loading...
Get Indian Girls For Sex
   

bada lund

indian aunty sex stories हैल्लो दोस्तों मेरा नाम जीत है और में अभी 26 साल का हूँ और प्राइवेट सेक्टर में नौकरी करता हूँ। दोस्तों में आज आप सभी को अपनी एक सच्ची चुदाई की घटना के बारे में बताने आया हूँ, जिसमें मैंने अपने पड़ोस में रहने वाले एक मस्त माल को अपने जाल में फंसाकर उसकी चुदाई करके उसकी चूत को हमेशा के लिए अपना बना लिया, वैसे तो में भी कामुकता डॉट कॉम पर बहुत लंबे समय से सेक्सी कहानियाँ पढ़ता आ रहा हूँ, लेकिन मुझे उम्मीद है कि मेरी यह कहानी सभी पढ़ने वालो को जरुर पसंद आएगी और अब आप सुनकर मज़े लेना शुरू करे। दोस्तों मेरी कॉलोनी में एक आंटी रहती है। उनका नाम विनीता है और उनकी उम्र 35 साल है वो दिखने में बहुत ही सुंदर मस्त सेक्सी औरत है। उसका वाह क्या मस्त फिगर है वो ऊपर से लेकर नीचे तक बहुत मस्त माल है। उसको देखकर बस मेरा मन करता है कि में उसको लगातार देखते ही रहूँ और उसका क्या गजब का बदन है जब भी देखता हूँ मेरा लंड तनकर खड़ा हो जाता है। मेरा मन बस करता है कि में बस उस साली को चोद दूं और में बस दिन रात यही सपना देखता रहता और जैसी वो दिखने में है ठीक वैसा ही उनका व्यहवार बोलने बात करने किसी बात को समझाने का तरीका भी है, वो अपनी मीठी सुरीली आवाज से बहुत प्यार से हंसकर सभी बातों का जवाब दिया करती है और वो बड़ी ही हंसमुख स्वभाव की औरत है, इसलिए हर कोई उनकी तरफ आकर्षित होकर उनको अपना सपना बनाने की गलती कर बैठता है और ठीक मैंने भी ऐसा ही किया, जब से मैंने उनको पहली बार देखा था। में उसी दिन से उनको पाना चाहता था, क्योंकि में मन ही मन उनको प्यार करने लगा था और वो मेरे सपनों की रानी बन चुकी थी।
दोस्तों में कभी कभी जब मुझे मेरी मम्मी किसी काम से उनके पास भेजती थी, तो में उनके घर भी चला जाता था और उसके अलावा तो में उनको ऐसे ही कभी घर से बाहर तो कभी उनकी छत पर कपड़े सुखाते हुए या कभी बाहर बाजार जाते हुए देखा करता था और दोस्तों वैसे तो मेरी वो विनीता आंटी मुझसे हर कभी आते जाते मिल ही जाती थी, क्योंकि वो एक सरकारी स्कूल में टीचर है और उनका स्कूल और मेरा ऑफिस एक ही रोड पर है, इसलिए अक्सर करके हम दोनों की हर कभी मुलाकात भी हो जाती थी और सबसे चकित करने वाली बात तो यह थी कि मुझे अपनी उस आंटी की चुदाई करने के बाद पता चला कि मैंने उसके ऊपर डोरे नहीं डाले थे, बल्कि मेरी उस आंटी ने मुझे अपने जाल में फंसा लिया था और वो भी मुझसे अपनी चुदाई के सपने देख रही थी। दोस्तों यह तब की बात है जब कुछ दिनों के लिए मैंने मेरी गाड़ी को सर्विस के लिए भेज दिया था और एक दिन सुबह के समय उसी वजह से में अपने घर से कुछ दूरी पर खड़ा होकर किसी रिक्शे के रुकने का इंतजार कर रहा था और तभी विनीता अपनी गाड़ी से वहाँ से गुजर रही थी और उसने मुझे देखकर तुरंत मेरे पास लाकर अपनी गाड़ी को रोककर मुझे बैठने के लिए कहा। उस समय उसके मुझे देखने का वो अंदाज़ बिल्कुल अजीब ही था, लेकिन मुझे कुछ भी समझ में नहीं आया और में उसके कहने पर बैठ गया। फिर कुछ देर चलने के बाद उसने मुझे अपने ऑफिस के पास ले जाकर छोड़ दिया और फिर जाते समय उसके पूछने पर मैंने अपनी गाड़ी वाली बात को उससे कह दिया और फिर उसके कहने पर में कुछ दिनों तक विनीता से वैसे ही लिफ्ट लेकर अपने ऑफिस तक जाने लगा। अब मेरी विनीता से बहुत बातें होने लगी थी जिसकी वजह से हम दोनों के बीच की वो दूरी कुछ हद तक कम हो चुकी थी और उस बात का फायदा उठाकर में कभी कभी जानबूझ कर सड़क पर गड्डे के आ जाने पर बहाने से उसकी कमर को पीछे से पकड़ लिया करता था और में कभी कभी उसके कंधे पर हाथ भी रख देता था, लेकिन उसने मेरा कभी भी कोई विरोध नहीं किया, क्योंकि शायद अब उसको भी मेरा यह सब करना अच्छा लगने लगा था और मैंने ध्यान देकर देखा कि वो अब बहुत सेक्सी कपड़े पहना करती थी। वो जब कभी साड़ी पहनती तो उसका वो ब्लाउज उसके बदन से बहुत कसा हुआ होता था, जिसकी वजह से उसके 40 इंच के बूब्स तने हुए ही रहते थे और उसकी वो साड़ी को कमर पर बहुत कसी हुई रहती थी। उसके बूब्स आकार में बहुत बड़े बड़े थे, जिसको देखकर ही मेरा लंड बुरी तरह से कड़क हो जाता था और जब कभी वो सलवार, कमीज पहनती और वो भी बहुत कसी हुई और उस पर बड़े गले वाली कमीज को वो हमेशा पहना करती, जिसकी वजह से उसके बूब्स बहुत ही उभरे हुए सेक्सी लगते थे और उसकी गांड भी एकदम कसी हुई रहती थी। उसकी गांड का आकार भी 44 इंच था और उसकी कमर का आकार 34 इंच था। दोस्तों वो पूरा का पूरा बड़ा ही जबरदस्त माल थी, इसलिए आसपास के बहुत सारे लोग उसके चक्कर में थे। हर कोई उसको पहली बार देखकर ही उसकी तरफ आकर्षित हो जाता और हर कोई उसकी चुदाई करने के सपने देखा करता था। ठीक वैसा ही मेरा भी हाल था और में भी मन ही मन अब उसकी चुदाई के सपने देखने लगा था। एक दिन में ऐसे ही उससे मिलने उसके घर चला गया और उस समय वो मेरे सामने वाले सोफे पर बैठी हुई थी और उस दिन उसने गुलाबी रंग की साड़ी पहनी हुई थी और बहुत ही कसा हुआ ब्लाउज पहना था, जिसको देखकर लगता था कि वो उसके बूब्स के आकार से बहुत छोटा था, लेकिन तब भी उसने वो ब्लाउज पहन रखा था। सच में वो बड़ी ही मस्त लग रही थी, में बातें करते समय उससे अपनी नजर को बचाकर थोड़ी देर में उसके बूब्स को देख लेता और कभी कभी उससे मेरी नज़र भी मिल जाती। उस समय वो मेरे सामने बैठकर कोई किताब पढ़ रही थी। बाद में मुझे पता चला कि वो एक बड़ी मज़ेदार कहानी को पढ़कर हंस रही थी।
