loading...
Get Indian Girls For Sex
   

Bhai

indian sexy stories हेलो दोस्तों मेरा नाम आंचल हे और में अलाहाबाद की रहने वाली हु. में अपने फेमिली के साथ रहती हु. और यह कहानी उस समय की हे जब में अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रही थी. उस वक्त मेरी एज १९ साल थी और यह स्टोरी ४ साल पहले की हे. में आपको अपने फेमिली के बारे में बताना तो भूल ही गयी. मेरी फेमिली में टोटल चार लोग हे में, मेरी माँ, मेरी बहन और मेरे पापा.

मेरे पापा रेलवे में टीसी हे और वह अक्सर काम की वजह से घर से बहार रहते हे, मेरी माँ हॉउसवाइफ हे और मेरी सीस ९th में पढ़ती हे. में एक गोरी और देसी टाइप की लड़की हु. मेरा फिगर का साइज़ ३४-२८-३४ हे. कोई भी लड़का मुझे देखता हे तो वो वह मुझे बस देखता ही रह जाता हे. हमारे घर के सामने हमारे ताऊजी का घर हे. उनका एक लड़का और एक लड़की हे. उनके लड़के का नाम सुमित हे और वह अभी १२th में पढता हे. और उसकी उमर उस वक्त १८ साल थी और वह मुझे दीदी बोलता था. देसी पोर्न स्टोरी डॉट कॉम पहले उसका और मेरा एक दुसरे के लिए कोई भी आकर्षण नहीं था लेकिन एक दिन हम दोनों के साथ एक घटना घटी. एक बार मेरे घर पे कोई नही था. पापा डयूटी पर गये हुए थे और मेरी माँ मंदिर में गई हुई थी, में घर में अकेली बेठ के बोर हो रही थी. तो मैने सोचा की चलो आज नेट पे कोई मूवी देख लेते हे लेकिन मेरा मुड फिर पोर्न वीडियो देखने का करने लगा और में पोर्न वीडियो देखने लगी. जिसमे एक गंजा सा आदमी एक गोरी लड़की को मुह में चोदता हे और फिर उसके बाद उसकी चूत भी मारने लगता हे.

यह सब देख के में भी अब गर्म हो गयी थी और मैने भी अपनी सलवार खोल कर अपनी चूत में उंगली करने लगी. में अभी पूरी वर्जिन थी और कुछ देर के बाद पानी निकलने लगा और में शांत हो गयी. और अपना फोन बंद कर दिया तभी मैने पीछे देखा तो मेरे निचे की जमींन खिसक गयी और मैने देखा की मेरे ताउजी के लड़के ने मुझे यह सब करते हुए देख लिया था और में रोने लगी.

तभी मेरा कजिन मेरे पास आया और मुजे चुप होने को कहा और कहने लगा की क्यों रो रही हो तू मत रो, इस उमर में ये सब होता रहता हे और ये तो हर लड़की करती हे, और मुझे तू यह करती बहोत ही अच्छी लग रही थी.

मैने अपने भाई से कहा की इस बारे में प्लीज़ किसी को कुछ नहीं बताना नहीं तो में कही की नहीं रहूंगी. तो मेरे भाई ने बोला की तू टेंशन मत ले  में किसी को भी नही बताऊंगा, लेकिन एक शर्त पे, तो मैने बोला की क्या शर्त हे भाई?

सुमित : तुजे मेरे साथ एक बार सेक्स करन होगा.

में : क्या? भाई पागल हो गये हो क्या?

सुमित : में पागल नही हु में तेरे से प्यार करता हु में तेरे साथ सेक्स करना चाहता हु.

में : ये क्या बोल रहा हे तू? तुजे पता भी हे की तू किस के साथ बात कर रहा हे? में बहन हु तेरी.

में : लेकिन हम भाई बहन हे और ऐसा नहीं हो सकता.

सुमित : भाई बहन हे तो क्या हुआ हम सब से पहले इंसान हे और हमारा भी मन करता हे सेक्स करने का.

में : यार लेकिन अगर किसी को पता चल गया तो हमारी बहोत बदनामी होगी.

सुमित : यह बात हमारे सिवाय किसी को भी नहीं पता चलेगी. प्लीज़, दीदी मान जाओ ना आज तक मैने कभी सेक्स नहीं किया हे. सेक्स तो दूर की बात हे मैने तो अभी तक किसी लड़की को कभी नंगा भी नहीं देखा हे.

में : सेक्स तो मैने भी नहीं किया हे लेकिन इस में बहोत रिस्क हे ना?

सुमित : प्लीज़ दीदी प्लीज़ प्लीज़ प्लीज़ मान जाओ ना.

