यार करने के लिए और फिर मैंने भी उसे धन्यवाद किया। फिर में उसे उठाकर बाथरूम में ले गया और नहाने के लिए जैसे ही नीचे उतरा तो वो ठीक से खड़ी नहीं हो पा रही थी। फिर मैंने उसे समझाया कि पहली चुदाई के समय ऐसा ही होता है और थोड़ी देर में ठीक हो जाएगा। फिर हम दोनों एक साथ नहाए और वापस रूम में गये। रूम में जाकर देखा तो बेडशीट बहुत गन्दी हो गई थी। वो उसे बदलने लगी। मैंने कहा कि क्यों मज़ा नहीं आया क्या? उसने कहा कि मुझे बहुत ज्यादा मज़ा आया।

पारूल : आज में लाईफ में सब से ज्यादा खुश हुई हूँ। आप इतना ध्यान रखने वाले और प्यार से करने वाले हो.. मैंने आपसे अपनी वर्जिनिटी खत्म करवा कर एकदम ठीक किया है आज में बहुत बहुत ज्यादा खुश हूँ।

में : तो बेड शीट चेंज क्यों कर रही हो? और सेक्स नहीं करना क्या ?

वो बहुत खुश हो गयी और मुझसे गले लग गयी और उस रात सुबह के 6 बजे तक हमने सेक्स किया। उसकी फ्रेंड के दादा, दादी के उठने का समय हो गया था.. तो में अपने घर वापस आ गया और फिर उसने मुझे फोन पर बहुत किस किए और बोली कि मेरी चूत थोड़ा दर्द कर रही है और मुझे बार बार आपकी याद दिला रही है। तो मैंने कहा कि जब भी तुम्हे सेक्स करना हो मुझे बता देना में आ जाऊंगा। फिर उसके बाद हमने कई दिनों तक बहुत बार सेक्स किया और फिर वो कुछ दिनों के बाद अपनी पढ़ाई के लिए बेंगलोर चली गयी ।।

Kamwali Ki Bahu Sexy Chudai -कामवाली की बहु की सेक्सी चुदाई

सिद्धार्थ वर्मा का स्नेह भरा नमस्कार!लगभग तीन माह पहले मुझे Sexstory के एक पाठक एवम् मेरी रचनाओं के प्रशंसक अभिनव का सन्देश मिला जिसमें उसने उसके जीवन में घटी एक यौन सहवास सम्बन्धी घटना के बारे में बताया.
जब अभिनव ने मुझसे उस घटना में मिले अनुभव को sexstory के श्रोताओं के साथ साझा करने का अनुरोध किया तब मैंने उसे उस घटना को एक रचना के रूप में लिख कर भेजने के लिए कहा.
कुछ दिन पहले ही अभिनव ने उस घटना को एक रचना के रूप में लिख कर मुझे भेजा था जिसे मैं संपादित करने के पश्चात Sexstoryपर प्रकाशित करने के लिए प्रेषित कर रहा हूँ.
अभिनव के द्वारा उसी के शब्दों में लिखी निम्नलिखित रचना आपके लिए प्रस्तुत है:

Sexstory की प्रिय पाठिकाओं एवम् पाठकों को मेरा अभिनंदन!
मेरा नाम अभिनव है, मेरी आयु पच्चीस वर्ष की है और मेरा शरीर बहुत हृष्ट-पुष्ट एवम् तंदरुस्त है क्योंकि मैं स्कूल और कालेज में खेल कूद में बहुत भाग लेता था.
मैं अब भी प्रतिदिन घर पर व्यायाम करता हूँ और कभी कभी व्यायामशाला में जा कर भी भार-उत्तोलन तथा विभिन्न प्रकार की कसरतें इत्यादि करता हूँ.
मैं मूल रूप से देहली का निवासी हूँ तथा मेरा पूरा परिवार वहीं रहता है, लेकिन आई-टी में इंजीनियरिंग करने के बाद पिछले तीन वर्षों से बैंगलोर में नौकरी कर रहा हूँ.

तीन वर्ष पहले जब मैं बैंगलोर में आया था तब मैं पन्द्रह दिनों के लिए एक पेइंग गेस्ट-हाउस में रहा था लेकिन उसके बाद कंपनी ने मुझे रहने के लिए एक फ्लैट दिला दिया. मेरा फ्लैट एक बहुमंजिली इमारत के दसवें तल पर है और उसमें एक बैठक, एक बैडरूम, एक छोटा स्टोर कमरा, एक रसोई तथा एक बाथरूम है.
मैं अधिकतर बैठक, बैडरूम, रसोई और बाथरूम को ही प्रयोग में लाता हूँ और छोटा स्टोर कमरे में एक फोल्डिंग चारपाई, दो खाली अटैची तथा कुछ फ़ालतू का सामान आदि पड़े रहते हैं.

उस फ्लैट में स्थानांतरण के बाद जब मुझे खाने पीने और घर के रख-रखाव की समस्या आई तब मैंने उसी इमारत के अन्य फ्लैट में काम करने वाली एक पचास वर्षीय वृद्ध महिला को घर का काम करने के लिए रख लिया.
वह महिला जिसे सभी अम्मा कहते थी सुबह छह बजे ही आ जाती और मुझे चाय दे कर चौका बर्तन करती तथा मेरे लिए नाश्ता बनाती.
मेरे तैयार होकर ऑफिस जाने के बाद वह दूसरे फ्लैट में काम निपटा कर फिर मेरे घर की सफाई आदि करती तथा मेरे कपड़े आदि धो कर सुखाने डाल देती.

क्योंकि वह मेरे ऑफिस जाने के बाद तक घर का काम करती थी इसलिए उसकी सुविधा के लिए मैंने उसे अपने फ्लैट की एक चाबी भी दे रखी थी. वह शाम को मेरे आने से पहले ही धुले हुए सूखे कपड़ों को प्रेस करने के लिए धोबी को दे आती थी और मेरे घर आते ही मुझे चाय बना कर देती तथा रात के लिए मेरा खाना बना कर अपने घर चली जाती.