फिर कुछ देर बाद अचानक से वो किताब उसके हाथ से छूटकर नीचे गिर गई और तब वो उस किताब को उठाने के लिए नीचे झुकी। फिर मैंने देखा कि वो क्या गजब का द्रश्य था। उसके एकदम कसे हुए दो बहुत ही मोटे उभरते हुए बूब्स ठीक मेरे सामने थे और उसने उस समय वो ब्लाउज बहुत ही गहरे गले का पहना हुआ था, इसलिए नीचे झुकते ही मुझे उसके बूब्स बड़ी गहराई तक नजर आ गए और में पहली बार ऐसा मनमोहक द्रश्य देख रहा था, इसलिए मेरी आखें फटी की फटी रह गई। अब वो उस किताब को वापस अपने हाथ में लेकर पढ़ने लगी थी, लेकिन उसने अब अपनी साड़ी का पल्लू ऊपर नहीं किया था, जिसकी वजह से अब मुझे उसके कसे हुए मोटे गोरे बूब्स उभरकर ब्लाउज से मुझे साफ नजर आ रहे थे, जिसको में अपनी चकित नजरों से पागलों की तरह देखता ही रहा। मेरी आखें हटने का नाम ही नहीं ले रही थी। फिर वो ऐसे ही बहुत देर तक उस किताब पढ़ती रही, जिसकी वजह से मेरे लंड का बड़ा बुरा हाल होता जा रहा था। फिर वो कुछ देर के बाद उठकर रसोई में चली गयी और उसने मुझे पानी लाकर दिया। मैंने पानी पिया और उसके बाद हम दोनों ने कुछ देर बातें करना शुरू किया। तब उसने मुझसे चाय के बारे में पूछा, लेकिन मैंने उसको मना कर दिया और फिर में वापस अपने घर चला आया। उसके बाद में पूरा दिन और रात बस उसी के बारे में सोचता हुआ उसकी चुदाई के सपने देखता रहा। में उसको देख देखकर पागल हो चुका था और मेरे होश बिल्कुल भी ठिकाने पर नहीं थे। फिर दो चार दिन के बाद जब में उसके घर गया तो मैंने देखा कि उस दिन वो अपने घर में बिल्कुल अकेली थी। मैंने सोफे पर बैठकर उससे उसके घरवालों के बारे में पूछा तब उसने कहा कि आज में अकेली हूँ घर में कोई भी नहीं है और फिर मैंने तुरंत खड़ा होकर उससे कहा कि ठीक है तो में अब चलता हूँ। फिर वो मुझसे कहने लगी कि बैठो ना, तुम अचानक से खड़े क्यों हो गए, अभी चले जाना, तुम्हे इतनी भी क्या जल्दी है जाने की, तुम मेरे पास थोड़ी देर तो रूको, में क्या तुम्हे खा जाउंगी जो तुम मुझे अकेला देखकर उल्टे पैर वापस भागने लगे? दोस्तों में उसके इतना सब कहने के बाद वहीं रुक गया और अब मैंने उसको गौर से देखा, उसने आज मेक्सी पहनी हुई थी, जिसमें वो बहुत ही सेक्सी नजर आ रही थी बड़े गले की और जालीदार मेक्सी होने की वजह से मुझे उसके अंदर का सब कुछ साफ नजर आ रहा था मैंने देखा कि उसने अपनी मेक्सी के अंदर काले रंग की ब्रा और पेंटी पहनी हुई थी और वो पेंटी तो उसके कूल्हों में एकदम फंसी हुई थी। यह सब देखकर मेरा लंड पूरी तरह से तन गया था, जो मेरी पेंट के ऊपर से साफ नजर आ रहा था और वो भी मेरे लंड को ही बड़े ध्यान से देख रही थी। अब उसने मुझसे पूछा क्या तुम कुछ लेना चाहोगे? तो मैंने उससे कहा कि हाँ कुछ ठंडा हो तो चेलगा, तभी वो उठकर गई और मेरे लिए कोल्डड्रिंक लाने के लिए चली गई। उस समय में उसके मटकते हुए कूल्हों को ही बड़ा चकित होकर घूरकर देखा रहा था। उसके कूल्हे इधर उधर मटक रहे थे, वो गजब के आकर्षक लग रहे थे। फिर वो मेरे लिए ठंडा लेकर आई और उसने मुझे वो लाकर दे दिया। मुझे देने के लिए जैसे ही वो झुकी तो मुझे उसके दोनों बूब्स के बीच की दरार साफ साफ दिखाई देने लगी और में अपनी आखें फाड़ फाड़कर बस उसके बूब्स को ही देखने लगा और में उसके हाथ से ठंडा लेना ही भूल गया। अब वो भी मुझसे कुछ नहीं बोली, क्योंकि उसको पता चुका था कि में उसके बूब्स को देख रहा हूँ। उसने बड़े आराम से मुझे अपने बूब्स का वो मनमोहक द्रश्य कुछ देर देखने दिया, लेकिन तभी मुझे होश आया कि मुझे उसके हाथ से ठंडा लेना है तभी मैंने जल्दी से वो ले लिया। अब वो मेरी तरफ देखकर मुस्कुराते हुए मुझसे कहने लगी कि तुम्हे इतनी भी क्या जल्दी है आराम से देख लो उसके बाद ले लेना? दोस्तों में उसके मुहं से यह बात सुनकर बिल्कुल हैरान बहुत चकित हो गया और अब मेरी समझ में आ गया था कि वो भी अब मेरे साथ कुछ करने के लिए तैयार है, इसलिए मैंने हिम्मत करके उससे कहा कि नहीं अब में पहले ठंडा पी लूँ। उसके बाद फिर में इन्हे बड़े आराम से देखूँगा। वैसे यह पर्दे के पीछे छुपे हुए देखने में इतना मज़ा नहीं आता।