फिर मैने बोला की चल ठीक हे और इतना सुनते ही वह मेरे ऊपर पागलो की तरह टूट पड़ा और उसने मुझे मेरे बेड पर गिरा कर मुझे खूब जोर से किस करता रहा. और में भी उसे पूरा साथ दे रही थी. उसने किस करते करते मेरे सूट के ऊपर से ही मेरे बूब्स दबाने चालू कर दिए और बहोत तेजी से दबाये जा  रहा था. और इसी बिच में भी उसके लंड को उस्की पेंट के ऊपर से मसल रही थी.

१५ मिनिट तक हमारी लगातार किसिंग चली और अब उसने अपना पेंट उतार दिया और मैने भी अपना सलवार और सूट उतार दिया फिर वह मेरी ब्रा के ऊपर से मेरे बूब्स को दबा रहा था और मेरी पेंटी में भी हाथ डाल कर मेरी चूत सहला रहा था. उसने जेसे ही मेरी चूत को छुआ में तो जेसे सिहर सी गई. और फिर कुछ देर बाद मैने भी अपनी ब्रा और पेंटी निकाल दी.

ब्रा निकलने के बाद तो सुमित एकदम से शोकड हो गया और उसने बोला वाव दी आपके बूब्स तो कितने सॉफ्ट और गोर हे और वह मेरे बूब्स को दबाता तो कभी उनको चुसता था और सक करता. फिर कुछ देर बाद उसने कहा की चलो 69 पोजीशन में हम एक दुसरे की चाटते हे. देसी पोर्न स्टोरी डॉट कॉम

मैने मना कर दिया लेकिन उसके काफी कहने के बाद में मान गयी, और हा कर दिया और वह मेरी चूत को चाट रहा था और में उसके लंड को चूस रही थी. मैने उसके लंड को चूस चूस कर कडक कर दिया और वह मेरी चूत को ऐसे चाट रहा था जेसे की वह अभी मेरी चूत को खा जायेगा. उसके बाद में जड़ गई उसके मुह में और उसने मेरा सारा पानी भी पि लिया, फिर कुछ देर बाद उसका भी वीर्य निकल गया और में भी उसे पूरा निगल गयी.

अब मैने कहा की प्लीज़ चोद दो मुझे बना लो अपनी रखेल, फाड़ दो आज मेरी चूत को आज से में तुम्हारी हु और आगे भी तुम्हारी ही रहूंगी. फिर उसने अपना ७ इंच लंड मेरी चूत के ऊपर लगाया और ऊपर से रगड़ने लगा. फीर में मछली की तरह तडपने लगी  और सेक्सी आवाजो में बोलने लगी की प्लीज़ भैया मुझे चोद दो नहीं तो में मर जाउंगी. प्लीज़ फक मी माय स्वीट हार्ट मेरी जान आज तो मुझे चोद दे. अपनी बहन को बना ले अपनी रखेल. चोद बहन के लोडे चोद मुझे बहनचोद और इतना सुनते ही उसने अपने लंड को मेरे चूत पे रख कर एक ज़ोरदार ज़टका मारा और उसका लंड का ऊपर का हिसा मेरी चूत में जा चूका था.

में चिल्लाने लगी निकालो इसे मुझे बहोत दर्द हो रहा हे, प्लीज़ निकालो और इस बिच उसने एक और ज़टका मारा और इस बार उसका पूरा लंड मेरी चूत के अंदर था और मेरी चूत से खून निकलने लगा और मेरी आंख से आंसू निकलने लगे. फिर कुछ देर तक रुक कर वह मुझे किस करने लगा और कुछ देर बाद मुझे हलके हल्के ज़टके मारने लगा.

अब मेरा भी दर्द ख़त्म हो गया था और में अब मजे से चुदवा रही थी, और अब वह भी तेज धक्के दे रहा था और में अहः हहह मम्म हाहाह उम्म्म अह्ह्ह अह्ह्ह ममं करके आवाजे निकलने लगी थी और मुजे पेलता जा रहा था. देसी पोर्न स्टोरी डॉट कॉम   इसी बिच में दो बार जड गयी थी और फिर वह भी जड़ ने वाला था. फिर में और वह एक साथ ही जड़ गए. उसने मुझे करीब २० मिनिट तक चोदा और मेरी चूत का भोसडा बना दिया.

और फिर हम एक दुसरे के ऊपर ही सो गयो और फिर उसने मेरी गांड भी मारी. तब से लेकर आज तक वह मुझे बहोत बार चोद चूका था और बिच में तो में एक बार प्रेग्नंट भी हो गयी थी लेकिन मैने चुपके से एक डोक्टर के पास जाकर केप्स्युल कहा ली और अब भी हम मजे से चुदाई करते हे.