क्योंकि मुझे अच्छा वेतन मिलता था इसलिए मैं उस वृद्ध महिला को उसके काम के लिए पाँच हज़ार प्रति माह देता था जिस कारण वह बहुत ही लग्न और ईमानदारी से मेरा काम करती थी.
लगभग छह माह तक ऐसे ही लगन से काम करते रहने के बाद एक दिन उस वृद्ध महिला ने मुझसे कहा- साहिब, मेरी सबसे छोटी बहू के घर बालक होने वाला है इसलिए मुझे तीन-चार माह के लिए उसके पास जाना पड़ेगा. आप काम के लिए किसी दूसरी कामवाली को रख लीजिये अथवा अगर आप सहमत हों तो मैं अपनी मंझली बहू को आपके यहाँ काम के लिए लगा देती हूँ.

उसकी बात सुन कर मुझे एक बार तो झटका लगा लेकिन अपने को सम्हालते हुए मैंने कहा- अम्मा, आप यह क्या कह रही हो. आप तो मेरे घर का सभी काम अच्छे से जानती हो और उसे बहुत निपुणता से संभाल भी रखा है. अगर आप नहीं आओगी तो मेरा काम कैसे होगा? मैं किसी दूसरी कामवाली को कहाँ से ढूँढ कर लाऊं? आप अपनी जगह अपनी मंझली बहू को ही छोटी बहू के पास को क्यों नहीं भेज देती?
मेरी बात सुन कर वह बोली- साहिब, यह जच्चा और बच्चा संभालने की बात है कोई सैर-सपाटा करने की बात नहीं है. आजकल की लड़कियाँ तो ऐसा कोई भी काम नहीं कर सकती. साथ में वह लड़की जो खुद अभी तक माँ नहीं बनी हो उसे तो पता ही नहीं होगा कि गर्भावस्था में एक जच्चा को क्या खाना पीना है. उसे तो यह भी नहीं पता है कि प्रसव के समय क्या करना होता है.

उसकी बात सुन कर मैंने कहा- अम्मा, तुम जैसा ठीक समझो वैसा ही प्रबंध कर दो. क्या जो घर का काम आप करती हो वह सब तुम्हारी मंझली बहू कर लेगी?
मेरी बात सुन कर अम्मा बोली- आप चिंता नहीं करें, तुम्हें कोई कष्ट नहीं होगा. मैं जाने से दो सप्ताह पहले ही उसे रोज़ अपने साथ ले कर आऊंगी और उन दो सप्ताह में घर का सभी काम सिखा दूंगी.

उस माह के दूसरे सप्ताह में अम्मा रोजाना की तरह सुबह छह जब बजे काम पर आई तब वह अपनी मंझली बहू माला को भी साथ लेकर आई.
माला बहुत ही सुन्दर एवम् आकर्षक नैन नक्श वाली स्त्री थी जिसका वर्ण बहुत हल्का गेहुँआ था, शरीर पतला और कद लम्बा था, उठे हुए उरोज और बाहर निकले हुए नितम्ब मध्यम नाप के थे, गर्दन लम्बी तथा पेट समतल था.

उसने हरे रंग की सूती साड़ी में अपना पूरा बदन छुपा रखा था और घर में घुसते ही मुझे बैठक में अख़बार पढ़ते हुए देख कर दोनों हाथ जोड़ कर प्रणाम किया.
उत्तर में जैसे ही मैंने उसके प्रणाम का उत्तर दिया तभी अम्मा बोली- साहिब, यह मेरी मंझली बहू माला है जिसके बारे में मैंने आपसे बात करी थी. अब दो सप्ताह तक यह रोज़ मेरे साथ आएगी और यहाँ का सभी काम सीख लेगी ताकि दो सप्ताह के बाद जब मैं चली जाऊँगी तब यह आपकी अपेक्षा के अनुसार ही सभी कार्य करेगी.
उत्तर में मैंने कहा- ठीक है अम्मा, इसे मेरी पसंद एवम् सभी आवश्यकताओं के बारे में अच्छे से समझा देना और क्या कैसे करना है यह भी सिखा देना!

उसके बाद मैं अख़बार पढ़ने लगा और वे दोनों रसोई में जा कर चौका एवम् बर्तन और सफाई आदि में व्यस्त हो गई.

लगभग सात बजे रोज़ की तरह अम्मा ने मुझे चाय दी और कहा- साहिब, इस माह की तीस तारीख को मैं छोटी बहू के पास जाऊंगी इसलिए अगर मुझे मेरी इस माह की पगार कल मिल जाती तो मैंने जो खरीदारी करनी है वह कर सकूँगी.
मैंने उत्तर दिया- अरे अम्मा, इसमें अगर की क्या बात है? आप कल क्यों आज ही ले लो.

तब अम्मा ने एक और बात कही- साहिब, मेरा मंझला बेटा दुबई में काम करता है इसलिए मंझली बहू मेरे साथ रहती है. मेरे जाने के बाद वह अकेली रह जायेगी और जिस बस्ती में हम रहते हैं वह एक अकेली औरत के लिए बिल्कुल ही सुरक्षित नहीं है. इसलिए मेरे जाने के पश्चात मुझे मंझली बहू की सुरक्षा की चिंता लगी रहेगी.
अम्मा की बात सुन कर मैंने कहा- आप उसके लिए किसी दूसरी सुरक्षित बस्ती में कोई अच्छा घर किराए पर ले दीजिये.
वह बोली- पिछले दो माह से उसके लिए जगह ढूँढ रही हूँ लेकिन मुझे अभी तक कोई भी सुरक्षित जगह नहीं मिली. अगर कोई है भी तो वह बहुत दूर है या फिर वह ऐसी जगह है जो अवैध रूप से बनी हुई है और कभी भी गिराई जा सकती है.

मैंने कहा- अम्मा, मैं तुम्हारी समस्या को समझता हूँ लेकिन मैं इस बारे में तुम्हारी क्या मदद कर सकता हूँ?
अम्मा तुरंत बोली- साहिब आप ही तो सब से अधिक सहायता कर सकते हो. अगर मेरे वापिस आने तक आप माला को इस घर के स्टोर कमरे में रहने की आज्ञा दे देंगे तो आपके द्वारा मेरे ऊपर इससे बड़ा कोई उपकार नहीं हो सकता. इसके लिए आप बेशक हमारी पगार में से जितना चाहे वह काट लीजिये लेकिन एक असहाय को आसरा जरूर दे दीजिये.