फिर वो मुस्कुराते हुए मुझसे कहने लगी कि इसमे कौन सी बड़ी बात है? तुम अगर चाहो तो में तुम्हे अपने बूब्स वैसे भी दिखा सकती हूँ जैसे तुम चाहते हो, लो देखो और फिर वो मुझसे यह शब्द कहकर अपनी मेक्सी को उतारने लगी। दोस्तों में अब पूरी तरह से समझ चुका था कि जो आग मेरे बदन में लगी है वो अब इसको परेशान करने लगी है और अब मेरे आगे बढ़ने की देर है। आज यह जरुर मुझसे अपनी चुदाई का खेल खेलना चाहती है। फिर में क्यों भला पीछे रहूँ और यह बातें अपने मन में सोचकर मैंने उससे कहा अभी नहीं मेरी जान, में तुझको अपने हाथों से नंगा करूँगा और तुम्हे भी बड़ा मज़ा आएगा। फिर वो बोली कि हाँ यह भी ठीक है, तुम मुझको नंगा करते समय अच्छे से मेरी इस जवानी के मज़े लेना, इतना कहकर वो मेरे पास आकर बैठ गयी और में उसके गोरे कामुक बदन को अपने हाथों से छूकर महसूस करने लगा। दोस्तों आज मेरे मन की मुराद पूरी हो रही थी, इसलिए में भगवान को मन ही मन धन्यवाद देता हुआ अपने काम को करने लगा।