किशन इस उम्र में भी एक नंबर का चुदक्कड़ था और जवान चूतों का दीवाना था. मज़े की बात ये कि उसके घर में भी कुछ ऐसा ही माहौल था. एक शानदार family hindi sex story पढ़िए..


किशन अपनी कार से नीचे उतरता है और सामने की बिल्डिंग मे जाकर सीधे लिफ्ट के अंदर पहुच कर 4 दबाता है और कुछ देर मे लिफ्ट 4th माले पर पहुच जाती है, सामने एक बंदा बैठा हुआ तंबाखू रगड़ रहा था और किशन को देखते ही जल्दी से खड़ा होकर सलाम करता है,

 

किशन-सेठ जी अंदर है,

 

जी साहेब अंदर ही है, किशन सीधे दरवाजा खोल कर अंदर दाखिल होते हुए अरे क्या यार नरेश तू यहा ऑफीस मे घुसा है और मैं दो दिन से ठीक से सो नही पा रहा हू,

 

 

नरेश- अरे बैठो किशन तुम तो हमेशा ही जल्दी मे रहते हो जब कि हमारा काम है बिल्डिंग बनवाना और वह

काम तो आराम से ही होता है,

 

किशन- अरे मैं वह नही कह रहा हू जो तुम समझ रहे हो

 

नरेश- मुस्कुराते हुए, अरे मेरे दोस्त मैं सब समझ रहा हू और मैने तेरा काम भी कर दिया है, अब कुछ देर

तो अपने लंड को संभाल कर रख, अब मैं तेरे लिए रोज-रोज तो 17-18 साल की कुँवारी लोंड़िया चोदने के लिए नही ला सकता हू ना, फिर भी जुगाड़ करके एक मस्त माल का अरेंज किया है और फिर नरेश बेल बजा कर चपरासी को बुलाता है,

 

किशन- कही तूने उसे पहले ही चोद तो नही दिया

 

नरेश- अरे नही बाबा वह तो मैने तेरे लिए ही बचा कर रखा है, तेरा काम हो गया है अब ज़रा धंधे की बात

कर ले,

 

 

किशन- बोल क्या करना है

 

नरेश- मेरी तो एक ही इच्छा है और वह काम बस तू ही करवा सकता है

 

 

किशन-हाँ तो बोल ना

 

नरेश- वो जो तेरा दोस्त मेहता है उसकी एक नई सड़क पर जो ज़मीन है वह कैसे भी मुझे दिलवा दे फिर देख उस ज़मीन से मैं कहाँ से कहाँ पहुच जाउन्गा,

 

किशन- अबे सपने देखना छ्चोड़ दे मेहता उस ज़मीन को किसी कीमत पर नही बेचेगा

 

नरेश-बेचेगा वह ज़रूर बेचेगा अगर एक बार तू उससे कह दे, मैं जानता हू वह तेरी बात कभी नही टालेगा क्यो कि उसके उपर तूने एक ही इतना बड़ा एहसान कर रखा है कि वह जिंदगी भर तुझे अपना खुदा मानता रहेगा,

 

 

 

किशन- लेकिन नरेश मैं इतना ख़ुदग़र्ज़ नही कि उस पर किए एहसान की कीमत मांगू, सॉरी दोस्त कोई और बात होती तो मैं तेरे लिए कभी मना नही करता पर इस बात के लिए तू मुझे माफ़ कर दे,

 

तभी कॅबिन के अंदर एक 25 साल की मस्त खूबसूरत लोंड़िया आती है उसने एक स्कर्ट जो उसके घुटनो तक था और उपर एक शर्ट पहन रखा था उसके दूध इतने बड़े और मोटे थे कि किशन का तो लंड खड़ा हो गया और जब वह लोंड़िया थोड़ा आगे जाकर पलटी तो उसकी मोटी कसी गांड देख कर किशन ने टेबल के नीचे अपना हाथ लेजा कर अपने लंड को सहलाते हुए उसकी गुदाज गांड देखना शुरू कर दी,

 

 

नरेश- अरे पारुल ज़रा जीवन को फोन लगा कर मेरी बात कर्वाओ

 

पारुल- जी सर

 

ओर फिर पारुल ने जीवन को फोन लगा कर नरेश को दिया नरेश ने फोन लेकर पारुल से कहा ज़रा चपरासी को बोल कर दो कॉफी का बंदोबस्त कर दो,

 

पारुल को जाते हुए किशन पीछे मूड कर देखने लगा और उसके भारी फैले हुए चुतडो को बड़ी गौर से

देख-देख कर अपना लंड मसल रहा था,

 

 

नरेश- ओये बस कर और इधर देख

 