मैंने उसके अनुरोध पर अचंभित होते हुए कहा- अम्मा, आप यह क्या कह रही हो? एक अविवाहित पुरुष के घर में उसके साथ एक अकेली विवाहित स्त्री का रहना ठीक नहीं है. अड़ोसी-पड़ोसी और इमारत के बाकी सब लोग क्या कहेंगे?
अम्मा बोली- लोगों का क्या है वे तो जो मन में आएगा वही बोलते रहेंगे. मुझे आप पर बहुत भरोसा है और अगर माला इस घर में रहेगी तो आपको कष्ट नहीं होगा तथा आपका सभी काम आपकी आवश्यकता के अनुसार समय-बद्ध तरीके से हो जाया करेगा. मुझे आशा है की आप इस बात को ध्यान में रखते हुए मना नहीं करेंगे.

पता नहीं अम्मा की बात सुन कर मुझे उन दोनों पर क्यों तरस आ गया और मैंने उन्हें कह दिया- ठीक है अम्मा, ऐसा करो, आप आज ही अपना और माला का सभी सामान ले कर यहाँ आ जाओ. इस तरह आप कुछ दिन साथ में रह कर सब ठीक से समायोजित कर सकोगी और माला को भी हर काम अच्छे से समझा दोगी.

नाश्ता करने के बाद मैं अम्मा को उस माह का वेतन दे कर ऑफिस चला गया और शाम को घर लौटने पर देखा की अम्मा और माला ने अपना सभी सामान लाकर स्टोर में रख दिया था.
मुझे शाम की चाय नाश्ता कराने के बाद अम्मा रात का खाना बनाने लगी और माला स्टोर में समान सजाने लगी.

अम्मा उन दो सप्ताह में माला को घर का काम सिखाती रही और जब माला सारा काम संतोषजनक तरीके से करने लगी तब वह माह के अंतिम दिन अपनी छोटी बहू के पास चली गई.

कुछ ही दिनों में माला ने मेरे घर का काम ऐसे संभाल लिया था जैसे वह वर्षों से काम कर रही हो और अम्मा की तरह मेरे लिए हर काम बड़ी सफलता से समय पर कर देती.

अगले एक सप्ताह तक सब ठीक-ठाक चलता रहा और माला सुबह से रात तक घर काम करती तथा आराम एवम् सोने के लिए स्टोर में चली जाती. अगला दिन शनिवार था तथा छुट्टी होने के कारण मैं देर से उठा और जब रसोई में माला से चाय बना कर देने के लिए कहने गया तो उसे वहाँ नहीं पाया तब मैंने स्टोर में देखा तो वह वहाँ भी नहीं थी.

माला कहाँ गई होगी यह सोचते हुए जब मैं अपने कमरे की ओर लौट रहा था तब मुझे बाथरूम में नल चलने की आवाज़ सुनाई दी.
पानी की आवाज़ को सुन और बाथरूम का खुला दरवाज़ा देख कर मैं समझा कि माला कपड़े धो रही होगी इसलिए मेरे कदम अनायास उस ओर मुड़ गए और मैं यकायक उसमें घुस गया.

बाथरूम में कदम रखते ही अंदर का नज़ारा देख कर मेरे पाँव आगे नहीं बढ़ पाये और दो क्षण के लिए माला को देख कर उल्टे पाँव वापिस कमरे में आ गया.
कमरे में जब मैं बिस्तर पर बैठा तब मेरी आँखों के सामने, अपनी योनि से निकले खून को धोती हुई अर्ध-नग्न माला की छवि घूम रही थी.

कुछ क्षणों के बाद जब मुझे झाड़ू की आवाज़ सुने दी तब मैं दोबारा बाथरूम में घुसा तो देखा की माला ने अपनी योनि को ढक लिया था तथा वह फर्श पर बिखरे खून को झाड़ू से साफ़ कर रही थी.
मुझे बाथरूम में देख कर माला बोली- बस मुझे एक मिनट और दीजिये. मैं अभी सब साफ़ कर देती हूँ फिर आप अपने दैनिक क्रिया से निपट लीजियेगा.

मैंने अनजान बनते हुए कहा- अच्छा मैं प्रतीक्षा करता हूँ, लेकिन यह खून कहाँ से आया? क्या तुम्हें कहीं चोट लगी है?
मेरे प्रश्न सुन कर उसने शर्म से सिर झुका लिया तथा उसका चेहरा एवम् कान लाल हो गए और उसने बाथरूम से बाहर जाते हुए कहा- साहिब, सब ठीक है आप निश्चिंत रहिये और मुझे कहीं कोई चोट नहीं लगी है. आज सुबह से मुझे माहवारी शुरू हो गई हैऔर यह उसी का खून था.  “Bahu Sexy Chudai”

माला की बात सुन कर मैं चुप हो गया और सुबह की नित्य क्रिया से निपट कर बैठक में अख़बार पढ़ने बैठा ही था कि वह मेरी चाय दे गई. ऑफिस की छुट्टी होने के कारण मैं पूरा दिन घर पर आराम करता रहा और माला दिन भर रोजाना की तरह घर के काम में व्यस्त रही. रात को मैं तो समय पर खाना खा कर सोने चला गया और मुझे नहीं पता चला कि माला कब सोने गई थी.

उसके बाद अगले पाँच दिन यानि रविवार से बृहस्पतिवार तक बिल्कुल सामान्य निकल गए और कोई भी उल्लेखजनक प्रसंग नहीं हुआ.
शुक्रवार सुबह सात बजे जब मैं उठा और मुझे लघु-शंका के लिए जाना था इसलिए बाथरूम की और बढ़ा तो वहाँ पानी चलने की आवाज़ सुन कर थोड़ा ठिठका. लेकिन दरवाज़ा खुला देख कर मैं बाथरूम के दरवाज़े के पास जा कर अंदर झाँका तो देखा पूर्ण नग्न माला कपड़े धो रही थी.

मैं वापिस कमरे में आ गया लेकिन माला ने शायद मुझे देख लिया होगा इसलिए एक मिनट के बाद ही उसकी आवाज़ आई- साहिब, आप अंदर आ जाइए मैंने अपने आप को ढक लिया है.
मैं झिझकते हुए एक बार फिर बाथरूम में घुसा तो देखा की माला ने अपने शरीर को अपनी गीली साड़ी से ढक लिया था जो उसके जिस्म से बिल्कुल चिपकी हुई थी.

माला के बदन से चिपकी साड़ी में से उसका हर अंग मुझे दिख रहा था जिस कारण मेरा लिंग एक नाग की तरह अपना सिर उठाने लगा था. जब माला ने मुझे उस नाग के फन पर हाथ रख कर दबाते हुए देखा तब वह मुस्कराते हुए मेरी तरफ पीठ करते हुए बोली- साहिब, लगता है कि आपको बहुत तेज़ मूत आया है. मैं दूसरी तरह मुंह कर के बैठ जाती हूँ तब तक आप उससे निपट लीजिये.