loading...

मैंने देखा कि उसका वो गोरा बदन वाकई में बहुत गजब का था, रुई की तरह एकदम मुलायम चिकना मुझे उसको सहलाने में बहुत मज़ा और उसको जोश आ रहा था। अब मैंने उसकी मेक्सी को ऊपर सरकाना शुरू किया और धीरे धीरे मैंने उसकी मेक्सी को उतारकर उसके बदन से अलग कर दिया, जिसकी वजह से अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में रह गयी और दिखने पर वो वाह क्या गजब का माल लग रही थी। अब मैंने आगे बढ़कर उसके नरम गुलाबी रसभरे होंठो को चूमने शुरू किए और साथ ही में उसके बूब्स को दबाने भी लगा था, जिसकी वजह से अब वो धीरे धीरे गरम हो रही थी, जिसकी वजह से अब उसने मेरी शर्ट और पेंट को उतार दिया, जिसकी वजह से अब में भी उसके सामने सिर्फ़ अंडरवियर में था और वो मेरे अंडरवियर के पीछे छुपे खड़े हुए लंड को बड़े प्यार से देखने लगी, जो अब अंडरवियर से बाहर आने के लिए तरस रहा था। वैसे दोस्तों मेरा लंड बहुत ज़्यादा मोटा और लंबा नहीं है, मेरा लंड सिर्फ़ 6 इंच लंबा है, लेकिन एक बात और थी वो उस दिन मुझे पहली बार विनीता की चुदाई करने के बाद पता चली कि में बहुत देर तक बिना झड़े चुदाई कर सकता हूँ। अब उसने धीरे से मेरा लंड अंडरवियर के बाहर निकाल लिया और वो उसको अपने मुहं में लेकर चूसने लगी, जिसकी वजह से मुझे भी बड़ा मस्त मज़ा आने लगा और उसी समय मैंने भी धीरे से उसकी पेंटी को उतार दिया और फिर ब्रा को भी उतार दिया, जिसकी वजह से अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी। वो बहुत ही गजब की एकदम काम की देवी लग रही थी।
फिर कुछ देर बाद मैंने भी उसकी चूत को चटाना शुरू किया, जिसकी वजह से वो अब बहुत जोश में आकर उत्तेजित हो रही थी और मेरा लंड भी तनकर मुझे झटके दे रहा था। में उसी समय अब उसके ऊपर चड़ गया और मैंने अपना लंड उसकी चूत से सटा दिया और में कसकर पूरा दम लगाकर उसके बूब्स को रगड़ने दबाने लगा था, जिसकी वजह से वो अब सिसकियाँ ले रही थी और उसके मुहं से अब आईईईईई ऊह्ह्ह्हह्ह मेरे राजा अब जल्दी से तुम मुझे चोद दो, तुम इतना भी मुझे मत तरसाओ आह्ह्ह्ह प्लीज अब तुम मेरी चुदाई कर दो, मेरी यह चूत साली तुम्हारे लंड के लिए बहुत तरस रही है अब तुम इसको फाड़ दो, डाल दो पूरा लंड इसके अंदर और मुझे वो मज़े दो, जिसके लिए में अब पागल हुई जा रही हूँ। दोस्तों सच कहूँ तो अब मुझसे भी नहीं रहा जा रहा था और मुझे भी उसकी चुदाई की जल्दी थी, इसलिए मैंने उसके कहते ही तुरंत अपना लंड एक जोरदार झटके से उसकी कसी हुई चूत में अंदर डाल दिया और वो दर्द की वजह से धीरे से सिसकी लेती हुई आईईईई माँ रे मार डाला, में मर गई ऊऊउईईईईइ यह कैसा दर्द है? कहती हुई छटपटाने लगी।
अब तक मेरा तीन इंच लंड उसकी चूत के अंदर जा चुका था और कुछ देर वैसे ही रुके रहने के बाद मैंने अपना लंड वापस बाहर निकालकर दोबारा एक ज़ोर का धक्का मार दिया, जिसकी वजह से मेरा पूरा लंड अब अंदर जा चुका था। तो वो दर्द की वजह से आईईई आह्ह्ह रे मार डाला रे फाड़ दिया ऊईईईईई तूने मेरी चूत को इतना कहकर वो अपनी गर्दन को इधर उधर घुमाने लगी थी। अब में कस कसकर धक्के लगाने लगा, जिसकी वजह से कुछ देर बाद वो भी मस्त हो गयी और वो पता नहीं क्या क्या बड़बड़ा रही थी ऊईईईईई आईई रे मार डाला जालिम, बहुत मज़ा आ रहा है मेरे राजा और कसकर डालो, हाँ ऐसे ही जाने दो आह्ह्ह अब मुझे मज़ा आ रहा है और तेज धक्के देकर तुम फाड़ दो ऊउफ़्फ़्फ़्फ़ मेरी चूत को साले आज में देखती हूँ कि तूने कितना दूध पिया है, अपनी माँ के बूब्स से आज तू मेरे भी बूब्स से पीकर मुझे दिखा में भी देखती हूँ कि तेरे लंड में कितनी ताकत है, दे मुझे ज़ोर से धक्के मेरी चूत की प्यास को तू आज बुझा दे।
दोस्तों में भी उसकी वो बातें सुनकर जोश में आ गया इसलिए में अब और भी जोश में आकर उसको धक्के देकर चोदने लगा और में उससे बोला चल अब चुप कर साली कुतिया साली छिनाल आज में तेरी चूत को पूरी तरह से फाड़ ही डालूँगा समझी रंडी साली, मेरी यह बातें सुनकर वो और भी मस्त हो गयी मुझसे कहने लगी ऊऊईईईईईई हाँ और ज़ोर से चोदो मेरे राजा आअहह मज़ा आ गया और जमकर चोदो फाड़ डालो आज तुम मेरी चूत को आह्ह। दोस्तों अब मुझे उसकी चुदाई करते हुए करीब 30 मिनट हो चुके थे, इस बीच वो अब तक दो बार झड़ चुकी थी, लेकिन मेरा लंड अब भी वैसे ही अपने काम में लगा हुआ था। तभी मेरा ध्यान उसकी गांड की तरफ चला गया और तब मैंने छूकर महसूस किया कि उसका छेद बड़ा ही कसा हुआ लगा, जिसको देखकर में उसकी गांड मारने के बारे में बस सोच ही रहा था कि उतने में वो मुझसे बोल पड़ी। उसने मेरे मन की बात को शायद बिना कहे ही सुनकर मेरी इच्छा को समझ लिया था। अब उसने उसी समय मुझसे पूछा क्यों तेरा क्या इरादा है क्या तू आज मेरी गांड भी मारेगा? तब मैंने उससे कहा कि हाँ आज में बिना चोदे तो तुझे नहीं छोड़ने वाला, चाहे वो तेरा कोई भी छेद ही क्यों ना हो? फिर मैंने उससे यह बात कहकर तुरंत ही अपने लंड को उसकी चूत से बाहर निकाल लिया और अब उसको मैंने अपने सामने कुतिया की तरह उसके हाथों पैरों पर खड़ा कर दिया, जिसकी वजह से अब उसकी गांड का गुलाबी छेद मुझे साफ नजर आ रहा था। मेरा लंड उसकी चूत के रस से पहले से ही गीला एकदम चिकना था। अब मैंने उसकी गांड से अपना लंड सटा दिया और हल्के से धक्का लगाया तो मेरा लंड दो इंच उसकी गांड में घुस गया, लेकिन वो दर्द की वजह से चिल्लाने लगी आह्ह्ह्हह्ह में मर गई ऊफ्फ्फ्फ़ मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा है, लेकिन मैंने उसकी एक भी बात नहीं सुनी और मैंने दोबारा धक्का लगा दिया। लंड पूरा अंदर जाने के बाद में बार बार वैसे ही धक्के लगाने लगा। फिर करीब दस मिनट के बाद वो थोड़ा सा शांत हो गयी, क्योंकि अब उसको भी दर्द कम होने के बाद मज़ा आ रहा था और वो सिसकने लगी और मुझसे कहने लगी कि आईईइ वाह मुझे तो आज पहली बार पता चला कि इसमे तो चूत से भी ज़्यादा मज़ा आता है हाँ और ज़ोर से चोदो मेरे राजा ऊऊईईई रे वाह मुझे बहुत मज़ा आ रहा है चोदो हाँ आईईईईई और ज़ोर से मुझे बहुत मस्त मज़ा आ रहा है।
अब में उसको लगातार तेज धक्के देकर चोदता ही जा रहा था। फिर करीब बीस मिनट तक मैंने अपने लंड को उसकी गांड के अंदर बाहर किया तो उसको जमकर चुदाई के मस्त मज़े दिए, लेकिन अब मेरा लंड झड़ने वाला था, इसलिए मैंने अचानक पहले से भी ज्यादा अपनी स्पीड को बढ़ा दिया और उससे कहने लगा कि वाह साली कुतिया क्या मस्त गांड है तेरी, अब तो तू मेरी हो चुकी है, अब में हर दिन तेरी ऐसे ही जमकर चुदाई किया करूँगा, साली रंडी तू बहुत मस्त औरत है, वाह मज़ा आ गया तेरी चुदाई करके, में बहुत दिनों से तेरी चुदाई के सपने देख रहा था और आज वो पूरा हो चुका है आह्ह्ह मेरा वीर्य अब निकलने वाला है, में अब झड़ने वाला हूँ और फिर मैंने धक्के देते हुए उससे यह बात कहते हुए अपना पूरा वीर्य उसकी गांड में निकाल दिया जो लंड के अंदर बाहर होने की वजह से अब उसकी गांड के छेद से बाहर निकलकर उसकी जांघो पर भी बह निकला और मेरा लंड एकदम चिकना होकर अब बड़े आराम से उसकी गांड में अपनी जगह बनाकर अंदर बाहर हो रहा था और फिर अचानक से धक्के देना बंद करके में उसके ऊपर लेट गया। हम दोनों बहुत देर तक वैसे ही एक दूसरे से चिपककर लेटे रहे। फिर कुछ देर बाद जब मेरा लंड और जोश शांत हुआ तो में उसके ऊपर से उठा और लंड को बाहर करके मैंने अपने कपड़े पहन लिए, तभी वो मुझसे बोली कि राजा अब तो तुम्हे मेरी हर दिन ऐसी ही चुदाई करनी पड़ेगी। तुम्हारे साथ मुझे बड़ा मस्त मज़ा आया और तुम्हारा लंड बहुत दमदार है। इसने मुझे चुदाई का असली मज़ा देकर मेरी चूत को पूरी तरह से संतुष्ट करके मेरा मन खुश कर दिया है। अब मैंने उससे कहा कि हाँ ठीक है में हर दिन तुम्हारी मस्त चुदाई करूँगा मेरी रानी, जिसको तुम भी क्या याद रखोगी कि किसी असली मर्द से तुम्हारा पाला पड़ा है। वैसे में तुम्हारे इस जोश भरे बदन की जितनी तारीफ करो उतनी ही कम है तुम्हारी यह चूत किसी कुंवारी चूत से कम मज़ेदार नहीं है अगर किसी भी खेल को खेलते समय दोनों ही एक बराबर हो तो वो खेल बड़ा मस्त मज़ेदार होता है इस चुदाई का यह मज़ा तुम्हारी चूत की वजह से भी हमें मिला है, क्योंकि तुमने भी पूरे जोश में आकर मेरा पूरा पूरा साथ दिया है और में तुम्हारा यह ऐसा जोश देखकर बड़ा चकित हूँ और वैसे भी अनुभवी के साथ यह खेल खेलने का मज़ा ही कुछ और आता है। वही मज़ा आज तुमने भी मुझे दिया है और में तुम्हारे इस बदन का भक्त बन चुका हूँ। अब तुम जैसा कहोगी में ठीक वैसा ही तुम्हारे साथ करूंगा। दोस्तों उससे यह बातें कहकर में बाथरूम में जाकर अपने लंड को साफ करके में कपड़े पहनकर वापस अपने घर चला आया और में उस दिन बड़ा खुश था ।।
धन्यवाद