किशन- वाह नरेश क्या माल है साले कितनी मस्त लोंड़िया को तूने अपनी पीए बना रखी है,

 

 

नरेश- बहुत मस्त है क्या

 

किशन- खुदा कसम एक बार तू तो इसकी दिलवा दे साली को रात भर पूरी नंगी करके चोदुन्गा,

 

नरेश- हेलो जीवन शाम को उस लोंड़िया को साथ लेकर मेरे फार्महाउस पर आ जाना

 

नरेश- ले तेरा काम हो गया है और अब शाम को वह अपने ठिकाने पर आ जाएगी,

 

किशन- अरे नरेश उसको छ्चोड़ तू तो तेरी इस पीए को एक बार मेरी बाँहो मे भेज दे कसम से कितनी मस्त चुचिया और गांड है उसकी,

 

नरेश- अबे साले वह मेरी बेटी पारुल है और उसने MBA कर लिया है इसलिए उसे अपने साथ ही बिजनेस मे लगा लिया है अब मेरे सारे काम को धीरे-धीरे वह संभाल रही है,

 

किशन का मूह एक दम से सुख गया उससे कुछ बोलते नही बन रहा था पर फिर वह नरेश को देख कर

मुस्कुराते हुए अपने कान पकड़ कर सॉरी यार मुझे ज़रा भी नही मालूम था कि वह तेरी बेटी है,

 

नरेश- मुस्कुराते हुए इसीलिए तो मैने तेरी बात का बुरा नही माना तभी उनकी कॉफी आ जाती है और किशन और नरेश चुस्किया लेने लगते है, किशन का लंड अभी तक खड़ा हुआ था तभी पारुल एक बार फिर से अंदर आती है

 

और कुछ फिलो को उठा कर वापस जाने लगती है तभी

 

नरेश-सुनो बेटी

 

पारुल- जी पापा

 

नरेश- ये मेरे खास दोस्त है किशन और किशन यह मेरी एक्लोति बेटी पारुल है

 

पारुल- नमस्ते अंकल

 

किशन नमस्ते बेटा

 

पारुल की नशीली नज़रो और गुलाबी रस से भरे होंठो को देख कर किशन का लंड फिर से उसकी पेंट मे तन चुका था, किशन फिर से पारुल के हुस्न मे खोने वाला था तभी नरेश ने कहा अच्छा पारुल बेटी तुम जाओ

मुझे ज़रा किशन से कुछ बाते करनी है और फिर पारुल वहाँ से चली जाती है,

 

 

 

किशन- यार एक बात बता नरेश तेरी बेटी की उम्र करीब 25 साल तो होगी और तेरी उम्र को देख कर लगता नही है कि तेरी कोई 25 बरस की बेटी होगी,

 

नरेश- क्यो भाई मैं भी तो 50 टच करने वाला हू और तू भी साले बुढ्ढा होने की कगार पर ही है

 

किशन- हाँ हाँ ठीक है लेकिन तुझसे तो दो साल अभी छ्होटा ही हू, पर नरेश पहले कभी तेरी बेटी को यहाँ देखा नही,

 


Indian Sexy Kahani


 

नरेश- मुस्कुराते हुए लगता है तुझे मेरी बेटी बहुत पसंद आई है,

 

किशन- मुस्कुराते हुए नही यार वह बात नही है,

 

नरेश-अच्छा सुन शाम को समय से आ जाना फिर बाकी बाते मेरे फार्महाउस पर ही करेगे,

 

किशन-अच्छा ठीक है और फिर किशन वहाँ से उठ कर चल देता है

 

किशन की कार मार्केट के ट्रॅफिक से धीरे-धीरे गुजर रही थी, तभी थोडा आगे नरेश को दो मस्त लोंड़िया स्कर्ट और वाइट शर्ट पहने रोड से अपने भारी भरकम चूतड़ मतकते हुए जाते दिखी,

 

 

किशन ने जब गाड़ी थोड़ा करीब लाकर उन्हे देखा तभी एक लड़की पास के सब्जी के ठेले पर रुक कर अपनी गांड खुजलाते हुए सब्जियो के भाव पूछने लगी, किशन का लंड उसकी मोटी गांड को देख कर खड़ा हो गया और जब वह उसके बिल्कुल पास से गुजरा तो उसके होश उड़ गये वह लड़की कोई और नही बल्कि उसकी अपनी बेटी रिया थी,

 

रिया 18 साल की मस्त भरे बदन की लोंड़िया थी,

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम वेद है और में जयपुर का रहने वाला हूँ, में जयपुर सिटी में काम करता हूँ और वहीं मेरी फेमिली के साथ रहता हूँ। में 25 साल का हूँ, मेरा थोड़ा सा गोरा चेहरा है, मेरे लंड का साईज़ 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है। आज मैं एक बेहद नशीली sister sex story सुनाने जा रहा हूँ।