पिछले शनिवार को हुई घटना के कारण मुझे माला की बात सुन कोई संकोच नहीं हुआ और मैंने भी मुस्कराते हुए झट से अपना लिंग निकाल कर मूतने लगा.
जब मैं मूत्र विसर्जन कर रहा था तब मैंने देखा कि माला मुड़ कर मेरे आठ इंच लम्बे लिंग को बहुत ध्यान से घूर रही थी. जैसे ही मैंने अपना सिर उसकी ओर घुमा कर उसकी आँखों में झाँका तो वह शर्मा गई और झट से मुड़ कर दूसरी तरफ देखने लगी.

मैं मूत्र विसर्जन से निपट कर जब कमरे में जाकर बिस्तर पर लेटा तब माला के नग्न शरीर के हर अंग की छवि मेरी आँखों के आगे एक चलचित्र की तरह घूमने लगी और मेरा मन उसे नहाते हुए देखने की लालसा ने जकड़ लिया. “Bahu Sexy Chudai”
इतने में जैसे ही मुझे शावर चलने की ध्वनि सुनाई दी, मैं समझ गया कि माला नहा रही होगी इसलिए मैं उठ कर बाथरूम में घुसा और पूछा- माला अभी और कितनी देर लगेगी? ज़रा जल्दी करो मुझे भी ऑफिस जाने के लिए नहाना एवम् तैयार होना है.

शावर की फुआर के नीचे नहाती पूर्ण नग्न माला ने जब मुझे उसके नग्न शरीर को घूरते हुए देखा तो अपने गुप्तांगों को हाथों और बाजुओं से छिपाते हुए बोली- बस समझिये नहा चुकी हूँ. अभी दो मिनट में बाहर आती हूँ.

माला के नग्न शरीर के ऊपर से फिसलती हुई पानी की बूँदें ऐसे लग रही थी जैसे सूर्य उदय के समय पेड़ एवम् पौधों की पत्तियों पर से मोती जैसी ओस की बूँदें फिसलती हैं.
मैंने बाथरूम से निकल कर दरवाज़े के पास खड़ा हो कर माला के निकलने की प्रतीक्षा करने लगा.

इस बार बाथरूम में माला के नग्न शरीर के भरपूर दीदार हो जाने के कारण मेरा लिंग तन कर खड़ा हो गया था जिसे ना तो मैंने छिपाने की और ना ही दबाने की चेष्टा करी.
कुछ देर के बाद माला ने अपने पेटीकोट को स्तनों के ऊपर बाँध कर और नीचे के शरीर को उसी से ढक कर बाहर निकली तब मैं दरवाज़े में ही खड़ा था.

अर्ध-नग्न माला जब मेरे पास से बाहर निकलने लगी तब मैंने थोड़ा से आगे सरक कर अपने लोहे जैसे सख्त लिंग को उसके जिस्म के साथ रगड़ने दिया.
मेरे लिंग की रगड़ महसूस होने पर माला पलट कर मुड़ी और मुझे ऊपर से नीचे तक देखा और मेरे लोअर में बने तंबू को देख कर हंसती हुई वहाँ से भाग गई.      “Bahu Sexy Chudai”

उसके बाद मैंने बाथरूम में जा कर अपने सभी कपड़े उतार कर दरवाज़े के बाहर रख दिए और नहाते हुए माला को आवाज़ लगाईं- माला, मैंने मैले कपड़े बाहर दरवाज़े के पास रख दिए है उन्हें उठा लो और मैं तौलिया लाना भूल गया हूँ वह दे देना.

कुछ ही क्षणों में मैंने गर्दन मोड़ कर देखा की माला अपने हाथ में मेरा तौलिया लिए दरवाज़े पर खड़ी मुझे नहाते हुए देख रही थी तथा उसने मैले कपड़े उसके कंधे पर रखे हुए थे.
उसकी ओर देखते हुए मैंने मुड़ कर अपने शरीर की दिशा को उसकी तरफ कर दिया ताकि वह मेरे तने हुए लिंग को भी अच्छी तरह से देख ले.
मेरे आठ इंच लम्बे तने हुए लिंग को एक बार फिर देख कर उसकी आँखें फट गई और वह अपने खुले मुंह पर हाथ रख कर वहाँ से हट गई.

मेरे नहाने के बाद जैसे ही माला ने शावर के बंद होने की आवाज़ सुनी तो वह मुझे तौलिया देने के लिए एक बार फिर बाथरूम के दरवाज़े मुस्कराते हुए खड़ी हो गई.
माला की मुसकराहट का उत्तर मैंने भी मुस्करा कर दिया और उसके पास आ कर तौलिया लेकर अपने बदन को पौंछता रहा.
जब माला वही खड़ी मुझे देखती रही तब मैंने पूछा- तौलिया तो दे दिया है अब क्या देख रही हो? क्या कुछ चाहिए है या फिर कुछ कहना है?

माला को शायद मुझसे ऐसे प्रश्न की आशा नहीं थी इसलिए शर्माते हुए मुड़ कर रसोई की ओर जाते हुए बोली- नहीं, मुझे अभी कुछ नहीं चाहिए. मैं तो यह कहने आई थी की नाश्ता तैयार है आप जल्दी से तैयार हो कर खाने की मेज़ पर आ जाइये.

मैंने तैयार हो चाय नाश्ता किया और ऑफिस चला गया तथा शाम छह बजे के बाद रोजाना की तरह घर वापिस आया तथा शाम की चाय पी और रात को खाना खाने के बाद सो गया.
रात को लगभग तीन बजे दरवाज़ा खड़कने की आवाज़ से मेरी नींद खुल गई और जब मैंने उठ कर देखा तो पाया की रसोई की ओर वाली बालकनी का खुला दरवाज़ा हवा के तेज़ झोंके से खुल बंद रहा था.