indian aunty हैल्लो दोस्तों, आज में आपको जो स्टोरी सुनाने जा रहा हूँ, वो आज से करीब 6 महीने पहले की है। में बिहार से हूँ और मेरी उम्र 26 साल है। मेरी छाती 38 इंच, कमर 30 है, मेरा लंड 8 इंच लम्बा है। आज में आपको जो कहानी सुनाने जा रहा हूँ, वो एक अंकल आंटी और मेरी है। ये मेरी सच्ची कहानी है, आज से करीब 6 महीने पहले में छबड़ा मेरे एक काम से गया हुआ था। में वहाँ पर मेरे एक दोस्त के फ्लेट में रुका हुआ था। छबड़ा में बहुत गर्मी पड़ती है तो रात को खाना खाने के बाद मैंने अपने दोस्त की बीवी से कहा कि मेरा बिस्तर छत पर लगाना, मुझे यहाँ पर बहुत गर्मी लग रही है। तो भाभी ने मेरा बिस्तर छत पर लगा दिया। अब छत पर एक अंकल शायद 45 साल और आंटी शायद 40 साल की सोए हुए थे, उनका बिस्तर मेरे पास ही था। अब अंकल बीच में सोए हुए थे और उनके एक तरफ आंटी और दूसरी तरफ में था।
फिर रात के करीब 1 बजे मेरी नींद उड़ी, तो अंकल मेरे पैरो पर अपना पैर रगड़ रहे थे। मैंने नीचे बरमूडा पहने हुआ था और ऊपर कुछ नहीं पहने था और अंकल ने लुंगी पहनी हुई थी। अब अंकल अपना पैर मेरे पैर पर घुटनों के नीचे रगड़ रहे थे। उनको शायद ऐसा लगा था कि में सो रहा हूँ, लेकिन मेरी नींद उड़ चुकी थी। अब अंकल धीरे-धीरे अपना पैर ऊपर की तरफ ले जा रहे थे। अब वो मेरी जाँघो तक पहुँच गये थे। अब मेरा तो लंड एकदम टाईट हो गया था। फिर उन्होंने अपने हाथों से मेरी जाँघ पर अपना हाथ फैरना शुरू किया। अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। अब वो अपने एक हाथ से अपने लंड को पकड़कर मुठ मार रहे थे और दूसरे हाथ से मेरी जाँघो को सहला रहे थे।
फिर उन्होंने मेरी छाती पर अपना एक हाथ रखा और मेरे बूब्स पर अपना अपना हाथ फैरने लगे थे। फिर वो मेरी निप्पल पर अपनी उंगलियाँ फैरने लगे और थोड़ी देर के बाद उन्होंने मेरे बरमूडे के नीचे से अपना एक हाथ डाला और मेरे चड्डी के ऊपर से अपना हाथ फैरने लगे थे। फिर अंकल ने मेरे चड्डी के नीचे से मेरा 8 इंच का लंड बाहर निकाला और उसको सहलाने लगे और अपने दूसरे हाथ में अपना लंड पकड़कर मुठ मारने लगे थे। फिर थोड़ी देर के बाद वो नीचे आ गये और मेरा लंड अपने मुँह में डालकर चूसने लगे थे। अब उन्होंने मेरा पूरा लंड अपने मुँह में डाल दिया था। अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था, अब में उनके मुँह में धक्के देने लगा था। अब वो दूसरी तरफ मुँह करके सो गये थे और अपनी लुंगी पूरी उठाकर उनकी गांड मेरी तरफ कर दी, लेकिन मुझे उसमें कोई रूचि नहीं थी। उनकी गांड बहुत गोरी थी और उनके बदन पर एक भी बाल नहीं था, पूरा क्लीन था।
फिर मैंने उनको मना कर दिया कि मुझे उसमें रूचि नहीं है, मुझे सिर्फ़ औरतों में रूचि है। तब वो बोले कि में तुम्हें बहुत मज़ा कराऊंगा, लेकिन में नहीं माना, तो तभी मेरे दिमाग में एक बात आई उसके पास जो आंटी सोई हुई थी, वो बहुत खूबसूरत और गोरी थी, उसके बूब्स बहुत बड़े-बड़े और गोल- गोल थे। फिर मैंने कहा कि अगर आंटी मुझे चुदाई करने दे तो में करूँगा। तो वो बोले कि ठीक है, लेकिन पहले तुम्हें मेरी गांड मारनी होगी। फिर मैंने कहा कि मुझे शर्त मंजूर है। फिर दूसरे दिन दोपहर को में खाना खाने के बाद उसके घर गया। अब मुझे तो आंटी के साथ चुदाई के ही विचार आ रहे थे। फिर मैंने डोरबेल बजाई, तो आंटी ने दरवाजा खोला और मेरे सामने मुस्कुराई तो में समझ गया कि अंकल ने सब बता दिया होगा। उस घर में आंटी और अंकल ही रहेते थे, उनके दोनों बेटे अमेरिका में थे। अब आंटी ने दो गद्दे नीचे लगाए थे।