मेरे घर में 3 रूम है और किचन और छोटा सा आंगन है, एक रूम में मेरे पापा मम्मी, दूसरे रूम में दीदी और उनके ही बगल वाला कमरा मेरा है। मेरी दीदी और मेरे कमरे के बीच में एक खिड़की है, जिससे दोनों कमरे में आसानी से देख सकते है।

हमारी फेमिली में पाँच लोग है। पापा मोहन, उम्र 49 साल, जो हमेशा काम के सिलसिले से बाहर ही रहते है। मम्मी सरिता, उम्र 46 साल, वो अभी भी बहुत सेक्सी दिखती है, उनका रंग गोरा है, उनका फिगर साईज 32-30-34 है। दीदी पारुल जो हमारे साथ ही रहती है, क्योंकि उनके पति ने उन्हें झगड़ा होने की वजह से निकाल दिया, वो भी बहुत सेक्सी है, उनका फिगर साईज 36-34-38 है। में और मेरी पत्नी सविता, वो भी बहुत सेक्सी है, उसका फिगर 34-32-36 है, हम दोनों बहुत सेक्स करते है और हमारी शादी 10 महीने पहले हुई थी।

अब में सीधा कहानी पर आता हूँ। में हर रोज सुबह 10 बजे काम पर जाता और शाम को 6 बजे घर आ जाता हूँ। एक दिन की बात है, में और मेरी पत्नी सेक्स कर रहे थे, तभी मुझे अहसास हुआ कि खिड़की पर कोई है, लेकिन मैंने ध्यान नहीं दिया और मेरी पत्नी के साथ सेक्स करने लगा। अब हम दोनों बहुत इन्जॉय कर रहे थे। फिर आधे घंटे के बाद हम सो गये और फिर सुबह हुई, उस दिन रविवार था तो मेरे काम की छुट्टी थी। उस दिन मेरी पत्नी के मायके में किसी की मौत हो गयी थी, तो वो वहाँ 20 दिन के लिए चली गयी। फिर में उसे बस स्टॉप तक छोड़कर आया और वापस घर आने के बाद खाना खा कर मैच खेलने चला गया। फिर में वापस घर आया और चाय पी, अब में और मेरी दीदी बैठकर बात कर रहे थे, मेरी माँ कहीं बाहर गयी थी।

अब मेरी दीदी मुझसे पूछ रही थी कि अब कैसे दिन निकलेंगे तुम्हारे? तो में कुछ समझा नहीं। फिर मैंने दीदी से पूछा, तो वो बोली कि कुछ नहीं ऐसे ही मुँह से निकल गया और फिर वो मुस्कुरा कर चली गयी। फिर रात को हमने खाना खाया और सोने चले गये, अब माँ अपने कमरे में चली गयी और में अपने कमरे में और दीदी उनके कमरे में चली गयी। अब मुझे नींद नहीं आ रही थी तो में कंप्यूटर पर ब्लू फिल्म देखने लगा और मुठ मार रहा था तो मैंने खिड़की की तरफ देखा, तो दीदी मुझे देख रही थी। फिर में उन्हें पटाने के लिए पूरा नंगा हो गया और ऐसे नाटक कर रहा था कि जैसे मैंने उन्हें नहीं देखा है। फिर थोड़ी देर के बाद में सोने चला गया, लेकिन तब भी मुझे नींद नहीं आ रही थी।

फिर में दीदी के रूम में देखने लगा तो मुझे इतना नज़र नहीं आ रहा था, लेकिन मुझे कुछ कुछ दिखाई दे रहा था। अब मेरी बहन अपनी चूत में उंगली डाल रही थी और ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां ले रही थी आ आ उ उ और बीच बीच में मेरा नाम ले रही थी, वेद चोदो, चोदो मुझे, फिर वो सो गई और में भी जाकर अपने बेड पर सो गया। फिर एक दिन मेरी फेमिली में कुछ प्रोग्राम था, तो माँ वहाँ गयी थी और में और दीदी घर पर ही थे।