मैंने उस दरवाज़े को चिटकनी लगा कर बंद किया और बाकी के दरवाज़े एवम् खिड़कियाँ देखते हुए जब स्टोर में पहुंचा तो देखा की माला सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट पहने हुए सीधा सो रही थी.
माला के ब्लाउज के ऊपर वाले दो बटन ही सिर्फ बंद थे और सोते हुए ऊपर सरक जाने के कारण उसके दोनों उरोज उसमें से बाहर निकल गए थे.
क्योंकि माला एक टाँग सीधी और दूसरी टाँग ऊँची कर के सो रही थी इसलिए उसका पेटीकोट उसके घुटनों के ऊपर हट कर उसकी कमर तक सरक गया था और उसकी योनि और जघन-स्थल का क्षेत्र बिल्कुल नग्न हो रहा था.

मैंने कमरे की लाईट जला कर उस कमरे की खुली खिड़की को बंद किया जिसका माला को कुछ पता नहीं चला और वह वैसे ही सोई रही.
कमरे की लाईट की रोशनी में मुझे उसके जघन-स्थल के काले घने बालों के बीच में छुपी ही योनि और उसके गुलाबी होंठ दिखाई दिया.
उस सुबह बाथरूम में घटित घटना और उस समय सोई हुई माला के खुले उरोज और योनि को देख कर मैं उत्तेजित होने लगा और मेरे लिंग ने अपना सिर उठा लिया.
मैं काफी देर तक असमंजस की स्थिति में वहीं खड़ा उसको देखता रहा. “Bahu Sexy Chudai”

मैं कुछ देर तक असमंजस की स्थिति में वहीं खड़ा माला को देखता रहा. और फिर जब अपने पर नियंत्रण नहीं रख सका तब अपने एक हाथ से उस उरोजों को तथा दूसरे हाथ से योनि को सहलाने लगा.
माला के उरोज पर हाथ रखते ही मैं दंग रह गया क्योंकि वह बहुत हो ठोस एवम् सख्त था लेकिन उनकी त्वचा बहुत ही मुलायम थी. उसके जघन-स्थल के बाल बिल्कुल रेशम की तरह मुलायम थे और उसकी योनि डबल रोटी जैसे फूली हुई थी तथा उसका भगांकुर एक मटर के दाने जितना मोटा था.

मेरे हाथों द्वारा माला के उन अंगों के छूते ही उसने आँखें खोल दी लेकिन बिना हिले डुले वह मेरी ओर बहुत कामुक दृष्टि से देखने लगी. मैं समझ गया कि वह भी वासना की आग में जल रही थी इसलिए मैंने झुक कर अपने होंठ माला के होंठों पर रख दिये और तेज़ी से उसके अंगों को मसलने लगा.
माला ने मेरे होंठों का स्वागत उन पर अपने होंठों का दबाव डालते हुए किया और उन्हें चूसते हुए अपनी जीभ को मेरे मुंह डाल दी. कुछ देर तक होंठों एवम् जीभ के इस आदान प्रदान के बाद मैंने माला को अपनी बाजुओं में उठा कर अपने कमरे में ले जा कर बिस्तर पर लिटा कर पास में लेट गया.          “Bahu Sexy Chudai”

मेरे लेटते ही माला तथा मैं एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे और जैसे ही मैंने उसके उरोजों और भगांकुर को सहलाने लगा उसने भी मेरे लोअर के अंदर अपना हाथ डाल कर मेरे लिंग को सहलाने लगी.
अगले दस मिनटों तक इस क्रिया के करते रहने से हम दोनों इतने उत्तेजित हो गए की माला के अंगूर जितने मोटे चूचुक बहुत सख्त हो गए और मेरे लिंग की नस फूलने लगी. तब मैंने माला की चूचुक को मुंह में ले कर चूसने लगा और अपने हाथ की बड़ी उँगली को उसकी योनि में डाल कर अंदर बाहर करने लगा.
माला ने भी मेरे लिंग की त्वचा को पीछे सरका कर लिंग-मुंड को बाहर निकाल लिया और फिर उसके किनारों को अपनी उँगलियों एवम् अंगूठे से सहलाने लगी.

लगभग दस मिनट की इस क्रिया से दोनों ही अत्यंत उत्तेजित हो गए और मेरे लिंग में से पूर्व-रस की कुछ बूँदें निकल गई और माला की योनि में से भी रस का रिसाव होने लगा. उस हालत में जब मैंने माला की आंखों में आँखें डाल कर देखा तब उनकी मदहोशी ने मुझे संसर्ग शुरू करने के लिए प्रेरित कर दिया.

मैंने तुरंत उठ कर माला का ब्लाउज एवम् पेटीकोट उतार कर उसे नग्न किया और फिर अपनी टी-शर्ट एवम् लोअर उतार दिया. फिर मैं पीठ के बल बिस्तर पर लेट गया और माला को मेरे लिंग के ऊपर बैठने का इशारा किया.
मेरा इशारा समझ कर माला मेरी कमर के दोनों ओर टांगें कर के नीचे हुई और मेरे लिंग को हाथ से पकड़ कर अपनी योनि के मुंह की सीध में कर के उस पर बैठ धीरे से दबाव दिया.

कुछ ही क्षणों में जब मेरे लिंग-मुंड ने माला की योनि में प्रवेश किया तब माला के चेहरे कुछ असुविधा एवम् कष्ट की रेखाएं दिखाई दीं और उसके मुंह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… की सीत्कार निकली.
उस सीत्कार को सुन कर मैंने पूछा- क्या हुआ? बहुत दर्द हुआ क्या?      “Bahu Sexy Chudai”
माला ने सिर हिलाते हुए कहा- हाँ, बहुत दर्द हुई है. पति के दुबई जाने के बाद पहली बार इसमें कोई लिंग प्रवेश कर रहा है इसलिए.
मैंने कहा- थोड़ी देर ऐसे ही रुकी रहो और जब दर्द कम हो जाए तब आराम से धीरे धीरे अन्दर प्रवेश कराओ.

माला दो मिनट तक वैसे ही बैठी रही और फिर जब कुछ सहज हुई तब उसने एक बार फिर नीचे की ओर दबाव बनाया तो मेरा पूरा लिंग एक झटके से उसकी योनि में घुस गया.
ऐसा होते ही माला जोर से ‘आह्ह.. मर गई’ की चीत्कार मारते हुए मेरे ऊपर लेट गई और मैंने देखा कि उसकी आँखों में आंसू निकल आये थे.
मैंने उसे अपनी बाहुओं में ले कर उसके गालों और होंठों चूमते हुए पूछा- क्या हुआ?
अपनी आँखों से निकले आंसुओं को पोंछती हुई माला बोली- आपका बहुत लम्बा और मोटा है. जब अकस्मात पूरा अंदर चला गया तो बहुत दर्द हुआ.
मैंने पूछा- क्या मेरा लिंग तुम्हारे पति के लिंग से अधिक बड़ा है?
उसने कहा- जी हाँ, आपका बहुत ज्यादा बड़ा है. उनका तो सिर्फ साढ़े चार इंच लम्बा और एक इंच मोटा है. वह तो सिर्फ गर्भाशय के मुंह तक ही जाता है उसके अंदर नहीं. आपका तो मेरे गर्भाशय के अंदर भी घुस गया है तभी तो बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है.