फिर थोड़ी देर के बाद अंकल स्नान करके बाहर आए, उन्होंने सिर्फ टावल लपेटा हुआ था, उनके बदन पर एक भी बाल नहीं था और उनके बूब्स बिल्कुल लड़कियों जैसे थे। फिर में नीचे गद्दे पर लेट गया और फिर आंटी मेरे पास में सो गयी और धीरे-धीरे बिल्कुल मेरे पास आ गयी थी। फिर उन्होंने कहा कि तुम बहुत ही हैंडसम हो और तुम्हारी बॉडी बहुत अच्छी है। फिर आंटी ने कहा कि तुम्हारे अंकल को तो मुझमें रूचि ही नहीं है, उनको तो लड़के ही पसंद है, वो कई महीने से मेरे साथ सोए नहीं है, मुझे तो चुदाई करने की बहुत इच्छा होती है, लेकिन क्या करूँ? आज तो तुम मेरे साथ जी भरकर चुदाई करना मेरे राजा और मुझे ज़ोर से किस कर दिया। अब में भी उनके बूब्स दबाने लगा था। तभी इतने में अंकल भी आ गये और फिर उन्होंने अपना टावल निकाल दिया। उनका लंड बिल्कुल छोटा था, करीब 4 इंच का होगा। अब अंकल भी मुझे किस करने लगे थे। अब मेरे एक तरफ आंटी थी और दूसरी तरफ अंकल थे। अब वो दोनों मेरे बदन से खेल रहे थे।
फिर आंटी ने मेरे कपड़े निकाल दिए और फिर वो भी पूरी नंगी हो गयी, उसका बदन स्लिम नहीं था उसकी कमर मोटी थी। अब वो दोनों मेरे लंड को बाहर निकालकर चूसने लगे थे। फिर आंटी ने कहा कि तुम्हारा लंड तो काफ़ी बड़ा है। फिर अंकल ने मेरे लंड पर तेल लगाया और मुठ मारने लगे थे। अब उन्होंने मेरा लंड पूरा चिकना कर दिया था। फिर उन्होंने अपनी गांड पर तेल लगाया और कुत्ते की तरह घुटनों पर हो गये और मुझसे कहा कि पूरा लंड डाल दे। फिर मैंने अपना लंड उनकी गांड पर रखकर एक धक्का दिया, लेकिन मेरा लंड घुस ही नहीं रहा था। फिर मैंने उनके दोनों कूल्हों को अपने दोनों हाथों से फाड़ दिया और अपने लंड से एक धक्का दिया तो पहले तो मेरा सिर्फ़ सुपाड़ा ही अंदर गया और फिर मैंने ज़ोर से एक धक्का लगाया तो मेरा पूरा लंड अंदर चला गया था। अब में धक्के लगाने लगा था और आंटी अंकल के लंड को अपने हाथ में रखकर मुठ मारने लगी थी। फिर थोड़ी देर के बाद अंकल ने अपना सफेद पानी निकाल दिया और अंकल दूसरे कमरे में चले गये।
फिर आंटी तो मुझ पर टूट पड़ी, वो कई महिनों से प्यासी जो थी। फिर उसने मेरे पूरे बदन पर किस किया और मेरे लंड को तो पूरा अपने मुँह में डाल दिया और लॉलीपोप की तरह मेरे लंड का सुपाड़ा चूसने लगी थी। अब में तो पूरा मदहोश हो गया था। फिर उसने अपने बूब्स मेरे पूरे बदन पर रगड़े। फिर उसने कहा कि तुम्हारे बदन पर तो कितने बाल है? तुम तो पूरे मर्द हो। तब मैंने कहा कि अभी तो मर्दानगी दिखानी बाकि है। फिर उसने अपना एक बूब्स मेरे मुँह में रख दिया, तो में उसके बूब्स की बड़ी- बड़ी निप्पल को चूसने लगा और उसके बूब्स को अपने दांत मारने लगा था। उसके बूब्स बिल्कुल ढीले और लचीले थे। फिर में उसके दोनों बूब्स को अपने दोनों हाथों में रखकर ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा, उसके बूब्स मेरे हाथो में भी नहीं समा रहे थे। फिर वो उल्टी सो गयी और मुझे गांड मारने को कहा। फिर मैंने उसकी भी गांड मारी। फिर करीब 15 मिनट तक उसकी गांड मारी, उसकी गांड बहुत बड़ी थी। अब उसको दर्द भी नहीं हो रहा था।
फिर वो मेरे ऊपर चढ़ गयी और मेरे लंड को उसकी अपनी चूत पर रगड़ने लगी थी। उसकी चूत गीली और चिकनी हो चुकी थी। फिर मैंने उसको चाटना शुरू किया और उसकी पूरी चूत अपने मुँह में डाल दी। उसके मुँह से आवाज निकल गयी उईईईईईई माँ कितना मज़ा आ रहा है? और चाटो मेरी पूरी चूत, फाड़ दो। फिर मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा था। फिर में खड़ा हो गया और आंटी को टेबल पर सुलाया और फिर मैंने खड़े-खड़े उनकी चूत में अपना लंड डाल दिया। मेरा पूरा लंड फट से अंदर घुस गया और उनकी चूत बहुत बड़ी थी। फिर में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा और अपने दोनों हाथों से उनके बूब्स दबा रहा था। फिर करीब आधे घंटे के बाद हम दोनों एक झड़ गये। फिर हम लोगों ने एक बार और मजे लिए और फिर में वहां से निकल आया ।।
धन्यवाद

loading...