उस दिन शनिवार था, तो में काम से जल्दी आ गया था। अब जब में घर आया तो दीदी बहुत खुश थी, फिर दीदी ने मेरे लिए खाना बनाया और बोली कि खाना खाने के बाद हम शाम को मार्केट जायेंगे, मैंने कहा कि ठीक है। फिर में और दीदी मेरी बाइक पर बैठकर मार्केट गये, वहाँ पर दीदी ने कुछ कपड़े लिए और सब्जी ली। फिर जब हम वापस घर आ रहे थे तो बीच में एक थियेटर था, तो दीदी ने कहा कि चलो हम मूवी देखते है। मैंने कहा कि ठीक है और में और दीदी रोमांटिक मूवी देखने गये, क्योंकि उस दिन थियेटर में वही मूवी लगी थी, वो मूवी शुरुआत में तो नॉर्मल ही थी, लेकिन फिर बाद में उस मूवी में कुछ सेक्सी सीन आने लगे।

फिर मैंने दीदी की तरफ देखा तो वो बहुत ध्यान से देख रही थी। उसके बाद हम जब बाहर निकले तो दीदी ने कहा कि उन्हें अंडरगारमेंट्स लेनी है तो वो दुकान पर गयी और मुझे बोली कि तुम भी चलो। अब में शरमा रहा था और मैंने कहा कि तुम लेकर आओ, लेकिन उन्होंने बहुत ज़िद की तो में उनके साथ चला गया। फिर दीदी ने पारदर्शी 2 ब्रा और 2 पेंटी, काले और पीले कलर में ली। फिर दीदी ने मुझसे पूछा कि कैसी है? तो मैंने शरमाते हुए कहा कि अच्छी है। फिर हम घर पहुँचे, अब दीदी ने रात का खाना बनाया और फिर हमने खाया। अब खाना खाने के बाद में मम्मी के कमरे गया, क्योंकि वहाँ पर टी।वी लगा हुआ था और अब में टी।वी देख रहा था।

फिर थोड़ी देर के बाद मेरी बहन आई और मेरे बगल में बैठ गयी। अब मेरे मन में अभी तक कुछ भी ग़लत ख्याल नहीं था, अब हम इंग्लिश मूवी देख रहे थे। मेरी दीदी ने एक नाइटी पहनी थी और मुझसे कहा कि क्या मूवी देख रहे हो? चलो कुछ बातें करते है। फिर मैंने टी।वी बंद की और में और दीदी उनके कमरे में चले गये और अब हम पहले तो नॉर्मल बातें कर रहे थे। फिर दीदी ने पूछा कि वेद में ब्रा और पेंटी ट्राई करती हूँ, तुम देखकर बताओ। अब मे हैरान हो गया और अब में अंदर ही अंदर खुश था कि चलो आज दीदी के बूब्स देखेंगे।

meri talaakshuda bahan sister sex story

मेरी मस्त दीदी की चुदाई

फिर दीदी उठी और अलमारी में से ब्रा और पेंटी का सेट निकाला और बाथरूम में जा कर चेंज करके आई। पहले तो उन्होंने काले कलर की ब्रा और पेंटी पहनी, उसमें वो बहुत सेक्सी लग रही थी। अब मुझे उनका पूरा बूब्स आसानी से दिख रहा था और उनकी चूत भी साफ़-साफ़ दिख रही थी, उनकी चूत पर बहुत बाल थे और उनके बूब्स के निप्पल बड़े-बड़े थे। फिर दीदी ने कहा कि कैसी है? तो मैंने कहा कि सेक्सी, तो फिर दीदी हंसी और कहा कि में दूसरी ट्राई करती हूँ।

उसके बाद दीदी ने कहा कि अब मुझे नींद आ रही है तो वो सोने चली गयी। उस रात मैंने 3 बार मुठ मारी और फिर सो गया। फिर सुबह में काम पर नहीं गया और मैंने 2-3 दिन की छुट्टी ले ली कि मुझे थोड़ा बुखार है। फिर हमने खाना खाया और फिर दीदी अपना काम करने लगी। अब दीदी बाथरूम में बैठकर अपने कपड़े धो रही थी। दीदी ने रात वाली ही नाइटी पहनी थी और अब उनकी नाइटी पूरी भीग गयी थी और फिर जब वो अपने कपड़े लेने बाहर आई तो उनकी नाइटी भीगी होने की वजह से मुझे उनके बूब्स का साईज़ साफ़-साफ़ दिख रहा था, शायद उन्होंने ब्रा नहीं पहनी थी। अब में उनके बूब्स को ही देख रहा था, जो शायद उन्हें पता चल गया था।

18 साल के लड़के की जिज्ञासा बहुत तगड़ी होती है. मैं अपनी बहनों को बाथरूम में नहाते हुए चुपके से देखता था. गजब की क़यामत थी मेरी भावना दीदी. एक मनमोहक didi sex kahani पेश है..