उसके बाद माला अगले पाँच मिनट तक मेरे ऊपर लेटी रही और अपने ठोस एवम् सख्त उरोज और चूचुक मेरे सीने में चुभाती रही तथा मैं उसकी पीठ एवम् नितम्बों को सहलाता एवम् मसलता रहा.
पाँच मिनट के बाद उसने मेरे ऊपर उठ कर बैठ कर अपने कूल्हों को हिलाया और जब मेरा लिंग उसकी योनि के अन्दर ठीक से सेट ही गया तब वह उचक उचक कर उसे योनि के अन्दर बाहर करने लगी.
पाँच मिनट तक वह आहिस्ता आहिस्ता ऐसा करती रही और फिर उसके बाद वह बहुत तेज़ी से उछल उछल कर संसर्ग करने लगी.

माला को ऊपर बैठ कर संसर्ग करते हुए अभी दस मिनट ही हुए थे कि उसका शरीर अकड़ गया तथा उसकी योनि में बहुत तेज़ संकुचन हुआ और वह सीत्कार मारते हुए मेरे ऊपर लेट गई.
पसीने से भीग रही माला हाँफते हुए बोली- बस, मैं थक गई हूँ और नहीं कर सकती. अब आप ही ऊपर आ जाइये.

उसकी बात सुन कर मैंने करवट ली और उसे अपने नीचे लिटा लिया और खुद ऊपर चढ़ कर संसर्ग करने लगा. क्योंकि माला की योनि ने अभी तक मेरे लिंग को जकड़ रखा था इसलिए मुझे उसे अन्दर बाहर करने में बहुत अधिक रगड़ लग रही थी.
मैंने माला से कहा- तुम्हारी योनि बहुत कसी हुई है जिससे मुझे संसर्ग करने में काफी दिक्कत हो रही है. थोड़ा ढीली करो ताकि मैं अन्दर बाहर कर सकूं.
मेरी बात सुन कर उसने कहा- मेरी कसी हुई नहीं है बल्कि आपका बहुत फूला हुआ है.  “Bahu Sexy Chudai”

मैंने माला की बात सुन कर जब अपने लिंग को उसकी योनि में से थोड़ा निकाल कर देखा तो वह सचमुच में बहुत फूला हुआ दिखाई दिया.
मैंने उसी हालत में संसर्ग शुरू किया और इस डर से की मेरा शीघ्रपतन न हो जाए मैं आठ-दस धक्के मारने के बाद रुक जाता.
मेरे द्वारा पाँच-छह बार ऐसा करने पर माला ने जो की काफी देर से सिसकारियाँ ले रही थी एक जोर की सीत्कार मारी और उसकी योनि में से गर्म गर्म रस का रिसाव हो गया.
उस रस स्त्राव से माला की योनि में बहुत चिकनापन हो गया जिससे मेरे लिंग पर कम रगड़ लगने लगी और मैं बहुत सहजता से तेज संसर्ग करने लगा.

अगले पन्द्रह मिनट तक मैंने बहुत तेज़ी से धक्के लगाते हुए संसर्ग किया और इस दौरान माला ने तीन बार बहुत जोर से सीत्कार ली तथा उसकी योनि में से रस का स्त्राव हुआ.
इसके बाद मैंने अत्यंत तीव्रता से धक्के लगाये जिस कारण योनि लिंग के संसर्ग से निकली फच.. फच.. की आवाज़ पूरे कमरे में गूंजने लगी.
माला उस आवाज़ को सुन कर अत्यंत उत्तेजित हो गई और अपने कूल्हे उठा उठा कर मेरे हर धक्के का उत्तर देते हुए मेरा साथ देने लगी.

पाँच मिनट की इस अत्यंत तीव्र क्रिया के बाद उसने मुझे बहुत ही जोर से अपनी बाजुओं में जकड़ लिया और अपने हाथों के नाखून मेरी पीठ में गाड़ दिए. मैंने उसके नाखूनों की चुभन को सहते हुए उसी तीव्रता से संसर्ग करता रहा और कुछ ही क्षणों में माला ने बहुत ही ऊँची आवाज़ में एक लम्बी चीत्कार मारते हुए मेरी कूल्हे एवम् कमर को अपनी टांगों से जकड़ लिया.
उसी अत्यंत उत्तेजित स्थिति में माला की योनि में बहुत ज़बरदस्त सिकुड़न हुई और उसमें से निकलने वाले रस के लावा मेरे लिंग को गर्मी पहुँचाने लगा.

उस गर्मी के मिलते ही मेरे लिंग ने उस योनि रस के लावा को ठंडा करने के लिए वीर्य रस की बौछार कर दी. कुछ ही क्षणों में मेरे लिंग से वीर्य रस का इतना विसर्जन हुआ कि उससे माला की योनि पूरी भर गई तथा वह उमसे से रस बाहर निकल कर बहने लगा.
पैंतीस-चालीस मिनट के इस घमासान संसर्ग में हम दोनों पसीने से भीग गए थे और हमारी सांसें फूल गई थी इसलिए अगले दस मिनट तक हम उसी तरह एक दूसरे से चिपक कर लेटे रहे.