indian aunty मेरा नाम मलिक है और में आज पहली बार अपना अनुभव लिख रहा हूँ और अपनी एक सच्ची कहानी पेश कर रहा हूँ। मुझे उम्मीद है कि मेरी यह कहानी आप लोगों को बहुत पसंद आएगी। एक बार मेरे बगल वाले घर में एक फेमिली कुछ महीनों के लिए नये-नये रहने आई हुई थी। उस फेमिली में मिया बीवी और उनका 18 साल का लड़का था, जो कि 8वीं क्लास में पढ़ता था, उनका लड़का स्कूल के बोर्डिंग हाउस में रहकर पढ़ाई करता था और इस वक़्त वो गर्मियों की छुट्टियों में आया हुआ था। में लड़के के पापा इब्राहिम ख़ान जो कि करीब 45 साल के थे, उनकी दूसरी शादी हुई थी, उनकी पहली वाईफ मर चुकी थी, वो सरकारी मुलाज़िम थे। अब हम दोनों सरकारी मुलाज़िम होने की वजह से एक दूसरे के घर आकर गप्पे मारा करते थे या फिर टेबल टेनिस खेला करते थे। में उन्हें अंकल कहकर बुलाता था और उनकी बीवी को आंटी कहता था। अंकल आंटी को चोद नहीं पाते थे, उनकी वाईफ काफ़ी सेक्सी थी, उनके बड़े-बड़े चूतड़ और बूब्स को देखकर किसी का भी दिल उनको चोदने के लिए तड़प उठता था। वो अक्सर मुझे सेक्सी निगाहों से देखती थी, कभी-कभी तो उसके आँखे सेक्स से भरी नजर आती थी और बातें करते हुए मुझे देखकर कभी-कभी अपने होंठो को अपने दाँतों से दबाती थी, तो कभी-कभी अपने होंठो पर बार-बार अपनी जीभ फैरती थी।
फिर एक दिन बातों-बातों में उन्होंने कहा कि मलिक बेटा फहद (उनके लड़के का नाम है) के पापा को तो वक़्त नहीं मिलता है और अगर तुम्हारे पास टाईम हो तो शाम को उसे गणित पढ़ा दिया करो। तो तब मैंने कहा कि मुझे कोई प्रोब्लम नहीं है, में शाम को दफ़्तर से आने के बाद उसको पढ़ाने आपके घर आ जाऊंगा। फिर में रोज शाम को आंटी के घर फहद को पढ़ाने जाने लगा। अब मेरी आंटी से काफ़ी बात होने लगी थी। अब में जब भी उसके लड़के को पढ़ाता तो वो मेरे पास ही बैठी रहती थी। अब मैंने उसकी तरफ ज्यादा ध्यान देना शुरू कर दिया था। तो तब मैंने महसूस किया कि वो अब मेरे सामने काफ़ी सेक्सी कपड़े पहनती थी। फिर जब कभी वो लो-कट कमीज पहनती है तो उसका गला काफ़ी कसा हुआ होता था, जिसकी वजह से उसके 40 साईज के बूब्स तने हुए रहते थे और उसकी सलवार भी चूतड़ों पर भी काफ़ी कसी हुई रहती थी। उसके बूब्स बहुत बड़े-बड़े थे, जिसे देखकर ही मेरा लंड बुरी तरह से खड़ा हो जाता था और जब कभी वो सलवार पहनती थी, तो वो भी बहुत कसी हुई होती थी और कमीज लो-कट वाले गले से उसके बूब्स बहुत ही सेक्सी लगते थे और उसकी गांड भी एकदम कसी हुई रहती थी, उसकी गांड का साईज भी 44 था और कमर 34 थी।
फिर पूरी की पूरी जबरदस्त माल लगती थी। अब मेरा मन करता था कि जाकर दबोच लूँ और अपना लंड उसकी गांड और चूत में पेल दूँ, लेकिन डर के मारे मेरी हिम्मत नहीं बढ़ रही थी। फिर एक दिन जब में उसके लड़के को पढ़ा रहा था, तो वो मेरे सामने वाले सोफे पर बैठी थी। उस दिन उसने गुलाबी रंग की सलवार कमीज पहनी हुई थी और बहुत ही कसी हुई लो-कट गले वाली कमीज पहनी हुई थी, ऐसा लगता था कि वो उसके बूब्स के साईज से काफ़ी छोटी कमीज थी। अब में थोड़ी-थोड़ी देर में आंटी पर नजर डाल रहा था, तो कभी-कभी उससे नजर भी मिल जाती थी तो वो सिर्फ़ मुस्कुरा देती थी। उस दिन वो कोई किताब पढ़ रही थी। फिर जैसे ही फोन की घंटी बजी तो उसके हाथ से किताब गिर गई, तो वो उसको उठाने की लिए झुकी, उउउफफ्फ क्या गजब का नज़ारा था? एकदम कसे हुए दो बहुत ही मोटे- मोटे बूब्स मेरे सामने थे। उसने कमीज बहुत ही लो-कट की पहनी थी तो उसके बूब्स का काफ़ी वजन दिखाई दे रहा था।
फिर जब मेरी और उसकी नजर आपस में मिली तो वो समझ गयी थी कि में बड़े गौर से उसके बूब्स को देख रहा हूँ। तब वो मुस्कुराकर फिर से किताब लेकर पढ़ने लगी, लेकिन उसने अपना दुप्पटा ऊपर नहीं किया था। अब उसके कसे हुए मोटे बूब्स उसकी कमीज से साफ-साफ दिख रहे थे। फिर वो ऐसे ही काफ़ी देर तक पढ़ती रही और मेरे लंड का बुरा हाल बना रही थी। फिर वो बाद में उठकर चली गयी। फिर अगले हफ्ते जब में उसके घर गया तो पता चला कि उसका लड़का अपने फ्रेंड के बर्थ-डे में गया हुआ था इसलिए मैंने आंटी से कहा कि ठीक है तो में चलता हूँ। तब वो बोली कि चले जाना थोड़ी देर रूको तो सही, तो में रुक गया। फिर मैंने उसको गौर से देखा, तो उसने आज ब्लेक कलर की टाईट कमीज पहनी हुई थी और उसके अंदर का सब कुछ साफ-साफ दिख रहा था, क्योंकि उसने वाईट कलर की ब्रा पहनी हुई थी और वाईट कलर की पेंटी भी पहनी हुई थी। उसकी पेंटी तो उसके चूतड़ों में एकदम फंसी हुई थी, ऐसा लगता था कि वो सिर्फ ब्रा और पेंटी में खड़ी हो।

अब मेरा तो लंड पूरी तरह से तन गया था, जो मेरी पेंट के ऊपर से मेरे लंड का तना हुआ उभार साफ- साफ दिख रहा था। अब वो भी मेरे लंड को ही काफ़ी ध्यान से देख रही थी। फिर उसने मुझसे पूछा कि तुम कुछ लोगे? तो तब मैंने कहा कि कोल्डड्रिंक, तो वो कोल्डड्रिंक लाने के लिए चल दी। अब में उसके चूतड़ों को देख रहा था, जो कि इधर उधर मटक रहे थे। फिर वो कोल्डड्रिंक लेकर आई और मुझे दिया और देने के लिए झुकी तो मुझे उसके बूब्स की दरार दिखाई देने लगी। अब में उसको ही देखने लगा था और ड्रिंक लेना ही भूल गया था, तो वो भी कुछ नहीं बोली। अब उसको पता चल गया था कि में उसके बूब्स को देख रहा हूँ। फिर मुझे याद आया कि मुझे ड्रिंक लेना है तो मैंने जल्दी से ले लिया। फिर वो मुस्कुराते हुए बोली कि उूउउफफ्फ मलिक बेटा आराम से ले लो, कोई जल्दबाज़ी नहीं है। अब में उसकी बात सुनकर हैरान रह गया था। अब में समझ गया था कि वो भी तैयार है।