यह घटना करीब आठ साल पहले की है, ताऊ जी की दो लड़कियाँ हैं, उस समय बड़ी वाली भावना दीदी 22 साल की और छोटी वाली 19 साल की थीं। मैं 18 साल का था, पर मुझे भावना दीदी बहुत अच्छी लगती थीं।

वो मुझको बच्चा समझती थीं, पर मैं उनको एक सुंदर लड़की की तरह देखता था। उनका गोरा बदन और उभरे हुए मम्मे मुझे पागल कर देते थे। उनके साइज इस उम्र में इतने बड़े थे कि जब वो बिना दुपट्टे के चलती थीं तो उनकी हल चल और थरथराहट किसी को भी पागल करने के लिए काफी थी और यहाँ तो रोज ही पागल होने का सामान मौजूद था .

हमारे बाथरूम के दरवाजे में छोटे-छोटे छेद थे, कभी-कभी मौका मिलने पर मैं भावना दीदी को नहाते हुए देखता था। उनकी हल्के भूरे रंग के चूचुक मेरे लंड को खड़ा कर देते थे और उनकी गोरी चूत में से बाहर निकली हुई खाली दूध की चाय के रंग जैसी चूत की जीभ (क्लिट) मुझको पागल कर देती थी।

मुझे अभी तक याद है की मै अपना पहला मुठ मेरी दीदी के लिए ही मारा था. एक सन्डे सुबह सुबह जैसे ही मेरी दीदी बाथरूम से निकली मै बाथरूम मे घुस गया. मै बाथरूम का दरवाज़ा बंद किया और अपने कपड़े खोलना शुरू किया. मुझे जोरो की पिशाब लगी थी. पिशाब करने के बाद मै अपने लंड से खेलने लगा. एका एक मेरी नज़र बाथरूम के किनारे दीदी के उतरे हुए कपड़े पर पड़ी. वहां पर दीदी अपनी नाइटगाऊन उतार कर छोड़ गयी थी. जैसे ही मैने दीदी की नाइटगाऊन उठाया तो देखा की नाइटगाऊन के नीचे दीदी की ब्रा पडा हुआ था. जैसे ही मै दीदी का काले रंग का ब्रा उठाया तो मेरा लंड अपने आप खडा होने लगा. मै दीदी के नाइटगाऊन उठाया तो उसमे से दीदी के नीले रंग का पैँटी भी गिर कर नीचे गिर गया. मैने पैँटी भी उठा लिया. अब मेरे एक हाथ मे दीदी की पैँटी थी और दूसरे हाथ मे दीदी के ब्रा था.

दीदी के अन्दर वाले कपड़े चूमे से ही कितना मज़ा आ रहा है यह वोही ब्रा हैं जो की कुछ देर पहले दीदी के चुन्चिओं को जकड रखा था और यह वोही पैँटी हैं जो की कुछ देर पहले तक दीदी की चूत से लिपटा था. यह सोच सोच करके मै हैरान हो रहा था और अंदर ही अंदर गरमा रहा था. मै सोच नही पा रहा था की मै दीदी के ब्रा और पैँटी को ले कर क्या करूँ. मै दीदी की ब्रा और पैँटी को ले कर हर तरफ़ से छुआ, सूंघा, चाटा और पता नही क्या क्या किया. मैने उन कपड़ों को अपने लंड पर मला. ब्रा को अपने छाती पर रखा. मै अपने खड़े लंड के ऊपर दीदी की पैँटी को पहना और वो लंड के ऊपर तना हुआ था. फिर बाद मे मैं दीदी की नाइटगाऊन को बाथरूम के दीवार के पास एक हैंगर पर टांग दिया. फिर कपड़े टांगने वाला पिन लेकर ब्रा को नाइटगाऊन के ऊपरी भाग मे फँसा दिया और पैँटी को नाइटगाऊन के कमर के पास फँसा दिया. अब ऐसा लग रहा था की दीदी बाथरूम मे दीवार के सहारे ख़ड़ी हैं और मुझे अपनी ब्रा और पैँटी दिखा रही हैं मै झट जा कर दीदी के नाइटगाऊन से चिपक गया और उनकी ब्रा को चूसने लगा और मन ही मन सोचने लगा की मैं दीदी की चुंची चूस रहा हूँ. मै अपना लंड को दीदी के पैँटी पर रगड़ने लगा और सोचने लगा की मै दीदी को चोद रहा हूँ. मै इतना गरम हो गया था की मेरा लंड फूल कर पूरा का पूरा टनना गया था और थोड़ी देर के बाद मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया और मै झड़ गया. मेरे लंड ने पहली बार अपना पानी छोड़ा था और मेरे पानी से दीदी की पैँटी और नाइटगाऊन भीग गया था. मुझे पता नही की मेरे लंड ने कितना वीरज़ निकाला था लेकिन जो कुछ निकला था वो मेरे दीदी के नाम पर निकला था.