इन दस मिनट में माला ने मुझे गालों एवम् होंठों पर लगभग कई बार चूमा और कहा- साहिब, आप में बहुत सहन-शक्ति है. मैंने अब तक के जीवन में पहली बार इतनी देर यौन संसर्ग किया और कई बार स्खलित भी हुई हूँ. मेरे पति तो तीन से पाँच मिनट में निपट जाते है. वह खुद तो स्खलित हो जाते थे लेकिन उन्होंने मुझे एक बार क्या, कभी भी स्खलित नहीं किया था.
उसकी बात सुन कर मैं उसके ऊपर से उठते हुए बोला- तुम्हें तो बिल्कुल नया और बहुत अच्छा अनुभव मिला होगा. क्या तुम्हें आनन्द एवम् संतुष्टि मिली या नहीं?      “Bahu Sexy Chudai”

माला भी उठते हुए बोली- हाँ, यह पहली बार है जो मुझे बहुत अच्छा एवम् एकदम नया अनुभव मिला है और साथ में आनन्द और संतुष्टि किसे कहते है यह भी पता चल गया है. लेकिन एक शिकायत यह है कि आपका लिंग बहुत लम्बा है और जब वह मेरी गर्भाशय की दीवार से टकराता है तो मेरे जिस्म में एक झुरझुरी सी उठती है जिससे पूरे शरीर हलचल मच जाती थी. क्योंकि ऐसा मुझे पहली बार महसूस हुआ है इसलिए मैं नहीं जानती कि उस झुरझुरी एवम् हलचल को क्या कहूँ आनन्द या संतुष्टि या फिर दोनों?
मैंने चुटकी लेते हुए मुस्करा कर माला से कहा- ऐसा करो, इसके बारे में अम्मा जी से पूछ लो.
माला मेरी बात सुन कर हंसते हुए बोली- धत, क्या कोई लड़की अपनी सास से ऐसी बातें पूछती है?

इसके बाद हम दोनों बाथरूम में घुस गए और अपने गुप्तांगों को साफ़ कर के फिर बिस्तर पर एक दूसरे से चिपक कर सो गए.

रात में कामवाली की युवा बहू के साथ सेक्स के बाद हम दोनों सो गए थे.

उस दिन सुबह आठ बजे मेरी नींद खुली तो देखा नग्न माला मेरी ओर करवट किये मेरी बाएं बाजू पर सिर रखे सो रही थी और उसके दोनों उरोज मेरे सीने से चिपके हुए थे. उसका बायाँ बाजू मेरे कंधे के ऊपर से मेरी पीठ पर था तथा उसने उससे मुझे जकड़ा हुआ था और उसका दायाँ बाजू हम दोनों के बीच में था तथा उसका वह हाथ मेरे लिंग पर रखा हुआ था. उसकी दाईं टाँग बिल्कुल सीधी मेरी बाईं टाँग से चिपकी हुई थी तथा उसकी बाईं टाँग मुड़ी हुई थी और उसका घुटना मेरी दोनों टांगों के बीच में था.   “Bahu Sexy Chudai”

उसका चेहरा सुबह की रोशनी में चमक रहा था तथा उस पर एक अबोध बच्चे के जैसी मासूमियत थी जिसे मैं बिना हिले डुले चुपचाप निहारते हुए बीती रात के प्रसंग के बारे सोचने लगा.
रात के प्रसंग के बारे में सोचते ही मेरे लिंग में चेतना आने लगी और पूरे शरीर में एक रोमांच की लहरें उठने लगी.

कहते हैं कि उत्तर पश्चिम यूरोप के एक देश में हुए शोध से पता चला है कि पुरुष के लिंग को पूर्ण चेतना में लाने के लिए किसी भी स्त्री को अधिक से अधिक दस सेकंड ही लगते हैं.
लेकिन मेरा लिंग तो बिना किसी स्त्री की सहायता लिए, सिर्फ उसके साथ किये संसर्ग के बारे में सोचने से ही सात सेकंड में उस स्थिति में पहुँच गया.

इससे पहले मैं कोई अगला कदम उठता मुझे मेरे लिंग पर माला के हाथ का दबाव महसूस हुआ और मैंने गर्दन नीची करके उसे देखा तो वह जाग गई थी और मंद मंद मुस्करा रही थी. मेरी गर्दन नीचे झुकने से जैसे ही मेरा चेहरा उसके पास आया उसने अपना सिर ऊँचा करते हुए मेरे होंठों को चूम मुझे कस कर जकड़ लिया.
प्रत्युत्तर में मैंने भी उसे अपनी बांहों में इतनी जोर से भींचा कि उसकी सीत्कार निकल गई और उसके उरोज मेरे सीने में गड़ने से उसे पीड़ा का अनुभव हुआ.

माला की सीत्कार सुन कर मैंने जैसे ही अपनी पकड़ ढीली की, उसने मुझे हल्का धक्का दे कर सीधा किया और मेरे ऊपर चढ़ कर बैठ गई. मैं तुरंत उसके दोनों उरोजों को हाथों से सहलाने लगा और उनकी चूचुक को उंगलियों एवम् अंगूठे के बीच में लेकर मसलने लगा.
मेरा ऐसे करते ही जब उसके शरीर में उत्तेजना की लहरें दौड़ने लगी तब वह थोड़ा पीछे हो कर मेरी जाँघों पर बैठते हुए मेरे लिंग को पकड़ कर सहलाने तथा हिलाने लगी. “Bahu Sexy Chudai”

जब मैंने अपने एक हाथ को उसके उरोज से हटा कर उसकी जाँघों के बीच में डाल कर उसके भगांकुर को सहलाने लगा तब वह उचक पड़ी. उसने तुरंत पलटी होकर मेरे लिंग को अपने मुंह में भर लिया और अपनी योनि को मेरे मुंह के आगे कर दिया.
मैंने उसका न्योता स्वीकार किया और अपने दोनों हाथों से उसके नितम्बों को पकड़ कर उसे नीचे खींच कर उसकी योनि पर अपना मुंह गाड़ दिया.

जैसे ही मेरी जीभ उसके भगांकुर को छूती, माला का शरीर में कंपकंपी की लहर दौड़ जाती और वह अपनी योनि को मेरे मुंह पर दबा देती. उसके ऐसा करते ही मैं अपनी जीभ को उसकी योनि के डाल देता और उसके अन्दर घुमा कर उसकी उत्तेजना की आग में घी डालने का काम करता.

जब माला के मुंह से सिसकारियाँ निकलती, तब मेरी उत्तेजना बढ़ जाती और उसके मुंह में मेरा लिंग-मुंड फूल जाता जिस से उसकी आवाज़ निकलना बंद हो जाती.

दस मिनट तक इस युगल पूर्व क्रिया करते हुए जब हम बहुत उत्तेजित हो गए तब मैंने माला को उठा कर बिस्तर पर पटक दिया और एक ही झटके में अपने लोहे जैसे सख्त लिंग को उसकी सिकुड़ी हुई योनि में घुसेड़ दिया. “Bahu Sexy Chudai”

पूरे लिंग का एक ही झटके में योनि के घुसते ही माला तडप उठी और पैर पटकती ही बहुत ऊँची एवम् लम्बी चीत्कार मारती हुई बोली- आह्ह… ओह्ह.. मेरी माँ… हाय.. मैं मर गईईई… क्या आप आराम से नहीं कर सकते? बड़ी बेदर्दी से मार डाला मुझे.