फिर वो मेरे पास में आकर बैठ गयी और में उसके कंधे पर अपना एक हाथ रखकर उसके बूब्स को सहलाने और दबाने लगा था और फिर वो अपना दुप्पटा उतारने लगी। तब मैंने कहा कि अभी नहीं मेरी जान, में तुझको अपने हाथों से नंगा करूँगा। तब वो बोली कि हाँ ये भी ठीक है, मुझको नंगा करते वक़्त तुम अच्छे से मेरी प्यासी चूत का मज़े ले लेना। अब आज मेरी दिल की मुराद पूरी हो रही थी, उसका बदन वाकई में काफ़ी गजब का था, एकदम मुलायम चिकना। अब उसको सहलाने में बहुत मज़ा आ रहा था, क्योंकि मैंने उसकी कमीज उतार दी थी। अब वो सिर्फ़ ब्रा और सलवार ही पहने हुई थी, हाए वो क्या गजब का माल लग रही थी? फिर मैंने उसके होंठ चूमने शुरू किए और उसके बूब्स को भी दबाने लगा था। अब वो धीरे-धीरे गर्म हो रही थी। फिर उसने मेरी शर्ट और पेंट उतार दी। अब में सिर्फ़ अंडरवियर में था। फिर वो मेरे खड़े हुए लंड को देखने लगी जो मेरी अंडरवेयर में से बाहर आ गया था।
फिर वो मेरे लंड को देखकर बोली कि मलिक वाकई में तुम्हारा लंड तो बहुत बड़ा और मोटा है, तुम्हारा लंड चूत में लेकर इस प्यासी चूत की प्यास बुझा दूँगी। ख़ैर फिर उसने धीरे से मेरा लंड बाहर निकाल लिया और उसको चूसने लगी थी। अब मुझे भी बहुत मज़ा आने लगा था। फिर मैंने भी धीरे से उसकी सलवार और पेंटी उतार दी और फिर उसकी ब्रा भी उतार दी। अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी और बहुत ही गजब की लग रही थी। फिर मैंने भी उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया। अब वो काफ़ी तड़प रही थी और मेरा लंड भी तना जा रहा था। फिर में उसके ऊपर चढ़ गया और अपना लंड उसकी चूत से टिका दिया और कस-कसकर उसके बूब्स को रगड़ने लगा था। अब वो सिसकारियाँ ले रही थी सीईईईईई मेरे राजा, अब जल्दी से पेल डालो, अब मुझको मत सताओ, चोद दो मेरी इस चूत को, साली बहुत तरसी है तुम्हारे लंड के लिए, अब फाड़ दो इसको। अब मुझसे भी नहीं रहा जा रहा था तो मैंने अपना लंड झटके से उसकी कसी हुई चूत में घुसा दिया। फिर वो धीरे से कहराई हाईईईई रे फाड़ डाला, आह, अब मेरे लंड का टोपा अंदर घुस गया था।
फिर में थोड़ी देर तक बिना कोई हरकत किए ऐसे ही पड़ा रहा और उसके होंठो को चूमते हुए उसके बूब्स के निप्पल को सहलाता जा रहा था। अब वो भी काफ़ी गर्म हो चुकी थी। फिर मैंने अपना लंड बाहर निकालकर एक ज़ोर का धक्का मारा तो मेरा लंड पूरा का पूरा अंदर घुस गया। फिर वो और कहराई हाईईईई रे मार डाला रे, फाड़ दी हाईईईईईई मेरी चूत। अब में कस-कसकर धक्के लगाने लगा था। अब वो भी मस्त हो गयी थी और पता नहीं क्या-क्या बोल रही थी? हाईईईईईईई रे मारा डाला जालिम, बहुत मज़ा आ रहा है मेरे राजा और कसकर पेल डालो, हाँ ऐसे ही चोदो, हाईईई, सीईईईईईई, उईईई, मज़ा आ रहा है, हाईई और कसकर, फाड़ डालो मेरी चूत को, साले अब देखती हूँ कितना दूध पिया है तूने अपनी माँ के बूब्स का, अब मेरा पीकर दिखा।
अब में भी जोश में आ गया था और ये सुनकर और भी जोश में चढ़ गया था और उससे बोला कि साली कुत्तियाँ चुप हो, चुदती रह मादरचोद, फाड़ डालूँगा तेरी चूत, समझी रंडी, साली। अब वो और भी मस्त हो गयी थी और कराह रही थी हाईईई, सीईईईईईईई और पेलो राजा, आआआहह मज़ा आ गया रे और कसकर चोद मुझको, फाड़ डालो मेरी चूत को, उईईईईई, सस्स्स, हाईईईई रे, उईईईईइ माँ, आआआ में मरी, हाईईईईईई। अब मुझको उसे चोदते हुए 30 मिनट हो गये थे, वो अब तक कई बार झड़ चुकी थी। तभी मेरा ध्यान उसकी गांड पर गया तो मैंने उसका छेद छूकर देखा तो मुझे बड़ा कसा हुआ लगा। फिर तब उसने पूछा कि अब क्या इरादा है? गांड भी मारेगा क्या मेरी? तो तब मैंने कहा कि हाँ बिना चोदे तो नहीं छोडूंगा तुझको और फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत में से बाहर निकाल लिया और उसे कुत्तियाँ की तरह खड़ा कर दिया। अब मुझे उसकी गांड का गुलाबी छेद साफ दिख रहा था। अब मेरा लंड उसकी चूत के पानी से पहले से ही गीला था तो मैंने उसकी गांड से अपना लंड सटा दिया और हल्के से एक धक्का लगा दिया तो मेरा लंड 2 इंच उसकी गांड में घुस गया। फिर वो चिल्ला उठी आह में मररररर गयी रे, हाईई बहुत दर्द हो रहा है। लेकिन मैंने उसकी एक नहीं सुनी और फिर से एक धक्का लगा दिया और बार-बार धक्के लगाने लगा था।
फिर 10 मिनट के बाद वो थोड़ी नॉर्मल हो गयी। अब उसको भी मज़ा आ रहा था। अब वो सिसकने लगी थी हाईईईईई रे इसमें तो चूत से भी ज़्यादा मज़ा आता है और कसकर पेल मेरे राजा, हाईईईई रे बहुत मजा आ रहा है, सीईईईई, हाईईई, चोद दो, सीईईईईई और कसकर, उईईईईईई माँ, आआआ, बहुत मजा आ रहा है और अब में उसको चोदता ही जा रहा था। फिर मैंने करीब 20 मिनट तक उसको चोदा। अब मेरा लंड झड़ने वाला था तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी, साली क्या मस्त गांड है तेरी? अब तो तू मेरी हो गयी है, अब रोज तेरी कसकर चुदाई किया करूँगा, साली, रंडी, तू बहुत मस्त औरत है, हाए मज़ा आ गया, हाईईईईईईई रे मेरा निकलने वाला है रे और फिर मेरा पानी उसकी गांड में ही निकल गया। फिर हम काफ़ी देर तक चिपककर लेटे रहे और थोड़ी देर के बाद में उठा और अपने कपड़े पहन लिए तो तब वो बोली कि राजा अब तो मेरी रोज चुदाई करनी पड़ेगी। फिर तब मैंने कहा कि ठीक है करूँगा मेरी रानी और फिर उसके बाद मैंने उसे खूब जमकर चोदा और हम दोनों ने खूब मजा किया ।।
धन्यवाद

loading...

loading...

Related Post & Pages

Hot and pretty Russian GF Verona Sky enjoys hot morning analfuck Beautiful romantic Russian girlfriend has a kinky habit - this charming girl prefers to start every ...
Indian Xxx - Indian bengali kolkata girl sex with uncle - XXX Porn In... admin 41 mins ago 116 Views0 Likes Best indian sex video collection - 7 min admin 41 mins ago 110 Vi...
Double Anal Sluts - XXXMS - Free Porn Movies in HD Brazzers Cast: Brittany Bardot, Belle Claire, Ria Sunn, Kristy Black Fun, freaky performer Proxy Paige is an ...
Just cute all natural girl with small tits Emma Del Rey is topping dic... Nothing that special - just ordinary fuck with all natural Russian girl. This gal with small tits lo...
Indian Xxx - Desi Couple Hot Playing and Hard Fucking on Skype Chat De... Indian Xxx - Desi Couple Hot Playing and Hard Fucking on Skype Chat Desihdx - XXX Porn Indian Po...

loading...

Bollywood Actress XXX Nude