मेरा पहले पहले बार झड़ना इतना तेज़ था की मेरे पैर जवाब दे दिया और मै पैरों पर ख़ड़ा नही हो पा रहा था और मै चुप चाप बाथरूम के फ़र्श पर बैठ गया. थॉरी देर के बाद मुझे होश आया और मै उठ कर नहाने लगा. शोवेर के नीचे नहा कर मुझे कुछ ताज़गी महसूस हुआ और मै फ़्रेश हो गया. नहाने बाद मै दीवार से दीदी की नाइटगाऊन, ब्रा और पैँटी उतारा और उसमे से अपना वीरज़ धो कर साफ़ किया और नीचे रख दिया. उस दिन के बाद से मेरा यह मुठ मरने का तरीक़ा मेरा सबसे फ़ेवरेट हो गया. हाँ, मुझे इस तरह से मै मरने का मौक़ा सिर्फ़ इतवार को ही मिलता था. क्योंकि, इतवार के दिन ही मै दीदी के नहाने के बाद नहाता था. इतवार के दिन चुप चाप अपने बिस्तर पर पड़ा देखा करता था की कब दीदी बाथरूम मे घुसे और दीदी के बाथरूम मे घुसते ही मै उठ जाया करता था और जब दीदी बाथरूम से निकलती तो मै बाथरूम मे घुस जाया करता था.

और अपना कारनामा अंजाम दिया करता था .

एक दिन को तो मैं भूल ही नहीं सकता, मैं भावना दीदी और पूजा (छोटी बहन) घूमने गए वहाँ एक झरना था।

 

सबने नहाने का मन बनाया…। भावना दीदी मुझको तो बच्चा समझती थीं,

उन्होंने कहा कि हम लोग जल्दी से नहा कर वापस चलेंगे इस लिए सब लोग अपने कपडे उतार कर इस पास के पत्थर पर रख दो जिससे गीले न हो जाएँ .

 

भावना दीदी ने अपना दुपट्टे को उतार कर पत्थर पर रख दिया ,नजारा देखने वाला था उनके सीने के दोनों गोलार्ध अपनी छठा बिखेर रहे थे .उन्होंने मुझे अपनी और देखते हुए देख कर कहा, ” अब क्या देख रहे हो जल्दी से अपने कपडे उतार कर पत्थर पर रखो “.और उन्होंने अपना कुरता उतार दिया उनका सांचे में ढला बदन सूरज की रोशनी से और निखर उठा और उनकी गोलाइयों के उत्तुंग शिखर पर्वतो के शिखरों से मुकाबला करने को लालायित दिख रहे थे ब्रा में उनके पयोधर कैसे समां रहे थे मुझे आश्चर्य हो रहा था

अभी तक तो इनके दर्शन अँधेरे बाथरूम में ही ,वो भी छेद से ही हुए थे .

इसके बाद उन्होंने अपने सलवार का नाड़ा खिंच दिया ,और वह एकाएक नीचे गिर पड़ा

उसके नीचे गिरते ही उनकी पुष्ट जांघो व् गठीली पिंडलियों का दृश्य ,बस जान लेने वाला था

पर साथ ही वहां पड़े हुए पानी से भीग गया और दीदी ने कहा ,” अरे यह तो भीग गया , अब मैं क्या करुँगी ?”

मैंने भी कहा , हाँ अब तो यह भीग गया ,अब तो इसे सुखाना पड़ेगा .

meri bhawna didi sex kahani

दीदी के मस्त चूचे

उन्होंने कहा, ” जल्दी से इसे पास वाले पत्थर पर रख दो ,जिससे जल्दी सूख जाये .”

 

मैं उसे उठाने के लिए जल्दी से झुका और उनकी जांघो को नजदीक से देखने का लोभ संवरण न कर पाया और जल्दी से जांघों के संधि प्रदेश पर नजर डाल कर सलवार उठा लिया .

loading...

Related Post & Pages

Indian Xxx - Horny young Mallu couple enjoying in Swapnam new - XXX Po... admin 3 mins ago 41 Views0 Comments0 Likes Mallu gang bang attempt - 2 min admin 4 mins ago 45 Views...
Mofos Young couple has some fun with camara Mofos   Young couple has some fun with camara
Indian Xxx - Indian cpl kissing Boob Sucking blowjob and Fucking LIve ... Indian Xxx - Indian cpl kissing Boob Sucking blowjob and Fucking LIve Show Desihdx - XXX Porn In...
Bright attractive redhead Amber Ivy is ready for interracial oral sex Fantastic looking redhead knows how to have great time. This amazing ginger beauty with some tattoos...

loading...

Bollywood Actress XXX Nude