मैं समझ गया कि उसे बहुत दर्द हुआ होगा तभी के लिए वह ऐसा बोल रही है इसलिए मैं चुपचाप बिना कुछ उत्तर दिए उसके ऊपर लेट गया.
पाँच मिनट के बाद वह बोली- मैं नीचे दब रही हूँ, मेरा दम घुट रहा है. थोड़ा ऊँचा हो जाइए ताकि मेरे ऊपर वज़न कम हो जाये.

मैंने माला की आँखें डाल कर उसकी ओर देखते ही मैं समझ गया कि उसका दर्द कम हो गया था और वह संसर्ग के लिए तैयार थी. तब मैंने थोड़ा ऊँचा होकर संसर्ग शुरू किया और अपने लिंग के मुंड को उसकी योनि के अंदर ही रखते हुए बाकी का हिस्सा बाहर निकाल कर फिर अंदर धकेलने लगा.

लगभग दस मिनट तक धीरे धीरे धक्के मारने के बाद जब मैंने तेज़ धक्के लगाने शुरू किये तब माला भी अपने कूल्हे ऊपर उठा कर मेरा साथ देने लगी. जब मैं लिंग को योनि से बाहर खींचता तब वह कूल्हे नीचे कर लेती और जब मैं लिंग को योनि के अंदर धकेलता तब वह कूल्हे ऊँचे उठा कर उसका स्वागत करती. “Bahu Sexy Chudai”

तेज़ संसर्ग को करते हुए पाँच मिनट ही हुए थे जब माला की योनि में से रस का रिसाव होना और उसके मुंह से सिसकारियों का निकलना शुरू हो गया. रस के रिसाव से योनि के अंदर स्नेहन हो जाने से मेरा लिंग बहुत तेज़ी से उसके अंदर बाहर जाने लगा और कमरे में फच फच का स्वर गूंजने लगा.
मैं दस मिनट से तेज़ी से संसर्ग कर रहा था और माला मेरा पूरा साथ दे रही थी तभी उसने कहा- और अधिक तेज़ी से करिए मैं प्रेमोन्माद की चरमसीमा पर पहुँचने वाली हूँ.

क्योंकि मैं भी कामोन्माद के समीप पहुँचने वाला था इसलिए मैंने माला की बात मानते हुए अत्यंत तीव्रता से धक्के लगते हुए अपने लिंग को उसकी योनि के अंदर बाहर करने लगा.
मैंने अभी आठ दस तीव्र धक्के ही लगाये थे कि माला चिल्लाई- आह.. ओह्ह… उईईमाँआआ….. मैं गईईई… मैं मर गई… माँआआ….
इसके साथ ही उसकी योनि में गर्म गर्म रस की बाढ़ आ गई जिसमें मेरा लिंग गोते खाने लगा और रस की ऊष्मा लगते ही लिंग ने अपनी पिचकारी चला कर ढेर सारा वीर्य रस उगल दिया. “Bahu Sexy Chudai”

हम दोनों पसीने से लथपथ थे तथा बुरी तरह से थके हुए हांफ रहे थे इसलिए मैं माला के ऊपर ही लेट गया और अगले दस मिनट हम वैसे ही लेटे रहे.
जब हमारी साँस में सांस वापिस आई तब माला मेरे होंठों को अपने होंठों में लेकर उन्हें चूसने लगी और मेरे सिर तथा पीठ पर बहुत प्यार से हाथ फेरने लगी.

मैं अभी कुछ देर और उसके ऊपर ही लेटा रहना चाहता था लेकिन मेरे लिंग के सिकुड़ कर माला की योनि से बाहर निकल जाने के कारण योनि में से निकल रहा दोनों का मिश्रित रस बिस्तर गीला करने लगा था.
जैसे ही माला को गीलापन महसूस हुआ उसने झट से अपनी योनि पर हाथ रख कर रस को बहने से रोका और मुझे धक्का दे कर अलग करते हुए उठी और बाथरूम में भाग गई.

मैं भी अपने ढीले लिंग को हाथ में पकड़े जब उसके पीछे बाथरूम में गया तब देखा कि माला अपनी योनि साफ़ करने वाली ही थी.
मैं झट से उसके पास जा कर खड़ा हो गया तथा अपने लिंग को उसकी ओर बढ़ा दिया तब माला ने अपनी योनि को धोना छोड़ कर मेरे लिंग को पकड़ कर पहले तो चूमा और फिर उसे चूस एवम् चाट कर बिल्कुल साफ़ कर दिया.

उसके बाद जब माला नीचे बैठी अपनी योनि को पानी से धो रही थी तब मैंने शावर खोल दिया और माला को खींचते हुए उसके नीचे अपने साथ नहलाने लगा. शावर के नीचे दोनों ने एक दूसरे के शरीर को अच्छे से मल कर नहलाया और फिर बदन पोंछ एवम् कपड़े पहन लिए.

उस दिन के बाद अम्मा के वापिस आने तक माला रात हो या दिन मेरे ही साथ मेरे बिस्तर पर नग्न सोती थी और हम दोनों हर रात एक बार तथा अवकाश के दिनों में तो दो से तीन बार संभोग करते थे.

loading...



Related Post & Pages

Rocco’s Dirty Girls - XXXMS - Free Porn Movies in HD Brazzers Cast: Amirah Adara, Monique Woods, Veronica Morre, Malena, Rachel Adjani, Pamella Porn legend Rocco ...
दो भाइयों में हॉट पड़ोसन को चोदा... हाई दोस्तों मेरा नाम अभी हैं और मैं औरंगाबाद का हूँ. यह कहानी के तिन किरदार हैं. मैं, कुसुम भाभी और ...
Halloween bright nympho Nikki Darling gets analfucked by aroused white... Beautiful leggy dark skinned babe has prepared a cute costume for the Halloween party but she doesn'...
Picked up in the park natural girl Herda Wisky gets poked in spoon pos... Shy looking chick gets quite absorbed with reading books and she looks quite calm. But dude still tr...

loading...

Bollywood Actress XXX Nude